script32 lakhs spent on MS and VIP road, still dark | एमएस व वीआईपी रोड पर 32 लाख खर्च, फिर भी अंधेरा, अधिकांश शहर अंधेरे में | Patrika News

एमएस व वीआईपी रोड पर 32 लाख खर्च, फिर भी अंधेरा, अधिकांश शहर अंधेरे में

हर साल शहर की स्ट्रीट लाइट व्यवस्था पर लाखों रुपए खर्च करने वाला नगर निगम वीआईपी रोड पर उजाला नहीं कर पा रहा है। बीते साल में स्ट्रीट लाइट की व्यवस्था में एमएस रोड और वीआईपी रोड पर ही करीब 33 लाख रुपए खर्च किए गए हैं, लेकिन फिर भी वीआईपी रोड पर अंधेरा है।

मोरेना

Published: April 27, 2022 04:00:01 pm

रवींद्र सिंह कुशवाह, मुरैना.एमएस रोड पर भी एलइडी लाइट लगवाई गई थीं, वे भी कई जगह बंद पड़ी हैं।
शहर के बाकी हिस्सों में तो स्थाई अंधेरा है। कुछ मोहल्लों में चौराहों और तिराहों पर खास एलईडी लाइट के लिए खंभे भी लगवाए गए थे और बल्व भी, लेकिन उनमें से भी ज्यादातर बंद हो चुके हैं। जानकारों के अनुसार एमएस रोड पर तो ज्यादातर हेलोजन के बल्व बदलवाए गए थे और कुछ जगह नई लाइट लगी थीं। लेकिन वीआईपी रोड का तो तकरीबन आधा हिस्सा ही अंधेरे में है। एमएस रोड पर कोतवाली के सामने से घुसते ही अंधेरा है। यह स्थिति नाला नंबर एक रोड तक लगभग समान है। इसके बाद पुलिस परेड ग्राउंड के बराबर वाले हिस्से में भी स्ट्रीट लाइट बंद हैं। वहीं पुलिस परेड ग्राउंड के मुख्य गेट के सामने पुलिस आवासों से होकर एसएएफ की जिम तक घुमाव वाले रास्ते पर भी स्ट्रीट लाइट नहीं है। यह स्थिति वीआईपी रोड और वनखंडी रोड के मिलान तक है। इसके बाद संजय कॉलोनी कॉर्नर से एसएएफ गेट तक स्ट्रीट लाइट दिखती है। लेकिन एसएएफ गेट के सामने अंबेडकर पार्क के आगे से एबी रोड पर अधूरी वीआईपी रोड पर स्ट्रीट लाइट नहीं है जबकि सुनसान इलाका होता है। अंदर गली-मोहल्लों तो स्ट्रीट लाइट के नाम पर छलावा किया जा रहा है। कुछ हाईमास्ट भी बंद हैं जबकि लाखों खर्च किए गए थे।
महिला संगठन उठा चुके हैं आवाज
शहर में गणेशपुरा, गोपालपुरा, नाला नंबर दो पर कई जगह व बाजार के हिस्सों में स्ट्रीट लाइट नहीं होने से लोगों को रात के समय खासी परेशानी होती है, महिलाओं को ज्यादा दिक्कत आती है। महिला सामाजिक संगठन जेसीआई मुरैना जागृति और जैन मिलन सहित अन्य महिला संगठन इस मुद्दे को नगर निगम के समक्ष, पुलिस अधीक्षक और महिला संगोष्ठियों में उठा चुके हैं, लेकिन नगर निगम फिर भी बेखबर है।
कागजों में होते हैं ज्यादातर काम
नगर निगम की कार्यप्रणाली प्रारंभ से संदिग्ध और विवादित रही है। कई मामले लोकायुक्त पुलिस संगठन एवं आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो तक पहुंचे और लंबित हैं। अनेक कर्मचारी लोकायुक्त पुलिस द्वारा पकड़े जा चुके हैं और जांच जारी हैं। ताजा मामला जीवाजी गंज सहित शहर में अन्य स्थानों पर लाल पत्थर से कराए गए कार्यों की लोकायुक्त जांच से जुड़ा है। पिछले माह ही लोकायुक्त पुलिस के निरीक्षक ने शिकायतकर्ता की अस्वस्थता के कारण मुरैना आकर उनके बयान दर्ज किए हैं।
एफआईआर तक हो चुकी हैं
नगर निगम की विवादित और संदिग्ध कार्यप्रणाली के साथ भ्रष्टाचार के अनेक मामले कार्रवाई के लिए लंबित हैं। टैंडर बेचने की राशि में हेरफेर के मामले में एक उपयंत्री सहित अन्य के खिलाफ करीब 15 दिन पहले ही धोखाधड़ी और अमानत में खयानत का मामला दर्ज हुआ है। इसके पहले लेखा विभाग से संबंधित अधिकारियों के विरुद्ध भी कार्रवाई हो चुकी है। इसके बावजूद कार्यप्रणाली में सुधार नहीं हो रहा। अनियमितताओं के आदी कुछ अधिकारी तो लोगों के फोन कॉल तक रिसीव नहीं करते। उन्हें डर है कि कोई बाद रिकॉर्ड न हो जाए, इसलिए कॉल करने पर व्हाट्सएप कॉल करते हैं।
फैक्ट फाइल
33 लाख रुपए के करीब खर्च हुआ है बीते साल वीआईपी व एमएस रोड पर।
50 प्रतिशत तक स्ट्रीट लाइट बंद हैं वीआईपी रोड पर, कई जगह लगी ही नहीं।
7 साल में कोई बड़ा प्रोजेक्ट भी शहर को पूरा करके नहीं दे पाया ननि।
70 प्रतिशत हिस्से में स्ट्रीट लाइट नहीं शहर भर में।
कथन-
स्ट्रीट लाइट - मुरैना
वीआईपी रोड पर एसएएफ गेट से एबी रोड हिस्से में नहीं स्ट्रीट लाइट।
-कथन-
बाजार में तो चारों ओर अंधेरा रहता ही है, कभी वीआईपी रोड से निकलना पड़े तो अधिकांश हिस्से में अंधेरा रहता है। हर साल नगर निगम लाखों रुपए स्ट्रीट लाइट के नाम पर खर्च करता है, लेकिन उजाला फिर भी समुचित नहीं हो पा रहा है।
मुकेश शर्मा, रहवासी, मुरैना
आना-जाना तो वीआईपी रोड से भी होता रहता है, नजर नहीं पड़ पाई होगी। हम दिखवा लेते हैं, कहां स्ट्रीट लाइट बंद हैं और कहां चालू हैं। जो बंद होंगी उनको चालू कराया जाएगा और नई लगवानी पड़ेगी तो व्यवस्था की जाएगी।
संजीव कुमार जैन, आयुक्त, नगर निगम, मुरैना।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

जयपुर में एक स्वीमिंग पूल में रात का सीसीटीवी आया सामने, पुलिसवालें भी दंग रह गएकचौरी में छिपकली निकलने का मामला, कहानी में आया नया ट्विस्टइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलचेन्नई सेंट्रल से बनारस के बीच चली ट्रेन, इन स्टेशनों पर भी रुकेगीNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयधन कमाने की योजना बनाने में माहिर होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, दूसरों की चमका देती हैं किस्मतCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: क्या फ्लोर टेस्ट में बच पाएगी MVA सरकार! यहां समझे पूरा गणितMaharashtra Political Crisis: शिवसेना में बगावत के बाद अब उपद्रव का डर! पोस्टर वॉर के बीच एकनाथ शिंदे के गढ़ ठाणे में धारा 144 लागूMaharashtra Political Crisis: नवनीत राणा ने की महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग, बोलीं- उद्धव ठाकरे की गुंडागर्दी खत्म होनी चाहिएBPSC Paper Leak: पेपर लीक मामले में गिरफ्तार हुए JDU नेता शक्ति कुमार, सबसे पहले पेपर स्कैन कर WhatsApp पर था भेजाAmarnath Yatra: अमरनाथ यात्रा से 4 दिन पहले प्रशासन अलर्ट, सुरक्षा व्यवस्था को लेकर उठाया बड़ा कदमMumbai News Live Updates: ठाणे के बाद अब मुंबई में धारा 144 लागू, बागी एकनाथ शिंदे के आवास की भी बढ़ाई गई सुरक्षाMaharashtra Political Crisis: एक्शन में शिवसेना! अयोग्य करार देने के लिए डिप्टी स्पीकर को भेजा 4 और MLA के नाम, 16 बागियों पर भी कार्रवाई की तैयारीAmit Shah on 2002 Gujarat Riots: गुजरात दंगों पर SC के फैसले के बाद बोले अमित शाह, PM मोदी को इस दर्द को झेलते हुए देखा है
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.