33 वर्ष बाद मिली संपत्तिबाई को उसकी जमीन

राजस्व निराकरण शिविर में कलेक्टर ने 17 प्रकरण मौके पर निपटाए

पोरसा. तहसील मुख्यालय पर शनिवार को आयोजित जन समस्या निवारण शिविर नंदपुरा गांव की 62 वर्षीय संपत्तिबाई के लिए वरदान साबित हुआ। कलेक्टर भास्कर लाक्षाकार के सामने 35 साल पुराना विवाद आया तो उन्होंने खास दिलचस्पी लेकर प्रकरण का निराकरण कराया। समस्या का निदान होने का संतोष संपत्तिबाई के चेहरे पर साफ दिखा।
नंदपुरा निवासी संपत्तिबाई ने 1985 में 13 बिस्वा जमीन खरीदी थी, उसी समय गांव के हरी सिंह ने 15 बिस्वा जमीन खरीदी थी, लेकिन हरीसिंह ही संपत्तिबाई की जमीन को जोतता रहा था, जिसमें संपत्तिबाई ने आवेदन किया। कलेक्टर ने मूल रजिस्ट्री मंगाई। कुल दो बीघा सात बिस्वा जमीन में से 13 बिस्वा संपत्तिबाई की और 15 बिस्वा हरीसिंह की पाई गई। जिस पर दोनों के बीच विवाद का निराकरण कराया। इस दौरान शिविर में पुलिस अधीक्षक आदित्य प्रताप ङ्क्षसह, एसडीएम उमेश शुक्ला, तहसीलदार भूपेन्द्र कैलासिया मौजूद थे।
शिविर के दौरान कलेक्टर ने कहा कि जिले में भूमि विवाद, बंटवारा, नामांतरण के प्रकरण लंबित नहीं रहने दिए जाएंगे। इस दौरान उनके सामने कुल 35 प्रकरण आए जिनमें से 17 का मौके पर ही निराकरण किया गया। शिविर में रजौधा के हरीसिंह, जसराम जंगजीत ने बंटवारे का आवेदन दिया। जिस पर कलेक्टर ने तहसीलदार को एक दिसंबर तक नामांतरण कर अवगत कराने तथा ग्राम पंचायत में पढ़कर सुनाने के निर्देश दिए। नगर के जेएस मोहल्ला की महिलाओं ने नाली रोके जाने की शिकायत की। जिस पर सीएमओ व टीआई को तत्काल मौके पर जाने के निर्देश दिए। बड़ापुरा के रामेश्वर राठौर ने आवेदन में बताया कि गांव के टिल्लू ने जबरन रास्ता रोक लिया हैं। जिस पर तहसीलदार व टीआई को मौके पर जाकर अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए। शिविर में राकेश तोमर ने भी आवेदन देकर कहा कि बिजलीपुरा के शिवराज सखबार उस पर झूठा प्रकरण दर्ज करा दिया है। जिस पर पुलिस अधीक्षक ने टीआई से बात की और कैश डायरी जिला मुख्यालय पर देखने के निर्देश दिए।


सरपंचों ने दिया कलेक्टर को ज्ञापन
शिविर के दौरान पंचायतों के सरपंच ने कलेक्टर को ज्ञापन देते हुए बताया कि पंचायतों में चल रहे निर्माण कार्यों को सहायक यंत्री व एपीओ मनरेगा की वजह से बंद हो गए हैं क्योंकि दोनों ही मुख्यालय पर नहीं रहते। इसलिए दोनों को हटाया जाए। अन्यथा सात दिवस बाद सरपंच धरने पर बैठैंगे। ज्ञापन देने वालों में जौंटई सरपंच सत्यवती, शिकहरा सरपंच राजवीर भदौरिया, हमीरपुरा सरपंच व रन्हेरा सरपंच के नाम शामिल हैं।

महेंद्र राजोरे Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned