EXCLUSIVE: अब सूबे की इस जेल का रंग हुआ भगवा,बचाव में ये बोले अधिकारी

एक साल में सूबे के अलग अलग जिलों में सरकारी इमारतों का रंग रोगन भगवा होता चला गया।जिला कारागार की दीवार पर देखने को मिल रहा है।

By: jai prakash

Published: 24 Jul 2018, 02:05 PM IST

जय प्रकाश@पत्रिका

मुरादाबाद: नेताओं और अफसरों की जुगलबंदी किसी से छिपी नहीं है। इस गठजोड़ से आम जनमानस को फायदा भले ही न हो लेकिन किसका होता है ये जगजाहिर है। सरकार बदलने के साथ ही अफसरों की नियत और सोच में भी फर्क देखने को मिल जाता है। जिस कारण अक्सर विपक्षी दल और अन्य लोग सत्ता के रंग में रंगे होने का आरोप भी लगाते हैं। कुछ ऐसा ही आजकल यूपी में भी देखने को मिल रहा है,बीते एक वर्ष की योगी सरकार में। तमाम अफसर सत्ता के रंग में रंगे नजर आ रहे हैं। इसका सबसे बड़ा उदाहरण खुद को सरकार के मुखिया की सोच का होने का दिखावा करने सबसे प्रमुख है। जिसमें बीते एक साल में सूबे के अलग अलग जिलों में सरकारी इमारतों का रंग रोगन भगवा होता चला गया। इसमें सरकारी स्कूल,अस्पताल व अन्य जगहों के साथ अब जेल भी शामिल हो गयी हैं। जी हां कुछ ऐसा ही नजारा इन दिनों मुरादाबाद जिला कारागार के मुख्य गेट की दीवार पर देखने को मिल रहा है। जोकि बीते कई सालों से अपने परम्परागत रंग के बजाय हाल फिलहाल दिनों में भगवा कलर में कर दी गयी है। जेल अधिकारी इसे सामान्य बता रहे हैं।

बाबा साहेब की प्रतिमा हटाने पर भड़का दलित समाज, भाजपा सरकार के खिलाफ कह दी ये बड़ी बात

ये बोले अधिकारी

जेल और पुलिस विभाग की ज्यादातर सभी इमारतें पूरे सूबे में अपने परम्परागत रंगों में ही देखने को मिलती हैं। लेकिन स्थानीय जेल अफसरों की चापलूसी कहें या खुद के सत्ता के मुखिया के प्रति अपने समर्पण की सोच। जिसका परिणाम इन दिनों जेल की चाहर दिवारी पर दिख रहा है। जब जेल अधीक्षक एस एच एम रिजवी ने इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने जबाब दिया कि जेल में आने वाले कैदी और उनके परिवार को घर जैसा माहौल देने के लिए जेल में मल्टी कलर कराया गया है। जेल के अंदर ज्यादा तर बैरक के बाहर हरे रंग कराया गया है। कोई भगवा रंग नही है अगर जेल के अलग अलग हिस्से में अलग अलग रंग कराया गया है। वैसे मेरा पसंदीदा रंग ओरेंज कलर है यह रंग कराने का मकसद की किसी को खुश करना नही है। बस जेल की सुंदरता बढ़ाना सबको जेल में भी घर जैसा माहौल देना ही हमारा मकसद है। जेल का गेट बाहर की दीवारें अंदर के बैरक जेल के अंदर गार्डन सब जगह अलग अलग रंग से रंगाई करायी गयी है।

SBI Clerk Prelims Result 2018 : स्टेट बैंक आॅफ प्रिलिम्स का रिजल्ट घोषित, एेसे कर सकते है चेक

पहले भी सरकारी इमारतों को रंगा गया

यहां बता दें कि इससे पहले जनपद में बिलारी तहसील में एक सरकारी स्कूल को भी भगवा कलर में रंग दिया गया था। तब भी अधिकारीयों ने इसे महज इत्तेफाक बताया था,ठाकुरद्वारा तहसील में ब्लाक परिसर को भी जब भगवा रंग में रंग दिया गया था तब भी सवाल उठे थे। लेकिन हर बार अधिकारीयों ने इसे महज इत्तेफाक ही बताया। लेकिन इतना साफ़ है कि सत्ता की रौ में बह रहे अधिकारीयों की ये सिर्फ महज सत्ता के प्रति समर्पण से ज्यादा कुछ नहीं है।

मोदीराज में विद्युत विभाग ने 3 साल पहले टांगे मीटर, लेकिन आज तक नहीं पहुंची बिजली

चढ़ रहा है अधिकारीयों पर सत्ता का रंग

जिला कारगार के भगवा रंग को लेकर भले ही कोई आपत्ति अभी नहीं है और न ही होगी। लेकिन ये चर्चा आम है कि अब हर विभाग पर सत्ताधारी भाजपा का रंग चढ़ता जा रहा है।

 

Show More
jai prakash
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned