Budget 2017: पांच लाख तक की इनकम वालों को राहत, 315 ऑनलाइन कोर्स होंगे शुरू

 Budget 2017: पांच लाख तक की इनकम वालों को राहत, 315 ऑनलाइन कोर्स होंगे शुरू
budget2017

समय से पहले और नोटबंदी के बाद घोषित बजट में सरकार ने सभी के लिए कुछ न कुछ प्रावधान किए हैं। 


इंदौर। समय से पहले और नोटबंदी के बाद घोषित बजट में सरकार ने सभी के लिए कुछ न कुछ प्रावधान किए हैं। एक तरफ जहां विशेषज्ञ खुश हैं, वहीं दूसरी ओर वे इस बजट को जीएसटी की नींव मान रहे हैं। केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने संसद में जो बजट पेश किया है उसमें शिक्षा, किसान, छोटे उद्योगों समेत लगभग सभी का विशेष ध्यान रखा है। बजट में रेलवे के लिए भी कई महत्वपूर्ण घोषणाएं की गई हैं। टैक्स स्लैब की बात करें तो छोटे उद्योगों को राहत देते हुए सरकार ने बड़े उद्योगों पर अतिरिक्त कर का बोझ डाला है। इससे बड़े और छोटे के बीच की खाई की भरपाई करने की कोशिश की गई है।


बजट में ऑनलाइन कोर्सेस को बढ़ावा

टैक्स प्रैक्टिस एसोसिएशन के जॉइंट सेक्रेटरी राजेश जोशी ने बजट की समीक्षा करते हुए कहा कि सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण बदलाव किए हैं। इन बदलावों में ऑनलाइन कोर्स को प्रमोट किया गया है। सरकार जल्द ही 600 जिलों में प्रदेश कौशल विकास केंद्र स्थापित किए जाएंगे। साथ ही फॉरेन लैंग्वेज को भी बढ़ावा दिया गया है ताकि देश के युवाओं को देश के बाहर भी रोजगार के अवसर पैदा करें। डीटीएच के माध्यम से ऑनलाइन कोर्सेस को बढ़ावा दिया जाता है। 

budget2017

टैक्स स्लेब में काफी हद तक दिया रिलीफ

टीपीए के वाइस प्रेसिडेंट विजय बंसल चर्चा में बताया कि टैक्स स्लैब में भी सरकार ने बड़े बदलाव किए हैं। इन बदलावों से कम आय वालों को सरकार ने फायदा देने की कोशिश की है। टैक्स स्लैब में बदलाव करते हुए 2.5 से 5 लाख तक के आय वालों को 5 प्रतिशत की टैक्स में छूट दी गई है। देश की इकॉनोमी को इससे जो नुकासन होगा उसकी भरपाई के लिए सरकार ने बड़े उद्योगपतियों पर एक्स्ट्रा सरचार्ज लगाया है। जो उद्योगपति 30 प्रतिशत कर के साथ रिटर्न फाइल करते थे उन्हे भी इस बजट में 5 प्रतिशत की छूट दी गई है। इससे बड़े और छोटे उद्योगों के बीच की खाई को पाटने की कोशिश की गई है। इससे देश की इकॉनोमी को फायदा होगा।

budget 2017


मेडिकल स्टूडेंट्स की हालत सुधरेगी

मेडीकल स्डूडेंट्स को राज्य सरकार के बजट में बहत बडा तोहफा मिला हैं। मेडिकल कॉलेजों में वर्तमान में 150 सीटें थी जिन्हें बढाकर अब 250 कर दिया गया है जिससे सीधा-सीधा फायदा मेडिकल स्टूडेंट्स को होगा। भारत में 2200 लोगों पर सिर्फ एक डॉक्टर है लेकिन सरकार के इस नए बजट से स्थिति जरूर सुधरेगी ऐसी उम्मीद है। इससे इंदौर के स्टूडेंट्स को भी पूरा-पूरा फायदा मिलेगा क्योंकि स्टूडेंट्स को रीजनल लेवल पर ही फायदा हुआ है।
- डॉ. पंकज गुप्ता, ब्रैन मास्टर्स क्लासेस

यहां जानिए एक्सपर्ट्स की राय...




खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned