वाह क्या नियम है यदि फीस भरनी है तो लाओ एटीएम कार्ड

कन्या कॉलेज में फीस से अधिक वसूली! ,- वापसी के लिए करते है छात्रा व पालकों को परेशान, यहां एटीएम अनिवार्य, जिले के अन्य कॉलेजों में नहीं

By: rishi jaiswal

Published: 19 Jan 2021, 12:14 AM IST

मुरैना. इन दिनों जीवाजी विश्वविद्यालय द्वारा बीएससी प्रथम वर्ष की फीस जमा कराई जा रही है। जिले के सभी कॉलेजों में चालान से फीस जमा कराई जा रही है परंतु लीड यानि की शासकीय कन्या महाविद्यालय में यह आदेश अनिवार्य कर दिया है कि एटीएम कार्ड से ही फीस जमा कराई जा सकती है। ऐसी स्थिति में ग्रामीण परिवेश से आने वाली छात्राएं जिनके पास एटीएम नहीं हैं, वह परेशान हैं। वहीं एटीएम के जरिए निर्धारित फीस से अधिक वसूली की जा रही है। पैसा वापसी के नाम पर छात्रा व पालकों को परेशान किया जा रहा है।

शासकीय कन्या महाविद्यालय जिले का लीड कॉलेज है। यहां तो शासन के नियमों का अक्षरस: पालन होना चाहिए और जिले के अन्य कॉलेजों में नियमों का पालन करवाना भी इसी कॉलेज की जिम्मेदारी है लेकिन नियमों का पालन करवाने वाला ही नियमों की ध"िायां उड़ाए तब न्याय की उम्मीद किससे की जा सकती है। शासन के ऐसे कहीं कोई आदेश नहीं हैं कि एटीएम कार्ड से ही फीस जमा कराई जाए अगर किसी पर एटीएम कार्ड नहीं हैं तो ऑनलाइन फीस जमा कराई जा सकती है बैंक में चालान के जरिए भी फीस जमा की जा सकती है लेकिन कन्या महाविद्यालय प्रबंधन की हिटलरशाही के चलते छात्रा व पालक परेशान हैं। यहां जिस छात्रा पर एटीएम कार्ड नहीं हैं उसको किसी से एटीएम कार्ड मांगकर लाना पड़ रहा है तब फीस जमा कराई जा रही है।

वहीं कन्या कॉलेज में एटीएम कार्ड से पैसा जमा करने की जिम्मेदारी जिस महिला कर्मचारी को दी है वह स्वाइप मशीन का संचालन ठीक से नहीं कर पा रही है। जिसकी वजह से वह बीच बीच में छात्राओं पर बरसती रहती हैं।

मोदी के आदेश का पालन कर रहे हम

स्वाइप मशीन से फीस जमा कर रही महिला कर्मचारी पुष्पा अग्रवाल से पूछा गया कि एटीएम कार्ड से फीस जमा करने का आदेश अनिवार्य है क्या, तो उन्होंने कहा कि हमारे पास लिखित में कोई आदेश नहीं हैं, हमको प्राचार्य द्वारा एटीएम कार्ड से फीस जमा कराने के लिए बोला गया है, और हम तो मोदी के आदेश का भी पालन कर रहे हैं।

फीस के लिए लग रही है छात्राओं की लाइन

गल्र्स कॉलेज में स्वाइप मशीन से एटीएम कार्ड के जरिए फीस जमा कराई जा रही है। सैकड़ों छात्राओं के बीच एक ही मशीन हैं जिससे प्रक्रिया अत्यधिक धीमी होने से छात्राओं की लंबी लाइन लगी है। एक छात्रा का करीब आधा घंटे में नंबर आता है वह भी मशीन के नजदीक पहुंचते ही मशीन में गड़बड़ी होने पर फिर से लंबी लाइन लग जाती है।

केस- 01

बीएससी प्रथम वर्ष की छात्रा अंजली अपने भाई प्रियांशु को साथ लेकर शासकीय कन्या महाविद्यालय में फीस जमा करने गई थी। निर्धारित फीस 1179 की जगह 3500 रुपए एटीएम कार्ड से ट्रांजक्शन कर दिए। प्रियांशु ने बताया कि जब हमने मेडम को बोला कि हमारे मोबाइल पर मैसेज आया है कि हमारे खाते से 2321 रुपए ’यादा चले गए हैं, इनको वापस करो। तब मैंडम बोली कि मैसेज से कुछ नहीं होता। बैंक जाओ, वहां से पासबुक का स्टेटमेंट लेकर आओ, उसके बाद पैसे वापस किए जाएंगे।

केस- 02

बीएससी प्रथम वर्ष की छात्रा अंशी मित्तल ने बताया कि उसकी निर्धारित फीस 2179 रुपए है, जबकि मैंडम ने एटीएम कार्ड से 3500 रुपए बैलेंस डेबिट कर लिए हैं। निर्धारित फीस से 1321 रुपए ’यादा ले लिए हैं। जब उनसे कहा ये पैसे हमारे वापस करो तो वह संतोषजनक जवाब नहीं दे सकीं। यह तो गलत है कि फीस से अधिक वसूली की जा रही है। वहीं यह सख्त निर्देश दिए हैं कि एटीएम कार्ड से ही फीस जमा कराई जा सकती है। अगर आपके पास नहीं हैं तो साथी छात्रा का एटीएम मांग लो।

कथन

यह अनिवार्य नहीं हैं कि छात्र छात्राएं एटीएम कार्ड से ही फीस जमा करें। अगर किसी पर एटीएम कार्ड नहीं हैं तो वह चालान से फीस जमा कर सकता है।

डॉ. सी एल गुप्ता, प्राचार्य, शासकीय पी जी कॉलेज, मुरैना

एटीएम से ही फीस जमाई कराई जाए, ऐसा कोई नया आदेश नहीं आया है। हम तो पूर्व के आदेश के तहत फीस जमा करा रहे हैं। पूर्व ऑनलाइन फीस जमा कराने के आदेश आए थे। उसमें छात्र चालान भी जमा कर सकता है।

वसुंधरा गोयल, प्राचार्य, शासकीय डिग्री कॉलेज, जौरा

फीस एटीएम कार्ड से ही जमा कराई जा सकती है। अगर किसी छात्रा पर एटीएम कार्ड नहीं हैं तो वह किसी का मांगकर ला सकती है। रही बात फीस अधिक लेने की, वह हम दिखवा लेते हैं।

कमलेश श्रीवास्तव, प्राचार्य, शासकीय कन्या महाविद्यालय, मुरैना

Show More
rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned