अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के नाम पर उगाही, इस हिंदू संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष के खिलाफ केस दर्ज

Highlights
- मुरादाबाद में Shri Ram Mandir निर्माण के नाम पर वसूली का मामला

- रसीद पर कैबिनेट मंत्री और भाजपा जिला अध्यक्ष की फोटो का इस्तेमाल

- भाजपा जिलाध्यक्ष ने संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष के खिलाफ दर्ज कराया केस

By: lokesh verma

Published: 26 Dec 2020, 12:29 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मुरादाबाद.
अयोध्या (Ayodhya)) में निर्माणाधीन श्रीराम मंदिर (Shri Ram Mandir) निर्माण के नाम पर अवैध वसूली का मामला प्रकाश में आया है। भाजपा जिलाध्यक्ष राजपाल सिंह चौहान ने विश्व हिंदू महाशक्ति संगठन के अध्यक्ष के खिलाफ मझोला थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। भाजपा (BJP) जिलाध्यक्ष का आरोप है कि संगठन के पदाधिकारी कैबिनेट मंत्री भूपेंद्र सिंह और मेरी फोटो रसीद पर लगाकर लोगों से धन वसूली कर रहे हैं। वहीं, कैबिनेट मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा है कि उनका इस मामले से कोई संबंध नहीं है। यदि उनके फोटो का इस्तेमाल किया जा रहा है तो इन लोगों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

यह भी पढ़ें- राम मंदिर परिसर का हो सकता है विस्तार, नजूल की भूमि के लिए प्रशासन से होगी बात

भाजपा जिलाध्यक्ष राजपाल सिंह चौहान ने बताया कि श्रीराम मंदिर निर्माण के नाम पर लगातार वसूली की शिकायतें सामने आ रही हैं। श्रीराम मंदिर निर्माण के नाम पर विश्व हिंदू महाशक्ति संघ नाम का यह संगठन लोगों से अवैध वसूली कर रहा है। उन्होंने बताया कि आरोपियों ने चंदे की रसीद पर कैबिनेट मंत्री चौधरी भूपेंद्र सिंह के साथ उनका फोटो लगा रखा है। उन्होंने साफ किया कि श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए कोई धन नहीं लिया जा रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि सोशल मीडिया के माध्यम से भी विश्व हिंदू महाशक्ति के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर प्रेमवीर सिंह ने कुछ रसीद पोस्ट की हैं। थाना प्रभारी अजय पाल सिंह ने बताया कि भाजपा जिलाध्यक्ष की तहरीर पर विश्व हिंदू महाशक्ति संगठन के अध्यक्ष ठाकुर प्रेमवीर सिंह के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

इस संबंध में राष्ट्रीय अध्यक्ष विश्व हिंदू महाशक्ति संघ ठाकुर प्रेमवरी सिंह ने सफाई देते हुए कहा है कि हमाने संगठन के पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं के लिए ही रसीद बनाई थी, ताकि अयोध्या में श्रीराम मंदिर के निर्माण में हमारा संगठन भी सहयोग कर सके। उन्होंने कहा कि इन रसीदों के माध्यम से जो भी धनराशि एकत्रित होती, उसे मंदिर ट्रस्ट में ही जमा करना था। फिलहाल इन रसीदों को रोका गया है। किसी से भी धन एकत्र नहीं किया गया है। वहीं, रसीद पर फोटो के संबंध में कैबिनेट मंत्री भूपेंद्र सिंह का कहना है कि उनका इस प्रकरण से कोई संबंध नहीं है और ना ही वह इन लोगों को जानते हैं। यदि रसीद पर मेरे फोटो का इस्तेमाल किया गया है तो यह गलत है। इन लोगों के खिलाफ एक्शन होना चाहिए।

यह भी पढ़ें- 'खसरा' में यूपी सरकार ने किया नया बदलाव, मिलेगी ढेर सारी सुविधाएं

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned