#IMPACT: कालाधन बाहर आने से मिलेगा उद्योग जगत को फायदा

#IMPACT: कालाधन बाहर आने से मिलेगा उद्योग जगत को फायदा

केंद्र सरकार के करंसी बदलने के फैसले को आर्थिक विशेषज्ञों ने सराहा, एआईएमपी में आयोजित परिचर्चा में उद्योगपतियों को बताए फैसले के फायदे

इंदौर. 'केंद्र सरकार द्वारा 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करने के फैसले से उद्योग जगत को कोई नुकसान नहीं होगा। देश में जमा कालाधन बाहर आने से देश का उद्योग जगत उन्नत होगा। जो परिस्थितियां आज बनी है उससे उद्योग और कारोबार में 70 प्रतिशत की कमी जरूर आई हैं, लेकिन जल्द ही यह परिस्थिति नियंत्रण में आएगी। नए नोट पर्याप्त मात्रा में आते ही अर्थव्यवस्था स्थिर और मजबूत होगी।

उक्त बातें शहर के ख्यात अर्थशास्त्री डॉ. जयंतीलाल भंडारी ने गुरुवार को एसोसिएशन ऑफ इंडस्ट्रीज मप्र (एआईएमपी) में केंद्र सरकार के हालिया फेैसले से उद्योग जगत पर होने वाले प्रभाव विषय पर आधारित परिचर्चा में कहीं। उन्होने कहा, उद्योग जगत को घबराने की जरूरत नहीं है, आने वाले समय में उद्योग जगत को लाभ होगा।

भ्रष्टाचार पर कसेगा शिकंजा
सरकार के फैसले से नकली नोट अर्थव्यवस्था से बाहर होंगे, भ्रष्टाचार पर शिकंजा कसेगा। कार्यक्रम में मौजूद विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स के हेड डॉ. गणेश कावडिय़ा ने भी सरकार के इस फैसले को ऐतिहासिक बताते हुए कहा कि उद्योग जगत के साथ कृषि के क्षेत्र में भी फायदा होगा। 

उन्होंने उम्मीद जताई कि देश की जीडीपी के विकास में यह कदम कारगर साबित होगा। सीए अभय शर्मा ने कहा इस निर्णय से बैंकों में पैसों की आवक बढ़ेगी और लोन की ब्याज दरों में भी काफी कमी आएगी। इससे पहले अतिथियों का स्वागत एआईएमपी के अध्यक्ष ओम धूत किया। कार्यक्रम का संचालन सचिव योगेश मेहता ने किया एवं आभार प्रमोद डफरिया ने माना। गणपत गोयल, स्वदेश शर्मा, मनोहर नागपाल और हरीश सुरेका भी विशेष रुप से मौजूद थे।
खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned