जेल में बंदी की मारपीट के मामले में हाईकोर्ट ने मांगी रिपोर्ट

- मारपीट के मामले में जेल प्रशासन द्वारा उपचार न कराने पर बंदी के चाचा ने लगाई रिट पिटीशन

By: Ashok Sharma

Published: 15 Sep 2021, 03:15 PM IST

मुरैना. जिला जेल मुरैना में ढाई महीने पूर्व हत्या व हत्या के प्रयास के मामले में बंद कुछ आरोपियों ने गांजा तस्करी के आरोप में बंद ब्रजबिहारी शर्मा की मारपीट कर दी थी। उसकी गर्दन की हड्डी में गंभीर चोट आना परिजन ने बताई लेकिन जेल प्रशासन द्वारा उसका समय पर उपचार नहीं कराया गया। बंदी के चाचा ब्रजमोहन शर्मा निवासी शंकरपुरा पोरसा ने हाईकोर्ट में रिट पिटीशन दायर किया। न्यायालय से मुरैना जेल प्रशासन को निर्देश दिए हैं कि मारपीट के शिकार बंदी के उपचार में क्या कदम उठाए, एक सप्ताह में सूची बनाकर न्यायालय को अवगत कराएं।
यहंा बता दें कि जिला जेल में बंदी रामब्रिज गुर्जर, अर्जुन गुर्जर, बलवीर गुर्जर, नरेन्द्र गुर्जर निवासी तिलोंधा थाना सरायछोला इनमें से एक हत्या व तीन हत्या के प्रयास में बंद हैं, ने २० जून को एक राय होकर गांजा तस्करी के आरोप में बंद ब्रज बिहारी शर्मा पर जानलेवा हमला किया और जमीन पर पटककर मारपीट की जिससे उसके गर्दन की हड्डी टूट गई। इसके बाद भी जेल प्रबंधन ने उसका प्रोपर इलाज नहीं कराया। यहां तक मेडिकल भी नहीं कराया। २९ जून तक परिजन जेलर से अनुरोध करते रहे कि ब्रजबिहारी का इलाज करवा दो लेकिन कोई सुनवाई नहीं की। ३० जून को डीजीपी से शिकायत की, तब २७ दिन बाद केन्द्रीय जेल ग्वालियर के अधीक्षक मनोज कुमार साहू जांच करने जिला जेल पहुंचे। उसके बाद भी बंदी का उचित इलाज नहीं हो सका।
एक महीने बाद हो सकी एफआइआर .....
जिला जेल में बंदी पर जानलेवा हमले के मामले में जेल प्रशासन ने मामले को दबाने का प्रयास किया। जब मामला डीजीपी तक पहुंचा और मीडिया में हाईलाइट हुआ तब एक महीने बाद जेल प्रशासन ने मामले में एफआइआर कराई है। जबकि उसी समय मेडिकल के बाद एफआइआर होनी चाहिए थी परंतु इस पूरे मामले में जेलर की भूमिका पर सवाल उठते रहे। हद तो तब हो गई जब डीजीपी के निर्देश पर केन्द्रीय जेल ग्वालियर से आए अधीक्षक ने भी जेलर के सुर में सुर मिलाते हुए जांच के नाम पर मामले को मोड़ दे दिया और मीडिया के सामने बयान दे गए कि जेलर ने समय समय पर ठीक कार्रवाई की जबकि एफआईआर एक महीने बाद जिस दिन अधीक्षक जांच करने आए, उसी दिन हुई।

Ashok Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned