पुलिसकर्मी ने पेश की मिसाल, बच्ची को बचाने के लिए गंदे नाले में कूदा

पुलिसकर्मी ने दिखाई दरियादिली तो लोगों ने बजाई तालियां

अमरोहा। लोग कहते हैं कि पुलिसवालों के सीने में दिल नहीं होता, लेकिन अमरोहा जिले के डिडौली थाना के जिवाई चौकी इंचार्ज ने इस कहावत को गलत साबित कर दिखाया है। जिवाई चौकी क्षेत्र में सीएल गुप्ता फार्म के पास एक तेज रफ्तार सेंट्रो कार ने एक टैम्पो में इतनी तेज टक्कर मारी की टैम्पो चार पांच पलटे खाते हुए एक नाले के पास जा रुका। इसके बाद राहगीरों की मदद से घायलों को निकाला गया। 

Image may contain: one or more people, people standing and outdoor

इतने में चौकी इंचार्ज संजीव कुमार भी वहां पहुंच गए। घायलों को तुरंत एम्बुलेंस से प्राइवेट अस्पताल में इलाज के लिए भेज दिया गया। वहीं मौके पर मौजूद किसी ने यह कह दिया के नाले में एक छह साल की बच्ची गिर गयी है। बस फिर क्या था चौकी इंचार्ज संजीव ने तुरंत अपने कपड़े उतारे और फैक्ट्री के केमिकल युक्त गंदे नाले में उतर गए और करीब पंद्रह मिनट तक बच्ची को नाले में खोजते रहे।

Image may contain: outdoor

इसी बीच किसी ने बताया कि बच्ची भी अस्पताल में है और अपने परिवार के साथ घर चली गई है। तब जाकर संजीव कुमार ने राहत की सांस ली और नाले से बाहर आए। इस दौरान मौके पर मौजूद सभी राहगीरों ने तालिया बजाकर संजीव की हौसला अफजाई की। बता दें केमिकल युक्त नाले का पानी इतना खराब है कि इसके अंदर जाने से चर्म रोग भी हो सकता है। मगर इसकी परवाह किए बिना संजीव कुमार ने मानवता का परिचय दिया और नाले में उतर गए। डिडौली थाना प्रभारी निरीक्षक विवेक शर्मा ने भी संजीव की इस दरियादिली की तारीफ की।

Image may contain: outdoor

एसआई हारून ने भी दिया था मानवता का परिचय

यहां बता दें कि इससे पहले मुरादाबाद में भी कांठ थाना में तैनात हारून खान ने भी शिवरात्रि पर मंदिर जाने वाली सड़क को खुद बनाने का कार्य कर मानवता का परिचय दिया था। जिसके लिए एसआई हारून खान को मुरादाबाद जिलाधिकारी जुहैर बिन सगीर ने सम्मानित भी किया।
Show More
Rajkumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned