क्वारी नदी में धार टूटी, ठहरे पर काई जमने से नहीं दिखता पानी

सबलगढ़ से मुरैना होते हुए भिण्ड जिले तक बहने वाली क्वारी नदी की कई जगह धार टूट चुकी है।

By: Ravindra Kushwah

Published: 17 Feb 2021, 12:40 PM IST

मुरैना. कई जगह बने स्टॉप डैम के नीचे पानी बहना बंद हो गया है और गड्ढों में भरे पानी पर काई (शैवाल) की परत लंबी दूरी तक जम गई है। इससे पानी तो दिखाई भी नहीं देता है। किसानों और पशु पालकों का मानना है कि इससे भीषण कर्मी के समय न केवल पशुओं का पीने के पानी का संकट उत्पन्न हो सकता है बल्कि निस्तार के पानी के लिए भी समस्या आ सकती है। हालांकि क्वारी नदी पर मुरैना जिले में स्टॉप डैम की एक पूरी श्रंृखला होने से कई जगह पशुओं के पीने के लिए पानी भरा रहता है, लेकिन फिर भी किनारे के लोग चिंतित हैं। क्योंकि कई गांव स्टॉप डैम से दूर हैं। दिमनी घाट पर भी लगभग यही स्थिति बनने वाली है। हालांकि बुधारा घाट के पास स्टॉप डैम के जल भराव क्षेत्र में अभी पर्याप्त पानी भरा ुहुआ है, लेकिन नीचे पानी गर्मी के समय दूषित हो सकता है। किसान जोमदार सिंह का कहना है कि वैसे तो काई से पानी का वाष्पन कम होता है, लेकिन ठहरा हुआ पानी गर्मियों में दूषित हो सकता है।
दर्जनों गांवों के लिए सहारा है क्वारी नदी
क्वारी नदी जिले में चंबल के बाद सबसे बड़ी है। बरसात में इसमें बाढ़ के हालात भी बनते हैं। इससे लोग पशुओं के उपयोग के अलावा निस्तार का पानी भी लेते हैं और सिंचाई भी करते हैं। क्वारी नदी पर डैम भी बनाया जा रहा है ताकि रामपुर पहाड़ी क्षेत्र के लोगों को पर्याप्त पानी पीने के साथ सिंचाई के लिए भी मिल सके

Ravindra Kushwah
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned