यूपी के इस गांव में पुलिस ने दर्जनों बेगुनाह लोगों को दिया नोटिस, घर खाली करने का आदेश

यूपी के इस गांव में पुलिस ने दर्जनों बेगुनाह लोगों को दिया नोटिस, घर खाली करने का आदेश

sharad asthana | Publish: Aug, 13 2018 09:31:13 AM (IST) | Updated: Aug, 13 2018 09:37:27 AM (IST) Moradabad, Uttar Pradesh, India

रामपुर में मिलक खानम कोतवाली इंचार्ज ने दर्जनों लोगों को नोटिस भेज दिया है

रामपुर। जिलाधिकारी महेंद्र बहादुर सिंह के एक मैसेज के बाद बाढ़ प्रभावित इलाकों की पुलिस भी सक्रिय हो गई है। पुलिस ने बाढ़ प्रभावित इलाकों में दर्जनों लोगों को नोटिस भेजकर घर खाली करने काे कहा है। पुलिस का कहना है कि आप खुद अपने मकान खाली करके यहां से सुरक्षित स्थानों पर चले जाएं, जहां आपकी व्यवस्था की गई है। नोटिस मिलने के बावजूद नदी किनारे रहने वाले बाशिंदे मकान खाली करने को तैयार नहीं हैं। पुलिस के अनुसार, अगर गांव वालों ने खुद घर खाली नहीं किए तो पुलिस खुद उन्‍हें निकाल देगी।

यह भी पढ़ें: मुसीबत की सूचना भी नहीं दे पा रहे, आखिर क्या है मजबूरी

Rampur news

पूरे दिन किया निरीक्षण

रविवार को पूरे दिन लेखपाल से लेकर तहसीलदार, एसडीएम और एडीएम अपने-अपने इलाकों में बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करके पूरे दिन यह जानने की कोशिश करते रहे कि कहां-कहां किस शख्स को बाढ़ से दिक्कत आएगी। जहां पर उन्हें लगा कि यह मकान गिर सकता है, पहले उन्हें समझाया गया। जो गांव वाला नहीं माना तो संबंधित पुलिस स्टेशन को निर्देश दिया कि वह पहले नोटिस जारी करें। नोटिस का अगर वह शख्स पालन ना करें तो जबरदस्ती उसके मकान से निकाल कर किसी सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जाए, ताकि कोई अनहोनी की घटना ना हो सके। रविवार देर रात तक देर रात तक मिलक खानम कोतवाली इंचार्ज ने दर्जनों लोगों को नोटिस भेज दिया है।

यह भी पढ़ें: केरल में 94 साल बाद महाप्रलय, 20 हजार मकान और 10 हजार किमी सड़क बर्बाद

 

Rampur News

सरकारी स्‍कूल में जाने को कहा

इसके अलावा उन्‍होंने थाना मिलक खानम इंचार्ज ने खुद भी लोगों से कहा है क‍ि वे तत्काल अपने मकान से निकलकर सुरक्षित स्थान पर पहुंच जाएं। नदी में पानी बढ़ने से तेजी से कटान होने की संभावना है। ऐसी स्थिति में अगर घर गिरता है तो जानमाल की हानि होगी। उन्‍होंने यह भी कहा कि अगर नोटिस का पालन नहीं किया गया तो फिर पुलिस सख्ती से उनको घर से निकालकर सुरक्षित स्थान पर भेजेगी। उनके अनुसार, उन्‍हें उम्‍मीद है क‍ि ग्रामीण अपना मकान स्वयं खाली करके सरकारी स्कूल में चले जाएंगे।

यह भी पढ़ें: नदी की धार से बेघर ग्रामीण, सरकार के खिलाफ प्रदर्शन को मजबूर

Rampur News

बन चुकी हैं बाढ़ चौकियां

आपको बता दें कि जिले की तहसील स्वार टांडा और शाहबाद बाढ़ पीड़ित इलाके हैं, जहां पर दर्जनों गांव के बाशिंदों को बाढ़ की दिक्कत झेलनी पड़ती है। उसी से निपटने के लिए प्रशासन ने खाका तैयार कर लिया है। स्वार टांडा की बात करें तो डीएम ने एक माह पहले मीटिंग करके बाढ़ प्रभावित इलाकों के गांव मे बाढ़ चौकियां बना दी हैं। इनमें पुलिस के जवान लगा दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें: भारी बारिश मचा रही तबाही, इस बांध के 5 गेट खोले

Ad Block is Banned