कभी सबसे करीबी रहे नेता ने बताया, क्यों नोटबंदी के खिलाफ हैं मायावती

कभी सबसे करीबी रहे नेता ने बताया, क्यों नोटबंदी के खिलाफ हैं मायावती
mayawati

यह नेता लंबे समय तक मायावती का करीबी रहा है

मुरादाबाद: कभी मायावती के ख़ास सिपहसलार रहे स्वामी प्रसाद मौर्य ने नोटबंदी पर बोलते हुए कहा कि मायावती की अरबों की काली कमाई बंद हो गयी है, इसलिए जब पूरा देश इस फैसले के साथ खड़ा है तो वो इसका विरोध कर रहीं हैं. मौर्य मुरादाबाद में सैनी समाज के कार्यक्रम में शामिल होने आये थे. यहां उन्होंने स्थानीय पिछड़े समाज के भाजपा नेताओं से बात की, जिनमें हाल ही में भाजपा में शामिल हुए नेता थे. मौर्य ने अखिलेश सरकार द्वारा शिलान्यास और लोकर्पण पर कहा कि वे मान चुके हैं की २०१७ में उनकी सरकार नहीं बन रही इसलिए आधे—अधूरे कार्यों का उद्घाटन कर अपने नाम की शिलापट लगवा रहे हैं.

मौर्य ने किया इंकार

स्वामी प्रसाद मौर्य बसपा छोड़ने के बाद मंगलवार को दूसरी बार मुरादाबाद पहुंचे थे. जब उनसे पूछा गया की क्या वे भाजपा से मांग करेंगे की कि सीएम पद पिछड़े या दलित वर्ग के प्रत्याशी को दिया जाए. इस पर मौर्य ने कहा कि मांग जनहित के कार्यों की होती है, इसलिए अभी फ़िलहाल इस तरह की कोई मांग नहीं है. इसके साथ ही मौर्य ने मोदी सरकार के नोटबंदी के कदम को आम आदमी और किसान के लिए बेहतरी का सबब बताया. साथ ही अपने वर्ग के नेताओं से स्थिति को लेकर चर्चा भी की.

भाजपा में शामिल हुए था मौर्य


यहां बता दें कि जनपद और मंडल में स्वामी प्रसाद मौर्य के बसपा से नाता तोड़ने के बाद बड़ी संख्या में पिछड़े समाज के नेता भाजपा में शामिल हो गए थे. मौर्य मंगलवार को दो विधान सभाओं के पिछड़ा वर्ग सम्मेलन में भी भाग लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं का उत्साह बढ़ाएंगे.
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned