नगर निकाय चुनाव 2017: मेयर पद के लिए यहां चाचा भतीजे में आमना-सामना- देखें वीडियो

कांग्रेस से मेयर पद के उम्मीदवार रिजवान कुरैशी के सगे चाचा इकराम कुरैशी सपा के जिला अध्यक्ष होने के साथ ही मुरादाबाद देहात विधान सभा से विधायक भी हैं।

By:

Published: 10 Nov 2017, 04:58 PM IST

जय प्रकाश
मुरादाबाद: निकाय चुनाव में शुक्रवार को नामांकन के आखिरी दिन के साथ ही अब प्रचार ने जोर पकड़ना शुरू कर दिया है। पार्टियां और उनके प्रत्याशी अपनी-अपनी जीत के दावे बड़े-बड़े वादों के साथ कर रहे हैं। लेकिन मुरादाबाद में मेयर पद के लिए एक अजब ही लड़ाई नजर आ रही है। यहां खून के रिश्तों पर दांव लग गया है।

देखें वीडियो भतीजे ने दिया ये जवाब

जी हां कांग्रेस से मेयर पद के उम्मीदवार रिजवान कुरैशी के सगे चाचा इकराम कुरैशी सपा के जिला अध्यक्ष होने के साथ ही मुरादाबाद देहात विधान सभा से विधायक भी हैं। इकराम कुरैशी इसे भतीजे द्वारा गद्दारी बता रहे हैं तो उधर भतीजे रिजवान कुरैशी कह रहे हैं कि अगर ये गद्दारी है तो वे रोज करेंगे। इसलिए पार्टियों में जंग के साथ ही चाचा भतीजे के बीच सियासी जंग के भी शहर में खूब चर्चे शुरू हो गए हैं।

देखें वीडियो क्या बोले चाचा

गौरतलब है कि बीते सप्ताह नगर निकाय चुनाव में प्रत्याशियों के एलान के साथ ही सभी पार्टियों के चेहरे साफ़ हो गए थे। सबसे पहले सपा ने पूर्व विधायक हाजी युसुफ अंसारी को मेयर उम्मीदवार घोषित किया। लेकिन सपाई अभी जश्न ही मना रहे थे कि उनकी टेंशन उनके ही परिवार से आ गई। यहां जिला अध्यक्ष हाजी इकराम कुरैशी व देहात विधायक के सगे भतीजे रिजवान कुरैशी को कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया। जिससे सपा खेमे में खलबली मच गई।

इसको सपा के लिए झटका माना जा रहा है। जिस दिन शाम को कांग्रेस ने उन्हें उम्मीदवार बनाया उसी दिन रात में जिला अध्यक्ष की हालत बिगड़ गई थी। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था। सपा प्रत्याशी के साथ नामांकन कराने आए हाजी इकराम कुरैशी ने कहा कि भतीजे ने गद्दारी की है। जीत समाजवादी पार्टी की ही होगी। इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

उधर चाचा के गद्दारी के सवाल पर उनके भतीजे और कांग्रेस उम्मीदवार रिजवान कुरैशी ने कहा कि वो शुरू से ही कांग्रेसी रहे हैं। उन्होंने बीते विधानसभा चुनाव में गठबंधन की वजह से सपा को चुनाव लड़ाया था। जहां तक अगर ये करना गद्दारी है तो वो ऐसा रोज करेंगे। बहरहाल मेयर चुनाव में कौन जीतेगे कौन हारेगा इसमें अभी समय है। लेकिन पार्टियों के बीच होने वाली रस्साकशी के साथ ही यहां चाचा भतीजे की जंग भी दिलचस्प हो गई है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned