सरकारी जमीन पर बोई फसल नष्ट कराई, जुर्माना भी

पोरसा के धनेटा मौजे में 15 साल से सरकारी जमीन पर चले आ रहे कब्जे को तहसीलदार नरेश शर्मा के नेतृत्व में राजस्व अमले ने शनिवार को हटवा दिया।

By: Ravindra Kushwah

Published: 21 Feb 2021, 01:29 PM IST

पोरसा/मुरैना. अतिक्रमणकारियों पर 50 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है। अतिक्रमण से मुक्त कराई गई जमीन का बाजार मूल्य प्रशासन ने 17 लाख रुपए बताया है।
शासकीय भूमि के सर्वे क्रमांक 386 के रकवा 0.585 हैक्टेयर में से 0.20 हैक्टेयर सरसों, बाजरा और अन्य फसलेंं ली जा रही थीं। अनुविभागीय अधिकारी राजस्व न्यायालय से इस मामले में सिविल वारंट की कार्रवाई भी हो चुकी है। माफिया विरोधी अभियान के तहत प्रदेश भर में की जा रही कार्रवाई के बीच इस मामले में कार्रवाई नहीं हो पा रही थी। पत्रिका ने 11 जनवरी को यह मामला उठाया भी था। इसके पहले 17 जुलाई 2020 को भी यह मामला उठाया गया था, लेकिन इसके बावजूद पूर्व के अधिकारी कार्रवाई नहीं कर पा रहे थे। पत्रिका ने 18 जनवरी को भी सिहोनिया में तहसील व थाना भवन के लिए आरक्षित भूमि पर फसल और मकान-दुकान बनाकर किए गए कब्जे को को हटाने के दौरान यह सवाल उठाया था कि पोरसा में ऐसी कार्रवाई नही ंहो पा रही है। इस बीच शनिवार को तहसीलदार नरेश शर्मा के नेतृत्व में शासकीय भूमि सर्वे क्रमांक 386 पर किए गए अतिक्रमण को हटाया गया। इस सरकारी भूमि पर लगभग 15 वर्षों से राधेश्याम तिवारी एवं चोखेलाल का कब्जा था और वे निरंतर इस पर फसलें ले रहे थे। तहसीलदार के नेतृत्व में राजस्व दल ने हिटैची चलवाकर फसल को उजाड़ दिया। इस दौरान अतिक्रमणकारी राधेश्याम तिवारी ने नापजोख कराने के लिए कहते हुए विरोध भी दर्ज कराया, लेकन तहसीलदार व राजस्व अमले ने उसे खारिज दिया और खेतों में खड़ी सरसों की फसल को जेसीबी की मदद से नष्ट कर दिया। बता दें सरकारी जमीन पर कब्जे के इस मामले को लेकर धनेटा के ही किसान किशनपाल सिंह तोमर ने शिकायत की थी। कार्रवाई के दौरान पटवारी रमन सेंगर, संतेश सिंह तोमर व नगर पालिका के स्वच्छता निरीक्षक शिशुपाल सिंह तोमर मौजूद रहे।
कथन-
धनेटा मौजे में सरकारी भूमि पर कब्जा करके खेती कर रहे दो लोगों के कब्जे शनिवार को हिटैची से फसल उजाड़कर हटवा दिए गए हैं।
नरेश शर्मा, तहसीलदार, पोरसा

Ravindra Kushwah
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned