Kaali Khuhi Movie Review : बचकाने हॉरर की भूलभुलैया, खोदा पहाड़ निकली चुहिया

By: पवन राणा
| Published: 30 Oct 2020, 11:15 PM IST
Kaali Khuhi Movie Review : बचकाने हॉरर की भूलभुलैया, खोदा पहाड़ निकली चुहिया
काली खुही' : बचकाने हॉरर की भूलभुलैया, खोदा पहाड़ निकली चुहिया

Kaali Khuhi Movie Review : निर्देशक टैरी समुंद्रा की यह पहली फिल्म है। अफसोस की बात है कि कन्या भ्रूण हत्या के मामलों का अध्ययन किए बगैर उन्होंने सुनी-सुनाई बातों पर अंधविश्वास का ऐसा लडख़ड़ाता तमाशा पेश किया, जिसमें शायद ही किसी वर्ग के दर्शकों की दिलचस्पी हो।

-दिनेश ठाकुर

शुक्रवार को ओटीटी प्लेटफॉर्म पर आई 'काली खुही' ( Kaali Khuhi Movie ) देखते हुए हैदर अली आतिश का शेर रह-रहकर दिमाग में घूमता रहा- 'बड़ा शोर सुनते थे पहलू में दिल का/ जो चीरा तो इक कतरा-ए-खूं (खून की बूंद) न निकला।' इस फिल्म को लेकर भी बड़ा शोर था कि यह कन्या भ्रूण हत्या जैसे गंभीर मसले के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाली है। लेकिन हॉरर के घिसे-पिटे फार्मूलों की भूलभुलैया में चक्कर काटते-काटते फिल्म किसी और की आवाज बनना तो दूर, खुद अपनी आवाज तक नहीं संभाल पाती। यह 'खोदा पहाड़ निकली चुहिया' का एक और नमूना है। ओटीटी प्लेटफॉर्म पर एक के बाद एक कई बचकाना हॉरर फिल्मों को देखकर यह यकीन होने लगा है कि भारतीय फिल्मकारों ( Indian Filmmakers ) के पास इस किस्म की फिल्मों में नया दिखाने के लिए कुछ नहीं है। सत्तर-अस्सी के दशक में हॉरर के नाम पर भूत-प्रेत और अतृप्त आत्माओं के जो तमाशे रामसे भाइयों की फिल्मों में बार-बार दोहराए जाते थे, इक्कीसवीं सदी में भी उन्हीं पर हाथ मारा जा रहा है। 'काली खुही' में जिन अंधविश्वासों का रायता फैलाया गया है, उन पर फिरोज खान और रीना रॉय की 'जादू टोना' (1977) समेत जाने कितनी फिल्में बन चुकी हैं। 'जादू टोना' में एक बच्ची छुट्टियां बिताने गांव पहुंचती है और एक 'दुष्ट आत्मा' उसके पीछे पड़ जाती है।

यह भी पढ़ें : बायकॉट और धार्मिक भावनाएं आहत होने के आरोपों के बाद बदला 'लक्ष्मी बम' का नाम

वही 'जादू टोना' का किस्सा
'काली खुही' में भी दस साल की शिवांगी (रेवा अरोड़ा) माता-पिता (सत्यदीप मिश्रा, संजीदा शेख) के साथ अपनी दादी (लीला सेमसन) के गांव पहुंचती है। यह गांव पंजाब का बताया गया है, लेकिन वहां ज्यादातर कलाकार पंजाबी नहीं बोलते। हमने तो सुना था कि पंजाब के लोग दुनिया के किसी भी कोने में पहुंच जाएं, पंजाबी बोलना नहीं भूलते। बहरहाल, गांव के एक पुराने कुएं के बारे में बताया जाता है कि बरसों पहले कई बच्चियों को मारकर उसमें फेंक दिया गया था। इसी कुएं को लेकर गांव में दहशत का माहौल है। मारी गई बच्चियों में से एक की आत्मा अपने हत्यारों से बदला लेना चाहती है। 'काली खुही' बनाने वाले दूर की कौड़ी लेकर आए हैं कि शिवांगी अकेली गांव को दहशत से मुक्त कर देती है।

घटनाएं तर्क से परे
न तो इस फिल्म की कहानी गले उतरती है, न घटनाओं का कोई तार्किक आधार नजर आता है। गांव की एक वृद्धा (शबाना आजमी) के पास मारी गईं तमाम बच्चियों के नाम हैं। अगर इनमें से ज्यादातर बच्चियों की गर्भ में ही हत्या की गई थी, तो यह कैसे मुमकिन है कि इनके नाम भी वृद्धा के पास हैं। नाम तो जन्म के बाद रखे जाते हैं। हद यह है कि फिल्म में कन्या भ्रूण हत्या का जिक्र भी हॉरर पैदा करने के लिए किया गया है। बीमार दादी लीला सेमसन अपनी बहू संजीदा शेख को बेटी पैदा करने के लिए ताने देती रहती है। इससे ज्यादा फिल्म कन्या भ्रूण हत्या पर फोकस नहीं कर पाती।

यह भी पढ़ें : Taish Movie Review : जानिए कैसी है कृति खरबंदा और पुलकित सम्राट की मूवी

पहली फिल्म में मायूस किया टैरी समुंद्रा ने
निर्देशक टैरी समुंद्रा की यह पहली फिल्म है। अफसोस की बात है कि कन्या भ्रूण हत्या के मामलों का अध्ययन किए बगैर उन्होंने सुनी-सुनाई बातों पर अंधविश्वास का ऐसा लडख़ड़ाता तमाशा पेश किया, जिसमें शायद ही किसी वर्ग के दर्शकों की दिलचस्पी हो। टैरी समुंद्रा इससे पहले करीब आधा दर्जन शॉर्ट फिल्में बना चुकी हैं। सिनेमा अगर कहानी कहने का हुनर है, तो 'काली खुही' देखने के बाद कहा जा सकता है कि फिलहाल वे इस हुनर से काफी दूर हैं।

शबाना आजमी भी नहीं बांध पाईं
शबाना आजमी ( Shabana Azmi ) को इस फिल्म में कुछ खास नहीं करना था। वह काफी देर बाद कहानी में दाखिला लेती हैं। उनकी मौजूदगी भी फिल्म को लडख़ड़ाहट से नहीं उभार पाती। कहानी रेवा अरोड़ा ( Riva Arora ) पर केंद्रित है। इस बच्ची का काम ठीक-ठाक है। उसके चेहरे पर दहशत के भाव पढ़े जा सकते हैं। यह दूसरी बात है कि इस हॉरर फिल्म में दर्शकों को कहीं दहशत महसूस नहीं होती। तथाकथित हॉरर के कई दृश्य तो हद से ज्यादा हास्यास्पद हैं।

यह भी पढ़ें : साउथ फिल्मों की बड़ी कंपनी ने की बॉलीवुड में एंट्री, अब धड़ाधड़ बनेंगी धांसू फिल्में

'बुलबुल' से भी कमजोर
लॉकडाउन के दौरान जिन हॉरर फिल्मों का डिजिटल प्रीमियर हुआ, उनमें कल तक 'बुलबुल' को सबसे कमजोर माना जा रहा था। उसमें भी तर्कों को ताक में रखा गया था। 'काली खुही' तर्कों की धज्जियां उड़ाने के मामले में 'बुलबुल' से भी चार कदम आगे है। जाने हमारे फिल्मकार उस सलीके से कब लैस होंगे, जो हॉलीवुड की हॉरर फिल्मों में नजर आता है। वहां की फिल्में देखकर सीखा जाना चाहिए कि भूत-प्रेतों के तमाशों के बगैर भी हॉरर फिल्म कैसे बनाई जाती है।


० फिल्म : काली खुही
० रेटिंग : 2/5
० अवधि : 1.30 घंटे
० निर्देशक : टैरी समुंद्रा
० लेखन : रूपिन्दर इंद्रजीत, डेविड वाल्टर, टैरी समुंद्रा
० फोटोग्राफी : सेजल शाह
० संगीत : डेनियल बी. जॉर्ज
० कलाकार : शबाना आजमी, रेवा अरोड़ा, संजीदा शेख, सत्यदीप मिश्रा, लीला सेमसन, पूजा शर्मा, पल्लवी कुमारी, चांद रानी, जतिन्दर कौर, सुखविन्दर विर्क आदि।