ताले में लैब कैसे हो मिट्टी परीक्षण

ताले में लैब कैसे हो मिट्टी परीक्षण
Soil Testing Lab

Rahul Singh | Updated: 09 Oct 2019, 01:03:58 PM (IST) Morena, Morena, Madhya Pradesh, India

अंदाज से डाल रहे खेतों में खाद और केमिकल्स, किसानों को हो रहा आर्थिक नुकसान

पोरसा. अंचल में करीब दो साल पहले सभी ब्लॉक मुख्यालयों पर करोड़ों रुपए खर्च करके मिट्टी का परीक्षण की लैबों का निर्माण किया गया। ताकि किसानों को पता चल सके कि उनके खेत में कितना खाद, किस तत्व की कमी है, कितना रसायन डालना है ताकि सही पैदावार होकर मिट्टी की गुणवत्ता को बनाए रखा जा सके। इससे किसानों को मंहगी खाद और रसायन को खरीदने में ज्यादा पैसा न गंवाना पड़े।


लेकिन शासन की इस योजना पर ही अब सवाल उठ रहे हैं। अफसरों ने करोड़ों रुपए निर्माण कार्य और उपकरणों की खरीद फरोख्त पर खर्च कर डाले। लेकिन स्टाफ नहीं होने से लैब में ताले पड़े हुए हैं। उनका अभी तक कोई उपयोग ही नहीं हो सका है। एक ओर भवन का गारंटी समय भी बीत रहा है वहीं खरीदे गए उपकरणों का गारंटी समय भी बिना उपयोग के ही बीत चुका है। जिससे लैब निर्माण करने की मंशा पर ही सवाल खड़े हो गए हैं।
पोरसा का हाल
पोरसा में पचपेड़ा से पहले लैब के लिए लाखों रुपए खर्च करके भवन तैयार कराया गया और फिर करीब 18 से 20 लाख रुपए के उपकरण भी लैब के लिए खरीदे गए। लेकिन शासन स्तर से अभी तक यहां स्टाफ की नियुक्ति नहीं की जा सकी है। जिसके चलते यह ताले में बंद हैं।


कराया अवगत
कृषि विभाग के ही अधिकारी इस संबंध में अपने वरिष्ठों से बात कर चुके हैं। इसके अलावा जनप्रतिनिधियों तक भी यह बात पहुंचाई जा चुकी है, लेकिन लैब में स्टाफ की नियुक्ति अब नहीं हो सकी है।


पूरे जिले में है यही हाल
किसानों को सुविधा के नाम पर राज्य शासन ने कुछ समय पहले सभी विकास खण्ड मुख्यालय पर लाखों रुपए खर्च करके मिट्टी परीक्षण लैब स्थापित कराई थीं। पोरसा सहित अंबाह, जौरा, कैलारस, पहाडगढ़़ व सबलगढ़ में भी लैब तैयार हो चुकी हैं, लेकिन इनमें स्टाफ पदस्थ न होने के कारण किसानों को किसी तरह का लाभ नहीं मिल पा रहा है।


लैब की सुरक्षा
लैक का निर्माण ब्लॉक मुख्यालय पर सुनसान जगह बनवाई गई है। इसकी सुरक्षा के लिए एसडीओ कार्यालय के भृत्य को लैब की सुरक्षा के लिए तैनात किया है।


एसएडीओ पोरसा वीरेश शर्मा, लैब में स्टाफ की नियुक्ति के लिए वरिष्ठ अधिकारियों से कहा है। कुछ समय पहले सांसद के सामने भी यह बात रखी गई थी। लेकिन स्टाफ नहीं आया। इसलिए लैब बंद पड़ी हैं। जिले के सभी ब्लाकों में यही स्थिति है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned