संत ने शुरू की पूर्ण शराबबंदी मुहिम, जुटी भीड़

जहरीली शराब से लोगों की मौतों के बाद एक बार फिर शुरू की गई संत हरिगिरि की पूर्ण शराबंदी पदयात्रा गुरुवार को सुबह मुरैना शहर में पहुंची। टेकरी से सुबह चलकर संत और समाज के लोग 11 बजे के बैरियर चौराहे पर पहुंचे।

By: Ravindra Kushwah

Published: 25 Feb 2021, 10:10 PM IST

मुरैना. यहां से एमएस रोड पर एक दर्जन स्थानों पर यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। यहां से यात्रा ने शहर में एमएस रोड पर प्रवेश किया। इस दौरान बैरियर चौराहे से रेलवे स्टेशन की ओर जाने वाले यातायात को रोक दिया गया था।
पदयात्रा में संत हरिगिरि के शिष्य और सर्व समाज के लोग शामिल हैं। पदयात्रा गुरुवार को सुबह टेकरी के पास करहधाम मंदिर से मुरैना के लिए रवाना हुई। यात्रा सुबह 10 बजे शहर में प्रवेश करनी थी, लेकिन रास्तें में स्वागतों के सिलसिले की वजह से यात्रा करीब डेढ़ घंटे विलंब से बैरियर चौराहे पर पहुंची। यहां राजनीतिक दलों, समाजसेवियों और सर्व समाज के लोगों ने संतों और उनके साथ पदयात्रा में शामिल लोगों का फूल मालाओं से स्वागत किया। लोगों ने शराबबंदी के लिए शुरू किए गए संत हरिगिरि के इस अभियान का खुलकर समर्थन किया। बैरियर चौराहे से पुराने बस स्टैंड तक करीब डेढ़ किमी के मार्ग में एक दर्जन स्थानों पर यात्रा में शामिल संतों और समाजसेवियों लोगों ने स्वागत किया। पुराना बस स्टैंड, हनुमान चौराहा, महामाया मंदिर, जीवाजी गंज, नैनागढ़ रोड होकर केएस चौराहे से फिर एबी रोड होते हुए यात्रा चंबल नदी के विंडवा घाट की ओर रवाना हो गई। संत हरिगिरि के शिष्य इस पदयात्रा में नंगे पैर चल रहे हैं। वर्ष 2017 में भी मार्च के प्रथम सप्ताह में यह यात्रा शनि पर्वत स्थित मुरली मनोहर मंदिर से शुरू की गई थी। चंबल नदी के विंडवा घाट तक पहुंची इस यात्रा के बाद व्यापक स्तर पर महापंचायतों का आयोजन किया गया था।
ग्वालियर से शुरू हुई थी जन जागरण यात्रा
पूर्ण शराब बंदी के लिए पदयात्रा ग्वालियर में शीतला माता मंदिर पर शपथ और संदेश के साथ शुरू हुई थी। ग्रामीण क्षेत्रों में संपर्क करते हुए और लागों को शराब से तौबा करने का संदेश देते हुए यात्रा का आयोजन किया जा रहा है। यात्रा शुक्रवार को चंबल नदी के विंडवा घाट तक पहुंच जाएगी। इसके बाद संत हरिगिरी सर्व समाज की महापंचायत का आयोजन कर आगे की रणनीति की घोषणा करेंगे। पूर्ण शराबंदी यात्रा का शहर में ब्राह्मण महासभा, क्षत्रिय महासभा, किरार समाजा, वैश्य वर्ग, मुस्लिम समुदाय, रोटरी क्लब, लायंस क्लब, अभिभाषकों, भाजपा व कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के साथ गुर्जर समाज के नेताओं ने भी भव्य स्वागत किया।

Ravindra Kushwah
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned