महाराष्ट्र व केरल से आने वाले किए जाएंगे क्वारंटीन, थर्मल स्क्रीनिंग होगी

दूसरे राज्यों में कोरोना संक्रमण के पलटवार को देखते हुए मंगलवार को आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में एहतियात के उपायों पर चर्चा की गई। महाराष्ट्र और केरल से आने वाले लोगों की की रेलवे स्टेशन या उनके गंतव्य पर पहुंचकर थर्मल स्क्रीनिंग कराई जाएगी।

By: Ravindra Kushwah

Published: 23 Feb 2021, 10:29 PM IST

मुरैना. दूसरे राज्यों में कोरोना संक्रमण के पलटवार को देखते हुए मंगलवार को आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में एहतियात के उपायों पर चर्चा की गई। महाराष्ट्र और केरल में कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार से प्रशासन अलर्ट पर है। सजगता पर जोर देते हुए कलेक्टर ने निर्देश दिए कि महाराष्ट्र और केरल से आने वाले लोगों की की रेलवे स्टेशन या उनके गंतव्य पर पहुंचकर थर्मल स्क्रीनिंग कराई जाए। इसके लिए टीमों का गठन कर दिया गया है। यह टीम शीघ्र ही अपनी सर्चिंग का कार्य प्रारंभ करेंगी।
कलेक्टर बी कार्तिकेयन, एसपी सुनील कुमार पांडेय के अलावा पूर्व विधायक शिवमंगल सिंह तोमर मौजूद रहे। मुरैना और सबलगढ़ विधायक के प्रतिनिधि इस बैठक में शामिल हुए। कलेक्टर ने कहा कि जागरुकता के कार्यक्रम शुरू किए जाएं और मास्क सेनेटाइजर का उपयोग अनिवार्य रूप से करने पर जोर दिया गया। दो मीटर की सामाजिक दूरी भी बरतने को कहा गया।
जागरुकता संदेश कचरा संग्रहण वाहनों से
बैठक में तय किया गया कि घर-घर से कचरा संग्रहण करने वाले नगर निगम के वाहनों से कोरोना जागरुकता के संदेशों का प्रसारण किया जाए। शहर के प्रमुख बाजारों, चौराहों पर पोस्टर बैनर लगाकर जागरुकता के संदेश दिए जाएं। वर्चुअल जुड़े सबलगढ़ विधायक ने कहा कि प्रचार-प्रसार के लिए वे अपनी निधि से दो लाख रुपए देने को तैयार हैं। अन्य विधायक भी यह पहल करें। मुरैना विधायक ने भी कोरोना के विरुद्ध जंग में हर प्रकार का सहयोग करने का भरोषा दिलाया। इस राशि से प्रमुख स्थानों पर कोरोना संक्रमण से बचाव और जागरुकता के उपायों के होर्डिंग्स लगवाए जाएंगे। बैठक में सदस्यों के सुझावों को गंभीरता से सुना गया और निष्कर्षों के आधार पर शीघ्र ही कारगर कार्ययोजना पर अमल शुरू करने पर भी सहमति बनी। कुछ समय से राजनीतिक, सामाजिक एवं सार्वजनिक आयोजनों में मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग और सेनेटाइजेशन की प्रक्रिया को ज्यादातर लोग नहीं अपना रहे हैं। यहां तक कोरोना संक्रमण की जांच के सैंपल भी लक्ष्य के अनुरूप नहीं हो पा रहे हैं।
मास्क न लगाने पर तय होगा जुर्माना
बैठक में मास्क का उपयोग न करने वालों पर जुर्माने की प्रक्रिया भी तय करने का निर्णय लिया गया। कितनी राशि का जुर्माना वसूला जाएगा, यह तय होना है। दुकानों पर सामग्री लेने आने वाले के पास यदि मास्क नहीं है तो उसे दिया जाए। इसकी राशि भी उसी से काटी जाए। जिसकी राशि समग्री खरीदते समय उस राशि में से काटें। कलेक्टर ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा रेल्वे स्टेशन पर महाराष्ट्रा और केरल से आने वाले मुसाफिरों की थर्मल स्क्रीनिंग करने के लिये टीम गठित कर दी है। बैंकों, शासकीय कार्यालयों में सेनेटाइजर उपलब्ध रहे और बिना मास्क के किसी को प्रवेश न करने दिया जाए। लॉकडाउन सभी के लिये कठिनाई का कारण था। इससे बचने के लिये अभी से एतिहात बरतने की जरूरत है। पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार पांडे ने कहा कि आपदा प्रबंधन समूह के सदस्य भी अपने मोबाइल से एक एक मिनट का वॉइस कॉल करके जागरुकता के संदेश सोशल मीडिया पर प्रसारित करें। कोरोना संक्रमण वाले राज्यों या स्थानों से आने वाली यात्री बसों पर निगरानी रखी जाए।
अगले माह दो बड़े आयोजन बनेंगे चुनौती
कोरोना संक्रमण का खतरा बढऩे के साथ ही प्रशासन के सामने इसी माह के २७ फरवरी से 13 मार्च के बीच दो बड़े धार्मिक आयोजनों के प्रबंधन पर खास फोकस करना होगा। फरवरी के अंत में प्रसिद्ध सिद्ध स्थल करहधाम में एक सप्ताह से अधिक समय का सियपिय मेला आयोजित किया जा रहा है। वहीं 13 मार्च को इस साल पहली शनिश्चरी अमावस्या होने से लाखोंं श्रद्धालुओं की भीड़ होने की संभावना है। यहां दर्शन के लिए भारी भीड़ के अलावा भंडारों में भी जबरदस्त भीड़ होती है।

Ravindra Kushwah
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned