पानी रोकने का उपाय बताने वाले को एक लाख का इनाम

पानी रोकने का उपाय बताने वाले को एक लाख का इनाम

Arun lal Yadav | Publish: Aug, 08 2019 11:49:47 AM (IST) Mumbai, Mumbai, Maharashtra, India

पानी आने के कारण पिछले दिनों सेंट्रल और वेस्टर्न रेलवे बुरी तरह से प्रभावित हुई है। इससे रेलवे इतनी परेशान है कि इसे रोकने के लिए रेलवे को इनाम की घोषणा करने के लिए मजबूर हो गई है।


पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मुंबई. पटरियों पर पानी आने की घटनाओं से परेशान सेंट्रल/वेस्टर्न रेलवे के महाप्रबंधक एके गुप्ता पटरी पर पानी आने से रोकने का सबसे बेहतर उपाय बताने वाले बाढ़ अधिकारियों को 1 लाख रुपए के इनाम की घोषणा की है। गौरतलब हो कि पटरियों पर पानी आने के कारण पिछले दिनों सेंट्रल और वेस्टर्न रेलवे बुरी तरह से प्रभावित हुई है। इससे रेलवे इतनी परेशान है कि इसे रोकने के लिए रेलवे को इनाम की घोषणा करने के लिए मजबूर हो गई है। बता दें कि बारिश के मौसम में सेंट्रल और वेस्टर्न रेलवे पटरियों को बढ़ाने, भारी शुल्क पंपों को तैनात करने और पटरियों पर बाढ़ को रोकने के लिए नालियों की सफाई सहित कई कदम उठाते हैं। उनके इन उपायों के बावजूद पटरियों पर आने वाले पानी पर रोक नहीं लगी है, जिससे यात्रियों को भारी परेशान का सामना करना पड़ता है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि महाप्रबंधक एके गुप्ता ने घोषणा की है कि बाढ़ को रोकने के लिए समग्र समाधान के साथ आने वाले अधिकारियों को 1 लाख रुपये का इनाम दिया जायेगा।

गुप्ता ने कर्मचारियों को दिए एक संदेश में कहा कि हमारे समर्पित क्षेत्र कर्मचारी/अधिकारी मुंबई उपनगर का पूरा भूगोल जानते हैं और हमने पानी को रोकने के लिए कई उपाय भी किए हैं, पर कोई ठोस परिणाम नहीं मिल सका है। मैं चाहता हूं कि पानी को रोकने के लिए बेहतर उपाय किए जाने की जरूरत है। यदि कोई समूह ट्रेक पर पानी आने के कारण और उससे बचाव का तरीका बताता है तो हम उसे इनाम देंगे। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि महाप्रबंधक की यह पहल प्रशंसनीय है लेकिन सेंट्रल रेलवे की समस्याएं वेस्टर्न से अलग हैं। यहां यदि मीठी नदी ओवरफ्लो हो जाती है, तो कोई भी उपाय ट्रैक पर पानी आने से रोक नहीं सकता है। एक अन्य अधिकारी ने कहा कि बदलापुर और कल्याण जैसे क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर निमार्ण कार्य हो रहा है, जिसमें जरूरी सावधानियां नहीं बरती जा रही हैं,इसके चलते पानी रेलवे पटरियों पर आ रहा है। ऐसे में इस समस्या का हल रेलवे कैसे खोज सकता है?

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned