पड़ोसी के घर में नहीं मिला कुछ तो शिक्षक के घर डाली डकैती

पत्नी व बेटे के हाथ पैर बंाधकर सशस्त्र बदमाशों ने शिक्षक के घर डाली डकैती, लाखों के जेवर व नकदी ले गए बदमाश

By: rishi jaiswal

Published: 16 Sep 2020, 11:56 PM IST

मुरैना, कैलारस. आधा दर्जन से अधिक सशस्त्र बदमाशों ने पहाडगढ़़ रोड सुखराम आइस फैक्ट्री के सामने गली में स्थित एक शिक्षक दिलीप यादव के घर में घुसकर 15-16 सितंबर की रात करीब 2 बजे से 2.50 के बीच डकैती की वारदात को अंजाम दिया। डकैती डालने आए बदमाशों ने न केवल शिक्षक की पत्नी लीला बाई, पुत्र विकास यादव व नातिन के हाथ पैर बांध दिए थे बल्कि महिला से अभ्रदता कर उसे गंभीर रूप से घायल कर दिया। जिसे ग्वालियर रेफर किया गया है। वारदात में पुलिस ने डेढ़ लाख रुपए की डकैती होने की रिपोर्ट दर्ज की है, जबकि पीडि़त का कहना है कि डकैती करीब 25 लाख रुपए की हुई है।

जानकारी के अनुसार विकास यादव ने पुलिस को बताया है कि मकान के बीच वाले कमरे में वह और उसकी पत्नी पूजा यादव तथा बच्ची तराना (3) सो रहे थे, जबकि उसकी मम्मी लीला देवी बैठक में सो रहीं थी। रात करीब दो बजे आठ सशस्त्र बदमाश पहले पड़ोस में रहने वाले बंटी कडेरा के घर में घुसे, वहां ताले तोड़े लेकिन वहां कुछ नहीं मिला। इसी दौरान बदमाशों को दिलीप यादव के जीने के दरवाजे खुले दिखे तो वह छत के रास्ते से अंदर घुसे। विकास यादव जिस कमरे में सो रहा था वहां चार बदमाश पहुंचे और उसका मुंह दबा लिया वह अलमारी-तिजोरी की चाबी मांगी, उसकी पत्नी पूजा के चिल्लाने पर विकास की मां लीला बाई आई तो बाहर खड़े चार लोगों ने लीला बाई को पकड़ कर लोहे के सरिया से पीटा तथा उससे अभद्रता कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। फिर विकास की सरिया, सब्बल तथा कट्टे की बट से मारपीट कर घायल कर दिया। साथ ही उसके हाथ पैर और मुंह को साफी से बांध दिया। उसके ऊपर कट््टा तान दिया और घर की चाबी मांगी जिस पर उसकी मम्मी ने बदमाशों को चाबी दे दी। बदमाशों ने अलमारियों को खोलकर उनमें रखा जेवर व सामान और नकदी समेट ली।

बदमाशों ने महिलाओं से उतरवाए गहने

पुलिस को विकास ने बताया कि बदमाशों ने उसके कान की बाली बजनी दो ग्राम, मम्मी के गले से सोने के तीन पेंडल वाला मंगलसूत्र बजनी 12 ग्राम, कान के पहने दो सोने के आयटम वजनी 6 ग्राम, पत्नी पूजा के कान के आयटम 6 ग्राम, दो मंगलसूत्र करीब 8 ग्राम वजनी भी ले गए।

कूलर हटाकर कमरे से बाहर निकला विकास

वारदात के बाद बदमाश लीला बाई, पुत्र विकास और पुत्र वधू को हाथ पैर बंाधकर कमरे में बंद कर फरार हो गए। विकास ने किसी तरह अपने हाथ खोले और कूलर खिसकाकर खिड़की के सहारे बाहर आया तो देखा घर के तीनों कमरों का सामान अस्त व्यस्त पड़ा था अलमारी भी खुली पड़ी थीं। अज्ञात बदमाश लाखों रुपए का सामान समेट कर ले गए।

प्लाट में सो रहा था मामा का लड़का

विकास ने पुलिस को बताया कि उसके मामा का लड़का किशन यादव जो कि भोगीपुरा टेंटरा से आया था, वह मकान के पास प्लाट में सो रहा था। उसके पापा विजय पुर में शिक्षक होकर ड्यूटी पर थे, जबकि छोटा भाई अपनी पत्नी रेनू के साथ अपनी ससुराल इटोरा गया था।

इन धाराओं में दर्ज किया मामला

कैलारस पुलिस ने फरियादी विकास पुत्र दिलीप यादव की रिपोर्ट पर भादंसं की धारा 395, 397 एवं डकैत अधिनियम की धारा 11,13 के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

पीडि़त बोला बोला मां के ठीक होने पर पता चलेगा कितने का गया माल

डकैती को लेकर फरियादी के सुर बदलते रहे। सुबह मीडिया के समक्ष विकास यादव ने बताया कि उसकी पत्नी, छोटे भाई की पत्नी और मां के जेवर गए हैं। बदमाश द्वारा करीब 25 लाख का मामल समेटकर ले जाना बताया गया। लेकिन पुलिस अधिकारियों के पहुंचने के बाद कहने लगा कि जेवर तो गए हैं लेकिन क्या क्या गया है और कितने का गया है, यह तो मां के आने पर ही पता चलेगा फिलहाल मां का स्वास्थ्य ठीक हो जाए, वह ग्वालियर भर्ती है।

फरियादी के पलटने की एक वजह यह भी

इस पूरे घटनाक्रम को देखकर लगता है कि पुलिस ने फरियादी को गुमराह कर दिया और उससे कह दिया कि फिलहाल रिपोर्ट लिखा दो, मां के ठीक होने पर उनके बयानों में जो माल गया है, उसकी संख्या व मूल्य खोल देंगे। संभवत: इसलिए फरियादी पलट गया।

डॉग स्क्वाड, फिंगर ्रप्रिंट एक्सपर्ट भी पहुंचे

डकैती की सूचना मिलते ही अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हंसराज सिंह, एसडीओपी शशिभूषण सिंह रघुवंशी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। उन्होंने डॉग स्क्वाड और फिंगरप्रिंट एक्सपर्ट को भी बुलाया। जिन्होंने घटना स्थल की जांच की।

- कैलारस में पहाडगढ़़ रोड पर विकास यादव के घर में सात आठ बदमाशों ने डकैती की वारदात को अंजाम दिया है। इसमें विकास व उसकी मां लीला बाई घायल हुए हंै। मेरे नेतृत्व में एसआइटी गठित की गई है। उसमें एसडीओपी कैलारस, जौरा व आसपास के थाना प्रभारियों को शामिल किया गया है। इस वारदात को जल्द ट्रेस करने का प्रयास किया जा रहा है।

हंसराज सिंह, एडीशनल एसपी, मुरैना

rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned