किसानों की आय बढ़ाना ही प्राथमिकता

एग्रीविजन के पांचवें राष्ट्रीय सम्मेलन में बोले केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर

By: rishi jaiswal

Published: 06 Mar 2021, 11:47 PM IST

मुरैना. केंद्रीय कृषि, किसान कल्याण, ग्रामीण विकास, पंचायत राज और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि देश में लंबे समय से कृषि के क्षेत्र में सुधार की आवश्यकता महसूस की जा रही थी। कृषि के क्षेत्र में निवेश बढ़े, किसानों पर लगी बंदिशें दूर हों, किसान अपनी उपज मनचाहे स्थान और मनचाहे दाम पर बेच सके, महंगी फसलों को उगाकर अपनी आय बढ़ा सकें, इसके लिए जो कानूनी आवश्यकताएं थीं, उन्हें कृषिसुधार कानून बनाकर पूरा किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दिशा में सही कदम उठाया है। तोमर ने कहा कि आज उत्पादकता को गति देने, फसल प्रबंधन करने और किसानों की आय बढ़ाना हमारा सबसे बड़ा ध्येय है।
शनिवार को भारतीय कृषि अनुसंधान परिषदए पूसा परिसर स्थित सी. सुब्रमण्यम सभागार में आयोजित एग्रीविजन के पांचवे राष्ट्रीय सम्मेलन में तोमर ने कहा कि लोकतंत्र में असहमति और विरोध का अपना स्थान है। मतभेद का भी महत्व है लेकिन क्या ये विरोध देश के नुकसान की कीमत पर किया जाना चाहिए। आज जो आंदोलन चल रहा है वह किस तरह से किसानों का भला कर सकता है। इस पर वे बात करने को तैयार नहीं हैं। प्रधानमंत्री के निर्देश पर हमने कृषि मंत्री के नाते किसान संगठनों के प्रतिनिधियों से 12 बार लंबी चर्चा की है। कई आवश्यक विषयों पर संशोधन का प्रस्ताव भी दिया। लोकसभा और रा’यसभा में भी मैंने सरकार के पक्ष को रखा। राष्ट्रपति के अभिभाषण पर भी चर्चा में यह बात कही, लेकिन इस दौरान किसी ने भी कृषि सुधार बिलों में किन बिंदुओं पर आपत्ति है या इनमें क्या कमी है, यह नहीं बताया। केंद्रीय कृषि मंत्री ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े कृषि छात्रों के आयाम एग्रीवीजन द्वारा कृषि छात्रों की समस्याएं एवं शोध की दिशा में किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा की। तोमर ने कहा कि आज इस बात पर बल देने की जरूरत है कि देश के 86 प्रतिशत छोटे किसान किस तरह उन्नत और महंगी फसलों की खेती करके अपनी आय बढ़ा सकें और खुद को सशक्त कर सकें। सरकार की सभी योजनाओं का लाभ छोटे किसानों तक पहुंचाने का कार्य पूरी क्षमता से किया जा रहा है। आज हमारा देश खाद्यान्न में आत्मनिर्भर है। बागवानी, दुग्ध उत्पादन, मछली पालन में भी हम दुनिया में पहले व दूसरे नंबर पर हैं। उत्पादन केंद्रित रणनीति के साथ फसल प्रबंधन पर ध्यान देकर किसानों की आय बढ़ाने पर काम करना जरूरी है। इस अवसर पर आईसीएआर के महानिदेशक डॉ. त्रिलोचन महापात्रा, अभाविप के राष्ट्रीय संयोजक आशी चौहान ने भी अपने विचार रखे।

rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned