scriptIn the rain, the drain crack became trouble for the people | बारिश में नाला पटाव बना लोगों के लिए मुसीबत | Patrika News

बारिश में नाला पटाव बना लोगों के लिए मुसीबत

locationमोरेनाPublished: Aug 27, 2022 02:17:34 pm

Submitted by:

Ashok Sharma

- एम एस रोड पर नाले की खुदाई से पसरी गंदगी, कार्य में सुस्ती से राहगीर व रहवासी परेशान

बारिश में नाला पटाव बना लोगों के लिए मुसीबत
बारिश में नाला पटाव बना लोगों के लिए मुसीबत

मुरैना. नगर निगम द्वारा बारिश में एम एस रोड पर नाले के पटाव का कार्य चल रहा है लेकिन कार्य की गति सुस्त होने से सडक़ पर पानी भर रहा है, बस्ती के निकास के रास्तों पर कीचड़ होने से गाडिय़ां निकलना तो दूर लोग पैदल नहीं निकल पा रहे हैं। विडंवना इस बात की है कि नगर निगम ने बारिश से पूर्व काम शुरू नहीं किया जैसे ही बारिश का सीजन आया तो नाले के पटाव का ध्यान आया और काम शुरू कर दिया। इस कार्य के चलते लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। लोगों का कहना हैं कि बारिश में इस नाले का पटाव कार्य कतई व्यवहारिक नहीं हैं।
यहां बता दें कि बैरियर चौराहे से बाजार तक एम एस रोड के किनारे पाइप डालकर नाले को अंडरग्राउंड किया जा रहा है। यह बात सही है कि काम ठीक हो रहा है इसके निर्माण से लोगों को राहत मिलेगी लेकिन निर्माण का समय गलत चुना है, इस पर लोगों ने आपत्ति दर्ज कराई है। स्थिति यह है कि बैरियर से एस पी बंगले के सामने पेट्रोल पंप तक नाले की खुदाई हो चुकी है। कहीं पाइप डाल दिए हैं तो कहीं चेंबर का निर्माण कराया जा रहा है। इस कार्य में काफी समय लग गया, वहीं कार्य को एक तरफ से पूरा नहीं किया जा रहा है। पहले बैरियर तरफ से नाले की खुदाई करके पाइप डालकर बंद कर दिया और अब दोबारा से जगह जगह खुदाई की जा रही है, वहां चेंबर निर्माण किया जा रहा है। जबकि होना यह था कि पाइप डाले, उसके साथ ही चेंबर बनते तो कीचड़ व गंदगी सडक़ पर नहीं पसरती। स्थिति यह है कि सुबह बुजुर्ग, बच्चे व महिला मॉार्निंग वाक पर निकलती थीं, वहां अब कीचड़ व गंदगी पसरने से लोगों को निकलना मुश्किल हो गया है। वहीं सडक़ पर रास्ता न होने से दुर्घटना का डर भी रहता है।
यहां सबसे ज्यादा परेशानी
एम एस रोड से वनखंडी रोड के रास्ते पर पिछले एक सप्ताह से खुदाई कार्य चल रहा है, जबकि यह शहर के प्रमुख मार्ग में शुमार है। वहीं गायत्री कॉलोनी की रास्ते, धर्मशाला सहित अन्य संस्थानों के सामने भी नाले की खुदाई के बाद दलदल जैसा हो गया है जिससे उसमें वाहन तो फंस रहे हैं वहीं पैदल निकलना भी मुश्किल हो गया है।
चेंबर में हल्की क्वालिटी की ईंट
नाले के पटाव में जगह जगह चेंबर निर्माण कराए जा रहे हैं लेकिन उन चेंबर के निर्माण में जो ईंट लगाई जा रही हैं, वह हल्की क्वालिटी की हैं। जो लगाने से पहले ही फूट रही हैं। नगर निगम के अधिकारियों द्वारा मॉनीटरिंग नहीं की जा रही है इसलिए ठेकेदार मनमानी कर रहे हैं।
क्या कहते हैं रहवासी
- नाले का पटाव कार्य तो अच्छा है लेकिन यह बारिश से पहले या बाद में किया जा सकता था। बारिश के बीच में खुदाई से आए दिन लोग दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं।
मोनू दीक्षित, दुकानदार
- नगर निगम ने बारिश के बीच में नाले पटाव का कार्य शुरू करके लोगों के लिए परेशानी खड़ी कर दी है। स्थिति यह है कि बस्तियों के लिए जाने वाले रास्ते से वाहन नहीं निकल पा रहे हैं।
्रब्रजेश उपाध्याय, रहवासी
- मैं अभी बाहर हूं, लौटकर दिखवाते हैं कि नाला पटाव कार्य में तीब्र गति लाई जाएगी।
राधारमण डंडोतिया, सभापति, नगर निगम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.