पोरसा नगरपालिका कार्यालय में रहस्यमयी तालाबंदी

किसी को नहीं पता किसने डाले ताले, कर्मचारी बाहर, दो बजे खुले ताले फिर भी नहीं पहुंचे कर्मचारी

मुरैना/पोरसा. समस्याओं को लेकर जनता के आक्रोश को देखते हुए नगरपालिका कार्यालय में गुरुवार को कुछ पार्षदों ने कार्यालय नहीं खुलने दिया। इससे दोपहर तक कार्यालय के बाहर ही कर्मचारी एवं अधिकारी बैठे रहे और बाहर बैठने की वजह दूसरी बताते रहे। दोपहर दो बजे के आसपास ताला खुला, लेकिन कर्मचारी फिर भी ऑफिस में नहीं पहुंचे।
यह ताले किसने और क्यों डाले हैं, इस पर किसी के पास कोई ठोस जवाब नहीं है। कहा जा रहा है कि नपा शहर की समस्याओं के निदान में असफल साबित हो रही है। इससे आक्रोशित कुछ पार्षदों ने ही ताले डाले हैं। ऐसे में कर्मचारी बाहर खड़े हैं। इसके बावजूद वजह बताने से कतरा रहे हैं। कोई कह रहा है कि उनका फील्ड वर्क है तो कोई सफाई कर्मचारियों के बाहर खड़े होकर इंतजार की बात कह रहा है। सीमएओ हनुमंत सिंह भदौरिया कार्यालय से बाहर हैं। जब उनसे मोबाइल पर चर्चा की तो कोई ठोस जवाब नहीं दे सके। उनका कहना है कि जल्द ही ताले खुल जाएंगे। इसके कुछ देर बाद ताले तो खुल गए, लेकिन कोई भी कर्मचारी कार्यालय में नहीं पहुंचा। इस दौरान वहां अपनी समस्याओं को लेकर पहुंचे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। अपनी समस्याओं को लेकर आई वृद्धा रामबाई ने बताया कि उन्हें सीएमओ से मिलना था, लेकिन यहां कोई अधिकारी व कर्मचारी उपलब्ध ही नहीं है। बताया जा रहा है कि नगरपालिका शहर की समस्याओं को लेकर बेखबर है। नालियां जाम हैं और गंदगी के ढेर लगे हैं। इससे कई पार्षद भी नाराज हैं और जनता भी आवाज उठाती रही है। इसके बावजूद जब सुनवाई नहीं हुई तो कुछ दबंग पार्षदों ने ही कार्यालय पर ताला जड़ दिया। किसी ने ताल डालते किसी को देखा तो नहीं है, लेकिन ऐसा कहा जा रहा है। इसके बाद अधिकारियों में खलबली मची और ताले खुलवाने के प्रयास शुरू हुए। तब दोपहर करीब दो बजे कार्यालय के ताले खुले। इसके बावजूद कोई अधिकारी एवं कर्मचारी कार्यालय में इस डर से बैठने नहीं पहुंचे कि कहीं फिर से बाहर से ताला लगाकर उन्हें कैद न कर दिया जाए। ताला किसने डाला इस पर रहस्य का पर्दा पड़ा हुआ है। बताया जाता है कि करीब 70 हजार की आबादी वाले पोरसा शहर में नगरपालिका की व्यवस्था बेहद खराब है। बाजार जाम है और गंदगी से भी लोग परेशान हैं।
तहसीलदार को भी नहीं बता सके कारण
नपा कार्यालय में तालाबंदी की खबर मिलने पर तहसीलदार भूमिजा सक्सेना भी मौके पर पहुंंचीं। हालांकि इसके पहले कार्यालय का ताला खुलवा दिया गया था। सीएमओ हनुमंत सिंह भदौरिया का कहना है कि कुछ पार्षदों ने कर्मचारियों को ताला खोलने नहीं दिया था। बातचीत के बाद ताला खुलवा दिया गया है। तहसीलदार ने स्थिति में सुधार के निर्देश दिए हैं।
एसडीएम भी पहुंचे कार्यालय में
नपा कार्यालय में तालाबंदी की खबर के बाद एसडीएम नीरज शर्मा भी पहुंचे। उन्होंने उपस्थिति रजिस्टर अपने कब्जे में किया और शहर की समस्याओं को भी देखा। इसके बाद नपा सीएमओ को चेतावनी दी कि व्यवस्था सुधारेंं, वरना कार्रवाई की जाएगी।

महेंद्र राजोरे Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned