कहीं उड़ तो नहीं रहा आपके 500 के नोट का प्रिंट

कहीं उड़ तो नहीं रहा आपके 500 के नोट का प्रिंट

पीड़ित का दावा कि जेब में रखे रखे अपने आप उड़ गया प्रिंट

मुरादाबाद: नोटबंदी के पचास दिनों के बाद अभी भी बैंक और एटीएम सामान्य नहीं हो पाए हैं. वहीं इस नोट बंदी के चक्कर में नए नोट पाकर भी कुछ लोग परेशान हैं. जी हां मुरादाबाद में कुछ इसी तरह का मामला सामने आया है, यहां कटघर क्षेत्र में रहने वाले मजदूर को कोई व्यक्ति नयी करेंसी के 500 रुपए के दो नोट यानि हजार रुपए देकर गया था. करीब सप्ताह भर तक ये नोट उसकी जेब में रहे और जब उसने उन्हें बाहर निकाला तो उसने देखा की उनका एक साइड से प्रिंट उड़ चुका था जबकि दूसरी तरफ प्रिंट बिलकुल सही था. परेशान मजदूर तब और परेशान हो गया जब शहर में किसी भी बैंक ने ये नोट लेने से मना कर दिया. हार कर वो आज जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचा और रुपए बदलवाने की गुहार लगवाई.

बिना धोए उड़ा प्रिंट

कटघर के देहरी गांव निवासी राजू वर्मा पीतल कारीगरी का काम करता है और रोजाना तमाम लोग उसे काम दे जाते हैं और मजदूरी देकर चले जाते हैं. राजू की मानें तो करीब ये पांच—पांच सौ के दो नोट उसे कोई पिछले सप्ताह दे गया था. तब नोट बिलकुल ठीक थे उसने अपनी जेब में रख लिए और जब दो दिन पहले किसी सामान को खरदीने के लिए उसने नोट जेब से निकाले तो उसका हाल बेहाल हो चुका था. पांच सौ के नोट की एक साइड लगभग भद्दी से हो गयी थी और लिखावट भी मिट रही थी. जब उससे पूछा गया की पानी में तो नहीं धोया तो उसने कहा कि अगर ऐसा किया होता तो दोनों साइड से नोट खराब होना चाहिए.

बैंक में नहीं बदला गया नोट

इन नोटों को बदलने के लिए वो अपनी फेडरल बैंक भी गया और बैंक ऑफ़ बड़ौदा भी गया, वहां ये तो पता चल गया की नोट असली है लेकिन बैंक स्टाफ ने उसका नोट नहीं बदला. अब हैरान परेशान राजू जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचा और मदद की गुहार लगवाई. उसने कहा कि मेरी गलती क्या है जो मुझे गरीब को सजा दी जा रही है.
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned