लापरवाही: प्रकरण नहीं फिर भी नकल लिफाफा में रख दी परीक्षार्थियों की कॉपी

- मूल्यांकन सेंटर ने लिखा बोर्ड को, बोर्ड ने केन्द्राध्यक्ष से मांगा जवाब
- छात्रों के भविष्य से खिलवाड़
- मामला शास. कन्या उमावि अंबाह परीक्षा केन्द्र का

By: Ashok Sharma

Published: 29 Jun 2020, 10:40 PM IST

मुरैना. परीक्षार्थियों के भविष्य से खिलवाड़ का मामला शासकीय कन्या उ मा वि अंबाह परीक्षा केन्द्र पर देखने को मिला है। यहां म प्र माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की हाईस्कूल परीक्षा के दौरान विज्ञान विषय के चार परीक्षार्थियों की कॉपी नकल वाले लिफाफा में पैक कर करके बोर्ड को भेज दीं। जबकि इन छात्रों के नकल प्रकरण नहीं बने थे। बोर्ड ने इन कॉपियों को मूल्यांकन केन्द्र भेज दिया। मूल्यांकन अधिकारी ने इस लापरवाही के लिए बोर्ड को लिखा। बोर्ड ने केन्द्राध्यक्ष से जवाब मांगा है।
शासकीय कन्या उमावि अंबाह परीक्षा केन्द्र क्रमांक १११००७ पर १६ मार्च २०२० को हाईस्कूल की विज्ञान विषय की परीक्षा संपन्न हुई थी। यहां अंग्रेजी माध्यम के चार परीक्षार्थी जिनके अनुक्रमांक क्रमश: १०११०२८०३, १०११००३९९, १०११००३८६, १०११०००४५ हैं, की उत्तरपुस्तिका नकल वाले लिफाफा में रख दी गई। यह केन्द्र के स्टाफ की घोर लापरवाही है। अगर परीक्षा केन्द्र की तरह मूल्यांकन केन्द्र पर भी लापरवाही व अनदेखी कर दी गई होती तो इन चार परीक्षार्थियों का भविष्य चौपट हो जाता। परंतु मूल्यांकन केन्द्र सतना के पर्यवेक्षक व अधिकारी की जागरुकता के चलते यह गलती पकड़ी गई अन्सथा छात्रों की एक साल बर्बाद हो जाती।
चपरासी ने रखीं लिफाफे में उत्तरपुस्तिका
बोर्ड के नियमानुसर परीक्षा केन्द्र से परीक्षा संपन्न होने के बाद लिफाफे में उत्तरपुस्तिका रखने का काम सहायक केन्द्राध्यक्ष, पर्यवेक्षकों का रहता है। चपरासी सिर्फ उसको सील करता है। लेकिन शाकउमावि अंबाह परीक्षा केन्द्र पर उत्तरपुस्तिका रखने का काम चपरासी ने किया है। जो कि नियम विरुद्ध है।
नकल वाले परीक्षार्थियों को बचाने का प्रयास तो नहीं!
परीक्षा केन्द्र पर जिन परीक्षार्थियों के १६ मार्च को नकल प्रकरण बनाए गए थे, उनमें क्रमश: १०११००२६०, १०११००२७४, १०११००३७४, १०११००४४२ ये अनुक्रमांक वाले शामिल हैं। इनकी कॉपियां नकल वाले लिफाफा में न रखते हुए दूसरे परीक्षार्थियों की कॉपी रखने के पीछे कहीं नकलचियों को बचाने का प्रयास तो नहीं किया गया। यह जांच का विषय है।
केन्द्राध्यक्ष ने यह भेजा जवाब
नकल वाले लिफाफा में जिन परीक्षार्थियों की उत्तरपुस्तिका रखी गई हैं, उनके साथ सलग्न न तो केन्द्राध्यक्ष की रिपोर्ट और न ही नकल सामग्री है। उपरोक्त छात्र अंग्रेजी माध्यम के विज्ञान विषय के हैं। जिनकी उत्तरपुस्तिका पैकिंग करते समय भृत्यों द्वारा गलती से नकल प्रकरण वाली थैली में रखी दी गई थी। इसी दिन चार नकल प्रकरण भी बने थे गलती से नकल वाले लिफाफे में उन छात्रों की कॉपी रख दी गई जिनके नकल प्रकरण नही बने हैं।
कथन
- भृत्य की गलती से नकल वाले लिफाफा में चार ऐसे छात्रों की कॉपी पैक कर दी जिनके नकल प्रकरण नहीं बने थे। इसका जवाब हमने बोर्ड को भेज दिया है। और भृत्य को समझाइश दी है कि आगे इस तरक की गलती न हो।
जी के श्रीवास्तव, केन्द्राध्यक्ष, शाकउमावि, अंबाह
- उत्तरपुस्तिका लिफाफा में रखने का कार्य एसीएस व पर्यवेक्षकों का रहता है। चपरासी तो सिर्फ लिफाफा पैक करता है। कन्या स्कूल परीक्षा केन्द्र अंबाह पर जो लापरवाही हुई है, उसमें माशि मंडल भोपाल ने सीएस से जवाब मांगा है। कार्रवाई भी भोपाल से ही होगी।
सुभाष शर्मा, जिला शिक्षा अधिकारी, मुरैना

Ashok Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned