भारत बंद: बैंक कर्मियों ने तालाबंदी कर मोदी सरकार के खिलाफ जमकर की नारेबाजी

Highlights
-देश भर की ट्रेड यूनियन ने किया था आज भारत बंद का आह्वान
-जनपद में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक कर्मी रहे हड़ताल पर
-आम लोगों को कैश के लिए उठानी पड़ी दिक्कत
-स्टेट बैंक ऑफ इंडिया हड़ताल में शामिल नहीं रहा

By: jai prakash

Published: 08 Jan 2020, 03:56 PM IST

मुरादाबाद: देशव्यापी ट्रेड यूनियन के भारत बंद का असर जनपद में भी देखने को मिला, यहां भी बड़ी संख्या में तमाम यूनियन ने भारत बंद का समर्थन किया। जिसमें सार्वजनिक क्षेत्र के प्रमुख बैंक बंद रहे। कर्मचारियों ने तालाबंदी कर केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। वहीँ बैंक की इस हड़ताल से आम ग्राहकों को ख़ासा दिक्कतों का सामना करना पड़ा। वहीँ कहीं से भी कोई हिंसा या उपद्रव की सूचना नहीं है।

यह भी पढ़ें इतने कम दाम सुनकर उमड़ पड़ी भीड़, मिस्र की प्याज से महक रही रसोई

सरकार के खिलाफ गरजे
केंद्र सरकार की आर्थिक नीतियों और श्रम कानूनों के विरोध में आज देश की बड़ी ट्रेन यूनियन ने भारत बंद का आह्वान किया था। मुरादाबाद में इसका असर व्यापक रूप से देखने को मिला। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक कर्मी सिविल लाइन स्थित इलाहबाद बैंक पर इकट्ठे हुए और तालाबंदी कर हड़ताल शुरू कर दी। कर्मचारियों ने केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

यह भी पढ़ें भारत बंद के आव्हन पर श्रमिक संगठनों ने की देशव्यापी हड़ताल, जुलूस निकालकर जताया विरोध- देखें वीडियाे

इसलिए की हड़ताल
स्थानीय शाखा प्रभारी मनोज शर्मा ने बताया कि आज एक दिवसीय हड़ताल सरकार की नीतियों के खिलाफ है। बिना किसी योजना के बैंकों का विलय किया जा रहा है बैंकों पर जबरन दबाब बनाया जा रहा है। यही नहीं नयी भर्ती नहीं की जा रही। उन्होंने बताया कि इस हड़ताल में सभी बैंक कर्मियों का समर्थन शामिल है।

यह भी पढ़ें BJP विधायक के समर्थकों की गुंडई, टोलकर्मियों के साथ की मारपीट

इतना लेनदेन प्रभावित
यहां बता दें कि बैंक की हड़ताल के चलते वित्तीय लेनदेन काफी प्रभावित हुआ, बड़ी संख्या में सुबह से एटीएम खाली रहे। चूंकि हड़ताल में स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया और प्रथमा बैंक शामिल नहीं थे, तो यहां रोजाना की तरह कामकाज चलता रहा। ऐसा माना जा रहा है कि करीब पांच सौ करोड़ से ऊपर का लेनदेन इस एकदिवसीय हड़ताल से प्रभावित होगा।

jai prakash
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned