ऐसे पौधे होंगे तैयार जिनसे किसानों को मिलेगा फायदा

सब्जियों के लिए 9.69 करोड का उत्कृष्टता केंद्र शुरू, इंडो-इजराइल एग्रीकल्चर प्रोजेक्ट 15 हैक्टेयर में किया गया है विकसित

By: rishi jaiswal

Published: 25 Sep 2020, 11:52 PM IST

मुरैना. भारत सरकार के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा एकीकृत बागवानी विकास मिशन अन्तर्गत सब्जियों के लिए उत्कृष्टता केन्द्र का शुक्रवार को केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने शुभारंभ किया। नूराबाद में 15 हेक्टेयर जमीन पर विकसित इंडो-इजराइल एग्रीकल्चर प्रोजेक्ट की कुल लागत 969.27 लाख रूप है। उत्कृष्टता केन्द्र का मुख्य उद्देश्य मध्यप्रदेश में उपयुक्त कृषि जलवायु क्षेत्रों में चयनित उ'च गुणवत्ता वाली प्रमुख सब्जी फसलों की खेती के लिए आदर्श कृषि कार्यमाला को क्षेत्र की आवश्यकता अनुसार विकसित कर कृषकों को सेन्टर में प्रशिक्षित करना है। कार्यक्रम में मप्र शासन के कृषि राÓय मंत्री गिर्राज दंडोतिया, राÓय मंत्री भारत सिंह कुशवाह, पूर्व राÓय मंत्री रूस्तम सिंह, मुंशीलाल, पूर्व विधायक रघुराज कंषाना, जिलाध्यक्ष भाजपा योगेशपाल गुप्ता सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

उत्कृष्टता केन्द्र का मुख्य फोकस नर्सरी प्रबंधन के अंतर्गत किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए उ'च गुणवत्ता के पौधे क्षेत्र की आवश्यकता अनुसार तैयार कर रोपण के लिए किसानों को उपलब्ध कराना है। इसमें भारतीय किस्मों के अनुकूल क्षेत्र अनुसार पहचान और प्रदर्शन, पौधों की आवश्यकता अनुसार आधुनिक सिंचाई पद्धति, जल में घुलनशील उर्वरकों का प्रदर्शन, एकीकृत पौध संरक्षण प्रबंधन का प्रदर्शन, ग्रेडिंग, पैकैजिंग और कोल्ड चेन सहित फसल के बाद प्रबंधन संरचना की स्थापना करना है। इसे व्यवसायीकरण तक बनाया जाएगा।

इनक्यूवेशन केंद्र भी होगा स्थापित

स्थानीय किसानों के लिए सब्जियों की छंटाई और ग्रेडिंग के लिए इनक्यूवेशन केन्द्र भी स्थापित किया जाएगा। इससे उद्यमी या उत्पादक अपने उत्पाद को प्रसंस्करण कर बाजार में ले जा सकेंगे। उत्कृष्टता केन्द्र किसानों के लाभ के लिए सिंचाई और फर्टिगेशन, नर्सरी, केनोपी और मूल्य संवर्धन जैसे केन्द्रित क्षेत्रों पर आधारित एक प्रशिक्षण मॉडल तैयार करेगा। उत्कृष्टता केन्द्र द्वारा लगभग 2 हजार किसानों को प्रतिवर्ष प्रशिक्षित भी किया जाएगा।

इन सब्जियों के पौधों किए जाएंगे तैयार

इजराल के सहयोग से तैयार पॉलीहाउस में टमाटर, चैरी टमाटर और शिमला मिर्च फसल का उत्पादन किया जाएगा। खुले क्षेत्र में कद्दू बर्गीय, गोभी बर्गीय, अगेती गोभी बर्गीय, धनिया, बैगन, मिर्च, खीरा आदि फसल का उत्पादन किया जाएगा। मौसम स्टेशन, टेन्सियो मीटर स्टेशन, ग्रेडिंग सहित पैक हाउस, पैकिंग लाइन, भण्डारण आदि सुविधाएं भी विकसित की जाएंगी। उत्कृष्टता केन्द्र स्थापना के सिविल वर्क अन्तर्गत सेन्टर आफ एक्सीलेन्स शासकीय प्रक्षेत्र में सिविल स्ट्रक्चर के अंतर्गत प्रशासनिक भवन, स्टाफ क्वाटरर्स, प्रयोगशाला, हॉस्टल, कॉन्फे्रस रूम, आडिटोरियम, स्मार्ट क्लासरूम 5 करोड़ रूपये की लागत के निर्माण हेतु लोक निर्माण विभाग (पी.आई.यू.) द्वारा किया जाएगा।

rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned