पत्रिका असरः स्वास्थ्य विभाग ने खामिया पाने पर 37 निजी अस्पतालों को किया सील

Iftekhar Ahmed

Publish: Jan, 14 2018 08:40:20 PM (IST)

Moradabad, Uttar Pradesh, India
पत्रिका असरः स्वास्थ्य विभाग ने खामिया पाने पर 37 निजी अस्पतालों को किया सील

अवैध क्लीनिकों के खिलाफ स्वास्थ्य विभाग ने छेड़ रखा है अभियान

मोरादाबाद. जनपद में झोलाछाप डॉक्टरों और अवैध क्लीनिकों के खिलाफ स्वास्थ्य विभाग ने अभियान छेड़ रखा है। पिछले दो दिनों में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने आठ अल्ट्रासाउंड केंद्र को मानकों की अनदेखी के चलते सील कर दिए हैं, जबकि बिना मान्यता के चल रहे 37 निजी क्लीनिकों पर ताला लगा दिया है। इसके साथ ही ज्वाइंट डायरेक्टर डॉ रंजन गौतम के नेतृत्व में बनी टीम ने शिकायत मिलने पर जनपद के 15 क्लीनिकों को नोटिस जारी कर जबाब मांगा है।

गौरतलब है कि शहर में निजी अस्पतालों की मनमानी को लेकर बीते माह पत्रिका ने कई खबरें प्रकाशित की थी। पत्रिका की खबर का संज्ञान लेते हुए स्थानीय स्वास्थ्य विभाग के अधिकारीयों ने कार्रवाई की बात कही थी। इसके बाद डिप्टी सीएमओ डॉ. रंजन गौतम ने टीम लगाकर अस्पतालों की कार्यप्रणाली को चेक करवाया था। अब उसी जांच रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई शुरू की जा चुकी है।

 

स्वास्थ्य विभाग ने ज्वाइंट डायरेक्टर रंजन गौतम के नेतृत्व में टीम बनाकर अवैध क्लीनिकों पर छापेमारी की गई तो 37 क्लिनिक बगैर मान्यता के नियमों की अनदेखी करते हुए मिले। इसके बाद छापेमारी टीम ने सभी क्लिनिक सील कर दिए। जनपद में संचालित आठ अल्ट्रासाउंड केंद्र भी नियम विरुद्ध संचालित हो रहे थे। इनको भी स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मौके पर ही सील कर दिया। अब इन सभी के खिलाफ इंडियन मेडिकल कॉउंसिल के नियमों के तहत परिवाद दायर करने की तैयारी की जा रही है। संयुक्त निदेशक रंजन गौतम के मुताबिक पन्द्रह और क्लीनिकों की भी जांच की जा रही है । शिकायत मिलने के बाद इन सभी पन्द्रह क्लीनिकों को भी नोटिस जारी किए गए हैं। एक सप्ताह में जवाब दाखिल करने को कहा गया है। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक छापेमारी का यह अभियान आगे भी लगातार जारी रहेगा।

इससे पहले करीब दो महीने पहले पचास झोलाछाप डाक्टरों पर भी एफआईआर दर्ज करवाई गई थी। अब सीधे अस्पताल सील करने की कार्रवाई चल रही है।

 

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned