प्रशासन व पुलिस चेकिंग में बड़ी लापरवाही

गुरुवार की सुबह एक ट्रक में दिल्ली से करीब 250 लोग जिले के विभिन्न गांवों के थे, जो दिल्ली में काम करते थे, बैरियर तक आए, लेकिन रास्ते में कहीं कोई चेकिंग नहीं की गई।

मुरैना. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन ने जिले की सीमाओं पर नाकाबंदी की है, जिससे बाहरी राज्य से आने वाला व्यक्ति बिना किसी चेकअप के अपने गांव या घर न पहुंच सके, परंतु गुरुवार की सुबह एक ट्रक में दिल्ली से करीब 250 लोग जिले के विभिन्न गांवों के थे, जो दिल्ली में काम करते थे, बैरियर तक आए, लेकिन रास्ते में कहीं कोई चेकिंग नहीं की गई।

बैरियर पर ट्रक रुका तो करीब 150 लोग तो अपने-अपने गांव चले गए और करीब 50 लोग ऐसे थे, जो अपनी स्वेच्छा से चेकअप कराने जिला अस्पताल पहुंचे। जिनको काउंटर पर दूरी बनाकर लाइन में लगाकर उनकी जानकारी दर्ज की गई, उसके बाद उनका चेकअप कराया गया।

प्रशासन का दावा है कि हमने जिले की सभी सीमाएं सील कर दी हैं, लेकिन प्रशासन के इस दावे पर सवाल खड़े हो रहे हैं, क्योंकि ढाई सौ लोगों से भरा ट्रक सरायछोला थाना क्षेत्र में अल्लोवली पुलिस चौकी पर लगे नाके से होकर शहर के मुख्य बैरियर चौराहे तक आ गया और रास्ते उसको किसी ने टोका तक नहीं।

अगर पुलिस व प्र्रशासनिक अधिकारी सख्ती बरतते तो जो लोग ट्रक से अपने-अपने गांव भाग गए, वह बिना चेकअप के नहीं जा पाते। अब इनके गांव में पहुंचने से और लोगों में संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। ये सभी लोग देश की राजधानी दिल्ली जैसे महानगर से आ रहे हैं, जहां कोरोना वायरस के चलते मौत भी हो चुकी हैं और पॉजीटिव मरीज भी वहां पाए गए हैं।

इसलिए इनको चेकअप कराना जिले की जनता के लिए आवश्यक था, परंतु नाके पर ढील के चलते ये लोग शहर में आकर भी पुलिस व प्रशासन की नजर से ओझिल हो गए।

rishi jaiswal
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned