234 सड़कों को लेकर 1700 करोड़ रुपए का घोटाला उजागर

234 सड़कों को लेकर 1700 करोड़ रुपए का घोटाला उजागर

Navneet Sharma | Publish: May, 17 2019 06:56:48 PM (IST) Mumbai, Mumbai, Maharashtra, India

सड़क घोटाले मामला : 2015 में हुआ था 17००० करोड़ का घोटाला
इंजीनियरों को सजा में राहत की अनुशंसा
चार वर्ष पहले सड़क घोटाला को लेकर बीएमसी में हुआ काफी हंगामा हुआ था।

मुंबई. बीएमसी में 2015 में हुए सड़क घोटाला मामले में पांच इंजीनियरों को राहत मिली है। इस मामले में 169 इंजीनियरों को दोषी पाया गया था, इनमें से छह लोगों को काम में लापरवाही के चलते निलंबित कर दिया गया था।
अदालत के आदेश पर 56 इंजीनियरों ने पुन: विचार की अपील की थी। इसके बाद आयुक्त ने समिति बनाकर रिपोर्ट तैयार करने को कहा। इस समिति ने अपनी रिपोर्ट में पांच इंजीनियरों की सजा को कम करने की सिफारिश की है।


चार वर्ष पहले सड़क घोटाला को लेकर बीएमसी में काफी हंगामा हुआ था। 234 सड़कों को लेकर 1700 करोड़ रुपए का घोटाला उजागर हुआ था। तत्कालीन मेयर स्नेहल आंबेकर ने इस मामले में जांच की मांग की थी। जांच में सड़कों के कामों में अनियमितता पाई गई थी।

जिसके बाद तत्कालीन आयुक्त अजोय मेहता न घोटाले की जांच के लिए दो समितियां बनाई और उस समय के अतिरिक्त आयुक्त संजय देशमुख की अध्यक्षता में समिति ने 34 सड़कों की जांच रिपोर्ट में 100 इंजीनियरों की जांच की और इस रिपोर्ट के आधार पर 96 इंजीनियरों को दोषी पाया गया था।

साथ ही चार लोगों को निलंबित किया गया था। इसके अलावा उपायुक्त रमेश बांबले (विशेष अभियांत्रिकी) और मुख्य जांच अधिकारी राजेंद्र रेलेकर की जांच में छह इंजीनियर को तत्काल प्रभाव से निकाल गया, 23 का पद कम कर उन्हें मूल वेतन पर भेज दिया गया, 13 इंजीनियरों की तीन वर्ष के लिए वेतन वृद्धि रोक दी गई। जबकि 17 का दो वर्ष के लिए पूरा वेतन वृद्धि रोक दी गई थी। 67 इंजीनियरों का एक वर्ष तक वेतन वृद्धि पर रोक लगाई गई थी।


31 को एक वर्ष के लिए वेतन वृद्धि तत्कालीन रोक दिया गया था। 16 से नकद जुर्माना वसूल किया गया है। एक इंजीनियर को नोटिस दी गई है तो वहीं पांच इंजीनियरों को निर्दोष बताया गया था।

कार्रवाई के बाद 56 इंजीनियरों ने गलत जांच की शिकायत करते हुए कार्रवाई पर पुन: विचार करने की मांग की थी। मार्च के अंत में जांच की रिपोर्ट आयुक्त को पेश किया गया। रिपोर्ट में पांच इंजीनियरों की सजा कम करने की सिफारिश की है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned