अंडे को कृत्रिम रूप से गर्म करके अजगर के बच्चों को दिया जीवनदान

अजगर के 6 बच्चों को सही सलामत जंगल में छोड़ दिया

अजगर और अजगर का अंडा होने की जानकारी मिली थी

 

By: Subhash Giri

Published: 21 Jun 2020, 10:37 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
नवी मुंबई. सर्प मित्र तेजस उलवेकर और उसके साथी को तलोजा एमआईडीसी की एक कंपनी में अजगर और अजगर का अंडा होने की जानकारी मिली थी। इस तरह की सूचना मिलने के बाद इन लोगों ने न केवल अजगर को जीवनदान दिया, बल्कि खराब अवस्था मे मिले अंडे को घर में निश्चित तापमान में अंडे को रखा जिससे पैदा हुए अजगर के 6 बच्चों को सही सलामत जंगल में छोड़ दिया गया। तेजस उलवेकर ने बताया कि पनवेल में सर्प मित्र संघटना एमएच 46 सेव वाइल्ड लाईफ ग्रुप के सदस्यों का इसके लिए महत्वपूर्ण समर्थन मिला है।
----------
आखिरकार बीस-पच्चीस दिन बाद हार गई जिंदगी
कोरोना के कर्मवीर ने दम तोड़ा
कल्याण. बीस-पचीस दिनों से मुंबई के जसलोक अस्पताल में कोरोना से लड़ाई लड रहे कल्याण के सुप्रसिद्ध डाक्टर पराग पाटील ने दम तोड़ दिया। डा. पराग पाटील 53 साल के थे और कल्याण में कोरोना पीडि़तों की इलाज में लगे हुए थे। परिवार में पत्नी के अलावा 2 बच्चे भी हैं। पत्नी स्त्री रोग विशेषज्ञ हैं। बताया जाता है कि दूसरों की सेवा करते करते डाक्टर पराग पाटील खुद कोरोना के शिकार हो गए। इलाज के लिए उन्हें मुंबई के जसलोक अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां शनिवार रात उनकी मृत्यु हो गई। इस घटना से डाक्टरों को बहुत बड़ा धकक लगा है। इंडियन मेडिकल एशो.के सदस्य डा. प्रशांत पाटील सहित तमाम डाक्टरों ने दुख जताया है।

Subhash Giri
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned