नए साल में मिल मजदूरों के लिए 3,835 घर, मुंबईकरों को Mhada उपलब्ध कराएगी सिर्फ 59 घर...

नए साल में मिल मजदूरों ( Mill Workers ) के लिए 3,835 घर, मुंबईकरों ( Mumbaikars ) को म्हाडा ( Mhada ) उपलब्ध कराएगी सिर्फ 59 घर, कोंकण बोर्ड ( Konkan Board ) के तहत 6 हजार 455 घर छोड़े जाने की संभावना, 2022-23 तक मुंबई में आठ हजार घर होने जी उम्मीद

By: Rohit Tiwari

Published: 03 Jan 2020, 11:42 AM IST

रोहित के. तिवारी
मुंबई. नए साल में म्हाडा की ओर से मुंबईवासियों के लिए केवल 59 घर और ठाणे में 32 घर उपलब्ध कराए जा सकेंगे। वहीं मिल मजदूरों के लिए इस साल मुंबई में 3 हजार 835 घर निकाले जाएंगे, जबकि कोंकण बोर्ड के तहत 6 हजार 455 घरों को छोड़ने की भी संभावना है। मुंबई हाउसिंग बोर्ड के कार्यकारी अभियंता भूषण देसाई ने बताया कि म्हाडा मुंबई में 2022-23 में लोगों के लिए सात से आठ हजार घर उपलब्ध करा सकती है। गोरेगांव के पत्रा चॉल मामले में रेजिडेंसी प्रमाण पत्र की कमी के कारण 360 निवासियों पर कार्रवाई करनी पड़ी। इस अनुभव पर विचार करते हुए देसाई ने कहा कि निवास प्रमाण पत्र प्राप्त किए बिना निकासी के लिए घर उपलब्ध नहीं कराने का निर्णय लिया गया था।

महाराष्ट्र के खाते में 52 हजार घर, आखिर म्हाडा को कैसे मिलेंगे मकान ?

खतरनाक इमारतें खाली कराना शुरू, म्हाडा का पुनर्विकास अभियान?

विक्रोली, घटकोपर में उपलब्ध होंगे घर...
विदित हो कि मुंबई महानगर प्रदेश प्राधिकरण को मिल मजदूरों के लिए कुछ मकान मिलने वाले हैं। इसके अलावा घर बॉम्बे डाइंग, स्प्रिंग मिल परियोजना में 350 घर और श्रीनिवास मिल परियोजना के तहत 485 घर उपलब्ध होंगे। इन घरों को बिक्री के लिए उपलब्ध कराया जाएगा। म्हाडा के पास वर्तमान में आम घरों के लिए कोई भूखंड उपलब्ध नहीं है। नए साल में जिन 59 घरों को उपलब्ध कराया गया है, वे पुनर्विकास परियोजना के तहत घरों का भंडारण है। देसाई ने यह भी बताया कि ये घर कन्नमवार नगर (विक्रोली) और पंतनगर (घाटकोपर) में ये घर उपलब्ध हैं।

कुर्ला में बन सकते हैं 3 हजार घर...
उल्लेखनीय है कि गोरेगांव पहाड़ी क्षेत्र में पांच हजार घर निर्माणाधीन हैं, जो ये घर 2021 या 2022 में मिल सकते हैं। वहीं म्हाडा ने कानूनी लड़ाई के तगत पवई स्थित पॉपकॉर्न प्लॉट भी जब्त कर लिया है, जिस भूखंड पर दस हजार घर उपलब्ध हो सकते हैं। बकौल देसाई इसके अलावा कुर्ला में एक भूखंड भी लिया गया है, जहां म्हाडा दो से तीन हजार घर बना सकता है। मोतीलाल नगर कॉलोनी का पुनर्विकास भी म्हाडा की ओर से ही किया जाएगा। वहीं उन्होंने कहा कि बीडीडी चॉल के जरिए नौ हजार घर उपलब्ध होंगे।

म्हाडा की है मिल मजदूरों को घर दिलाने की जिम्मेदारी

मिल कर्मचारियों को घर देने के प्रस्ताव को अंतिम रूप

नए साल में मिलेगी राहत...
उल्लेखनीय है कि कोंकण हाउसिंग बोर्ड कल्याण के शिरढोण में पांच हजार घरों और खोणी, भंडार्ली में 1 हजार 136 घर छोड़े जाने की उम्मीद है। इसके अलावा मनकोली - भिवंडी (279), घनसोली (40), वसई (15) में भी घर उपलब्ध हैं और नए साल में राहत के साथ उपलब्ध होंगे।

नए साल में मिल मजदूरों के लिए 3,835 घर, मुंबईकरों को  <a href=MHADA उपलब्ध कराएगी सिर्फ 59 घर..." src="https://new-img.patrika.com/upload/2020/01/03/mhada__1_5589901-m.jpg">

पीएमएवाई के तहत 2.5 लाख घर...
म्हाडा आम लोगों के लिए अधिक घरों को उपलब्ध कराने का प्रयास करती है। हालांकि नए साल में समान्य वर्ग के लिए मुंबई में बहुत सारे घर नहीं हैं, जबकि सात से आठ हजार आवास परियोजनाएं चल रही हैं। इन परियोजनाओं को तब तक आश्रय नहीं दिया जाएगा, जब तक ये परियोजनाएं रेजिडेंसी प्रमाण पत्र प्राप्त नहीं करती हैं। इसके अलावा राज्य भर में प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के तहत करीब ढाई लाख घर उपलब्ध होंगे।
- मिलिंद म्हैस्कर, उपाध्यक्ष, म्हाडा

Show More
Rohit Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned