छौंदा टोल पर लाइलाज हुई जाम की समस्या

- कलेक्टर, एसपी के निर्देश के बाद भी नहीं हो सका व्यवस्थाओं में सुधार
- एम्बूलेंस के लिए नहीं अमरजेंसी लाइन, गंभीर मरीजों को समय पर नहीं मिल पा रहा है इलाज

By: Ashok Sharma

Published: 23 Feb 2021, 05:31 PM IST

मुरैना. छोंदा टोलटैक्स पर जाम की समस्या लाइलाज हो गई है। स्थिति यह है कि एम्बूलेंस अगर गंभीर मरीज को लेकर निकलती है तो उसके लिए अमरजेंसी लाइन भी खाली नहीं रहती और टोल का स्टाफ ये प्रयास करता है कि एम्बूलेंस को जल्दी निकाला जाए। पिछले दिनों कलेक्टर व एसपी ने टोल का निरीक्षण किया और जाम न लगे ऐसी व्यवस्था बनाने के निर्देश टोल अधिकारियों को दिए लेकिन उनके निर्देशों का कोई असर नहीं हुआ और जाम की स्थिति पहले जैसी ही है।
मुरैना से लेकर मथुरा तक तीन टोल मिलते हैं उन पर किसी पर भी जाम नहीं रहता और फास्टटैग वाले वाहन तो आसानी से निकल रहे हैं लेकिन मुरैना टोल पर फास्टैग वाले वाहनों को भी काफी लंबे समय तक वेट करना होता है। छौंदा टोलटैक्स पर न तो फास्टैग वाले वाहन और न एम्बूलेंस के निकलने की कोई सुविधा है। लोगों का कहना हैं कि फास्टैग लेने से फायदा क्या हुआ। यहां निकलने के लिए पूर्व की तरह लाइन में ही लगना पड़ रहा है। अर्थात यह कहें कि छौंदा टोल पर फास्टैग मजाक बनकर रह गया है तो अतिशयोक्ति नहीं होगा। अगर जाम लगता है या फिर एम्बूलेंस फंसी है तो टोल स्टाफ भी प्रयास नहीं करता। जिस प्रक्रिया के तहत जाम खुलता है, उसी के हिसाब से खुलता है लेकिन स्टाफ आगे बढक़र नहीं आता।
टोल पर फास्टैग के नाम पर अवैध वसूली!.........
छौंदा टोल टैक्स पर फास्टैग के साथ केबाइसी करने के नाम पर ५०, १०० और ३०० रुपए तक वसूले जा रहे हैं। एक तरफ टोल पर फास्टैग नहीं होने पर डबल चार्ज की रसीद कटती है तभी वहां खड़े कुछ लोग उन वाहनों वालों से बात करते हैं। डबल चार्ज लगते ही गाड़ी वाले का फास्टैग याद आ जाता है। लेकिन ये फास्टैग लगाने वाले डेढ़ सौ पर ५० रुपए और ढाई सौ पर १०० और इसी तरह जैसे जैसे बेलेंस बढ़ाकर फास्टैग लिया जाता है, उसी हिसाब से वसूली कर रहे हैं। अधिकांश गाड़ी वालों को नहीं पता कि फास्टैग कहां और कितने में मिलता है। जबकि सरकार के निर्देश हैं कि मार्च तक फास्टैग फ्री मिलेगा। छौंदा टोल पर दो टीम ग्वालियर की अलग अलग कंपनियों की है। इनकी न कोई दुकान हैं और कोई स्थान, वह तो थैले में फास्टैग कार्ड रखे हुए हैं और अपने मोबाइल से केबाइसी करके कार्ड थमा देते हैं। ये ज्यादातर बाहर की गाडिय़ों से ज्यादा पैसे लेकर फास्टैग इश्यू कर रहे हैं। वहीं छौंदा गांव के पास टोल के नजदीक एक गुमटी में भी फास्टैग दिया जा रहा है, यहां भी १०० से २०० रुपए तक वसूल किए जा रहे हैं। यहां से निकलने वाले वाहन चालकों को ट्रिपल मार झेलनी पड़ रही है। एक तो टोल पर डबल चार्ज और फिर फास्टैग के नाम पर पैसे लिए जा रहे हैं। अगर किसी के घर में कोई अवैध वसूली करता है तो जिम्मेदारी तो घर मालिक ही होगी। इसी तरह टोल नाके पर फास्टैग के नाम पर अवैध वसूली की जा रही है। टोल कर्मचारियों का कहना था कि फास्टैग लगाने वाला एक एक व्यक्ति शाम तक पांच हजार रुपए कमाकर ले जा रहा है।
फास्टैग अनिवार्य से रहवासी परेशान ........
फास्टैग अनिवार्य होने से वह लोग परेशान हैं जिनका टोल के नजदीक निवास है या फिर फैक्ट्री या दुकान हैं। ऐसे लोगों को दिन में बार बार आना जाना पड़ता है। खासकर नगर निगम सीमा में लोग रह रहे हैं, उनको भी अपनी गाड़ी का डबल चार्ज देना पड़ रहा है। अगर नहीं देते हैं तो वहां तैनात गार्ड झगड़े पर उतारू हो जाता है।
कथन.....
- छौंदा टोल नाके पर रोजाना एम्बूलेंस जाम में फंस रही हैं। वहां एम्बूलेंस को जल्दी निकालने के लिए कोई व्यवस्था नहीं हैं। रविवार को एक्सीडेंट के गंभीर मरीजों को उल्टी साइड से लेकर आना पड़ा, उसमें भी रिस्क रहती है।
शिवकांत उपाध्याय, जिला प्रभारी, १०८ एम्बूलेंस
- ७० रुपए के डबल १४० रुपए लिए जाते हैं, तो जाम लग जाता है। एम्बूलेंस के लिए हम क्या करें, आगे जाम होगा तो एम्बूलेंस तो फंसेगी ही। रही बात फास्टैग के नाम पर वसूली करने की तो हमसे गाड़ी वाले शिकायत करें, फास्टैग तो फ्री मिलना चाहिए। अगर हमारे टोल पर आगर कोई भी खड़ा हो जाए वह फास्टैग बना रहा है, जरूरी थोड़े ही कि वह हमारे ही लोग हों।
एस एन बरुआ, जनरल मैंनेजर, पाथवे इंडिया

Ashok Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned