दो महीने बाद शिक्षक सस्पेंड, बाबू को क्लीनचिट

- मामला बोर्ड परीक्षाओं में व्हाट्सअप पर ओटी वायरल करने का

By: Ashok Sharma

Published: 28 May 2020, 09:10 PM IST


मुरैना. माशिमं बोर्ड परीक्षाओं में व्हाट्सअप पर ओटी वायरल करने के मामले में कलेक्टर ने बीइओ पहाडग़ढ़ के प्रस्ताव पर से दो महीने बाद शिक्षक संत कुमार ङ्क्षसह सिकरवार प्राथमिक शिक्षक शा प्रा वि नींमकछा को सस्पेंड किया है। लेकिन एक अन्य मामले में मोबाइल पर ओटी वायरल करने के मामले में पहाडग़ढ़ बीआरसी कार्यालय के बाबू को क्लीनचिट देकर छात्र के खिलाफ मामला दर्ज करवाया गया।
कलेक्टर के जारी आदेश में लिखा है कि शिक्षक संत कुमार विधानसभा जौरा क्रमांक चार के मतदान केन्द्र क्रमांक ५८ पर बीएलओ के रूप में कार्यरत होकर निर्वाचन की जानकारी आदान प्रदान किए जाने हेतु संचालित किए जा रहे वाट्स गु्रप से जुड़े हुए हैं। उन्होंने १९ मार्च को दोपहर १२.४९ पर उक्त ग्रुप में कक्षा दसवीं अंग्रेजी विषय के पेपर की सोल्व की गई ओटी डाली गई थी। संत कुमार द्वारा निर्वाचन कार्य के लिए बनाए गए व्हाट्सअप ग्रुप का दुरुपयोग करते हुए मंडल द्वारा संचालित बोर्ड परीक्षा की ओटी डालकर भ्रम फैलाया गया है। इससे शासन की छबि धूमिल हुई है। इनका यह कृत्य कदाचरण की श्रेणी में होकर दंडनीय हैं। इस कृत्य के लिए शिक्षक संत कुमार पूर्ण रूप से दोषी हैं। परीक्षा जैसे अति महत्वपूर्ण कार्य में लापरवाही एवं अनियमितताआ किए जाने के कारण म प्र सिविल सेवा वर्गीकरण नियम व अधिनिमय की विभिन्न धाराओं में दोषी पाए जाने पर शिक्षक संत कुमार को निलंबित किया जाता है और निलंबन काल में इनका मुख्यालय विकास खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय जौरा रहेगा। वहीं बोर्ड परीक्षा में मोबाइल पर ओटी वायरल होने के मामले में पहाडग़ढ़ पुलिस ने बीआरसी कार्यालय के बाबू के मोबाइल को जब्त कर लिया था। परंतु बाबू के खिलाफ न विभाग ने कोई कार्रवाई की और न पुलिस ने। जबकि पुलिस ने छात्र के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया था। नियमानुसार जिसके मोबाइल से ओटी रिलीज हुई, उसको भी आरोपी बनाना था लेकिन ऐसा नहीं किया गया। इस मामले में सेटलमेंट की चर्चा है।
कथन
- उस मामले में शिक्षा विभाग ने ही आवेदन दिया था। उन्होंने मोबाइल जब्त करके थाने में जमा कराया था। विभाग ने आवेदन दिया था, उसमें लिखा था कि इस मोबाइल से छात्र ने ओटी रिलीज की है। इसलिए पुलिस ने विभाग के आवेदन के आधार पर कार्रवाई की है।
बाल्मीक चौबे, उप निरीक्षक, थाना पहाडग़ढ़

Ashok Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned