बीहड़ों के बीच अफीम की खेती, करीब 10 करोड़ रुपए की अफीम जब्त

बीहड़ों के बीच सरसों और गेहूं की फसल के बीच लगा रखे थे अफीम के पौधे, करीब 60 क्विंटल अफीम के पौधे जब्त

By: Shailendra Sharma

Updated: 04 Mar 2021, 04:19 PM IST

मुरैना. वैसे तो बीहड़ों का नाम सुनते ही आपके जहन में सबसे पहले बागियों का ख्याल आता होगा। लेकिन अब बीहड़ों में बागी नहीं बल्कि नशे की खेती का खेल खेला जा रहा है। मुरैना पुलिस ने सबलगढ़ इलाके में बीहड़ों के बीच एक खेत से बड़ी मात्रा में नशे की खेती पकड़ी है। खेत में गेहूं व सरसों की फसल के बीच में अफीम के पौधे लगाए गए थे। पुलिस ने खेत से 60 क्विंटल के करीब अफीम के पौधे जब्त किए हैं जिनकी कीमत करीब 10 करोड़ रुपए आंकी जा रही है। हैरानी की बात तो ये है कि सरकारी जमीन पर अतिक्रमण कर नशे की इस खेती को किया जा रहा था।

 

afeem.png

पौधों को उखाड़ने में लगा दो दिन का वक्त
मुरैना जिले में अवैध मादक पदार्थों की तस्करी के विरुद्ध एसपी के निर्देश पर बड़ा अभियान पुलिस चला रही है। इसी कड़ी में सबलगढ़ थाना पुलिस को सूचना मिली थी कि चंबल के बीहड़ों में गेहूं व सरसों की फसल की आड़ में अफीम की खेती सरकारी जमीन पर की जा रही है। सूचना के आधार पर जब पुलिस ने जांच की तो पाया कि चोखपुरा, अलीपुरा मौजा के लोग सरकारी जमीन पर अतिक्रमण कर अफीम की फसल गेंहू और सरसों के बीच में उगा रहे हैं। पुलिस ने ढाई बीघा जमीन में लगाए गए अफीम के पौधों को जब्त करने की कार्रवाई की है। चार खेतों से पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से करीब 60 क्विंटल अफीम के पौधों को जब्त किया है जो कि तीन से चार फुट के हो चुके थे। अफीम के पौधों को खेतों से उखाड़ने और फिर थाने तक लाने में पुलिस को दो दिनों का वक्त लग गया जिससे समझा जा सकता है कि कितने बड़े पैमाने पर अफीम की खेती की जा रही थी। पुलिस ने अफीम के पौधों को जब्त कर थाने में पहुंचा दिया है और खेत मालिक के खिलाफ एनडीपीसी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया जा रहा है।

देखें वीडियो- एनएसयूआई ने किया तिलक कॉलेज का घेराव

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned