BMC अस्पतालों को इसलिए करना होगा 2.79 करोड़ रुपये का भुगतान

शाम 4 बजे के बाद मरीजों को इलाज ( Treating Patients )के लिए ठेकेदार नियुक्त ( Appointed Contractor ) करने का फैसला, बीएमसी ( BMC ) को करना होगा 2.79 करोड़ रुपये का भुगतान ( Payment ), विभिन्न स्थानों पर शुरू हैं 186 क्लीनिक ( Clinic ), मरीजों को सस्ती चिकित्सा ( Affordable Medicine ) प्रदान करने के लिए निर्णय

मुंबई. बीएमसी प्रशासन ने मुंबई के नगरपालिका अस्पतालों में शाम 4 बजे के बाद मरीजों को इलाज मुहैया कराने के लिए एक ठेकेदार नियुक्त करने का फैसला किया है। 15 दवाखानों के अंतर्गत दोपहर 4 से रात 11 बजे तक ठेकेदार के माध्यम से मरीजों का इलाज किया जाएगा। ठेकेदार उपलब्ध कराने को लेकर स्वास्थ्य अधिकारी और बहुउद्देश्यीय कार्यकर्ता को वेतन के लिए नगर पालिका को 2.79 करोड़ रुपये का भुगतान करना होगा। गरीब परिवारों के मरीजों को सस्ती चिकित्सा प्रदान करने के लिए नगरपालिका के सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग ने मुंबई में विभिन्न स्थानों पर 186 क्लीनिक शुरू किए हैं।

मुंबई के दो प्रमुख अस्पतालों में लगेगा सौर ऊर्जा

मुंबई के केईएम अस्पताल में शाम की ओपीडी, इस तरह सुलभ हो सकेगा उपचार

BMC अस्पतालों को इसलिए करना होगा 2.79 करोड़ रुपये का भुगतान

स्वास्थ्य समिति के अध्यक्ष ने की मांग...
विदित हो कि इन क्लीनिकों में सुबह 9 से दोपहर 4 बजे के बीच मरीजों का इलाज किया जाता है। वहीं कई लोग जो कार्यालय जाते हैं, उनका सुबह 9 से दीपहर 4 बजे के बीच अस्पताल में इलाज नहीं किया जा सकता है। इसके अलावा निजी क्लिनिक में इलाज कराने के लिए उनके पास पर्याप्त वित्तीय साधन भी नहीं हैं। इसे ध्यान में रखते हुए, स्वास्थ्य समिति के अध्यक्ष अमेय घोले ने महापौर को पत्र भेजा था, जिसमें मांग की गई थी कि नगर निगम के क्लीनिक दोपहर 4 बजे से रात 11 बजे तक खुले रहें। पत्र को ध्यान में रखते हुए महापौर ने क्लिनिक को दोपहर 4 बजे से रात 11 बजे तक खुला रखने का सुझाव दिया।

Good News: कस्तूरबा अस्पताल में शुरू होगा आइसोलेशन वार्ड

आए दिन इस वजह से बंद हो रही सायन अस्पताल की डायलिसिस यूनिट ?

चार बार निकाली गईं निविदाएं...
विदित हो कि जनशक्ति की कमी के चलते प्रशासन ने ठेकेदार के माध्यम से चयनित 15 क्लीनिकों को दोपहर 4 बजे से रात 11 बजे तक खुला रखने का फैसला किया है। औषधीय अधिकारियों (डॉक्टरों) और बहुउद्देशीय श्रमिकों को औषधालयों की आपूर्ति के लिए प्रशासन की ओर से निविदा प्रक्रिया लागू की गई थी। वहीं ठेकेदारों से प्रतिक्रिया की कमी के चलते प्रशासन को चार बार निविदा प्रक्रिया का विस्तार करना पड़ा, जबकि चौथी बार में दो ठेकेदारों ने जवाब दिया। प्रशासन ने स्वास्थ्य अधिकारी और बहुउद्देश्यीय कार्यकर्ता के मानधन के लिए प्रति माह क्रमशः 59 हजार 675 व 17 हजार 792 रुपए अंदाजन खर्चा निविदा के माध्यम से व्यक्त किया था। वहीं स्वास्थ्य अधिकारी और बहुउद्देश्यीय कार्यकर्ता को क्रमशः 60 हजार व 15 हजार 500 रुपए मानधन देने की तैयारी के बाबत रुबी अलकेअर सव्‍‌र्हीसेस कंपनी को यह काम दिया गया है। इसके बाद ठेकेदारों को प्रत्येक क्लिनिक में एक चिकित्सा अधिकारी और बहुउद्देशीय कार्यकर्ता उपलब्ध कराने होंगे।

जनता के 25 करोड़ वाडिया हॉस्पिटल को दिए

जरूरतमंद मरीजों को आसानी से मिलेगा रक्त

ठेकेदार समय-समय पर होंगे ब्लैकलिस्ट...
उल्लेखनीय है कि यदि चिकित्सा अधिकारी अनुपस्थित है, तो ठेकेदार को इसके प्रतिस्थापन के लिए व्यवस्था करनी होगी। ऐसा करने में विफलता या अन्य शर्तों के उल्लंघन के परिणामस्वरूप ठेकेदार के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा नगर पालिका के अधिकारियों की माने तो अगर मरीजों को स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने में कोई समस्या है, तो ठेकेदार के नाम को समय-समय पर ब्लैकलिस्ट किया जाएगा।

प्लास्टिक सर्जरी से जोड़ा व्यक्ति का हाथ

नायर अस्पताल में रैगिंग, महिला डॉक्टर ने दी जान

Show More
Rohit Tiwari
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned