scriptप्रदूषण बोर्ड की टीम ने क्वारी नदी, नाले, जल शोधन यंत्र से लिए पानी के सेंपल | Patrika News
मोरेना

प्रदूषण बोर्ड की टीम ने क्वारी नदी, नाले, जल शोधन यंत्र से लिए पानी के सेंपल

– मामला क्वारी नदी में दूषित पानी से मृत हुई हजारों मछलियों का
– जुनियर साइंटिस्ट ने कहा- फैक्ट्री प्रबंधन को भी देंगे नोटिस

मोरेनाJun 29, 2024 / 03:13 pm

Ashok Sharma

मुरैना. दिमनी के पास क्वारी नदी में मछलियों के मृत होने पर शुक्रवार को म प्र प्रदूषण बोर्ड की टीम ने जहां मछलियां मरी, वहां नदी का पानी, नाला नंबर एक पर स्थित जल शोधन यंत्र और शहर से जा रहे नाले के पानी के सेंपल लिए और कहा कि जांच उपरांत पता चलेगा कि पानी की स्थिति कहां कितनी गड़बड़ है।
यहां बता दें कि गुरुवार को दिमनी के पास नदी का पानी दूषित होने से हजारों मछलियों की मौत हो चुकी है। इसके बाद प्रशासन सक्रिय हुआ और गुप्ता सॉल्वेंट में छापामार कार्रवाई की। मौके पर आई म प्र प्रदूषण बोर्ड की टीम को संयुक्त कलेक्टर शुभम शर्मा, डिप्टी कलेक्टर मेघा तिवारी के समक्ष कहा था कि शुक्रवार को हम जांच करेंगे। उसी के तहत प्रदूषण बोर्ड के जुनियर साइंटिस्ट डी के शर्मा अपनी टीम के साथ मुरैना पहुंचे। सर्व प्रथम दिमनी में उस स्थान पर पहुंचे, जहां मछलियां मृत हुई थीं। वहां से नदी के जल का सेंपल लिया। उसके बाद नगर निगम जल शोधन यंत्र पर पहुंचे। वहां से फिल्टर किया और नॉन फिल्टर किए दोनों पानी के सेंपल लिए। टीम गुप्ता सॉल्वेंट के पीछे भी पहुंची और वहां खाली प्लॉटों में भरे पानी के भी सेंपल लिए। उसके बाद टीम सॉल्वेंट के अंदर चली गई, जहां काफी देर तक बैठी रही। जुनियर साइटिस्ट का कहना है कि फैक्ट्री से किसी भी बेस्टेज को बाहर नहीं फेंका जा सकता। फिर पानी भी क्यों न हो। टीम ने हर जगह से सेंपल लेकर कट्टियों में भर लिया है लेकिन सवाल यह उठता है कि क्या पानी सेंपलिंग तक पहुंचेगा या रास्ते में बदल दिया जाएगा क्योंकि जिन कट्टियों में पानी के सेंपल लिए हैं, वह सभी कट्टियां खुली हुई थीं, सेंपल के बाद उनके ढक्कन सील नहीं किए गए थे। इससे पानी सेंपल की जांच प्रोपर हो पाएगी या नहीं, इस पर प्रश्न उठ रहे हैं।
फैक्ट्री से निकल रहे धुंआ से फैल रहा प्रदूषण
हाइवे पर स्थित गुप्ता सॉल्वेंट से निकल रहे धुंआ से प्रदूषण फैल रहा है। आसपास की बस्ती व दुकानदार भी धुंआ व पानी की दुर्गंध से परेशान हैं। अभी तक न प्रदूषण बोर्ड और न प्रशासन ने इस दिशा में कोई पहल की है।
कथन
क्वारी नदी में जहां मछलियां मरी थीं, वहां से पानी के सेंपल लिए हैं। इसके अलावा नगर निगम के जल शोधन यंत्र से फिल्टर व नॉन फिल्टर जल और फैक्ट्री के पीछे भरे पानी से सेंपल लिए हैं। जांच उपरांत पता चलेगा कि पानी की स्थिति क्या है।
डी के शर्मा, जुनियर साइंटिस्ट, म प्र प्रदूषण बोर्ड, ग्वालियर

Hindi News/ Morena / प्रदूषण बोर्ड की टीम ने क्वारी नदी, नाले, जल शोधन यंत्र से लिए पानी के सेंपल

ट्रेंडिंग वीडियो