कोरोना का झटका: मंत्रियों-अफसरों के वेतन में 60% कटौती, कर्मचारियों को मिलेगी आधी पगार

कोरोना (covid-19) की रोकथाम के लिए महाराष्ट्र (Maharashtra) सहित देश भर में लॉक डाउन घोषित है। कल-कारखाने बंद हैं और राजस्व वसूली (Revenue Collection) उम्मीद के मुताबिक नहीं हो रही है। इसे देखते हुए मंत्रियों, विधायकों, अधिकारियों और कर्मचारियों के वेतन में कटौती की घोषणा उप-मुख्यमंत्री अजीत पवार ने (Ajeet Pawar) की। वैसे चतुर्थ श्रेणी (D Grade) कर्मचारियों के वेतन में कटौती नहीं की गई है।

By: Basant Mourya

Published: 31 Mar 2020, 06:01 PM IST

मुंबई. कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए घोषित लॉक डाउन का असर महाराष्ट्र की अर्थव्यवस्था पर दिखने लगा है। वित्तीय संकट से बचने के लिए मुख्यमंत्री (CM) और मंत्रियों (Ministers) सहित विधायकों (MLA'S), अधिकारियों (Officers) और सरकारी कर्मचारियों के मार्च के वेतन (Salary) में भारी कटौती की गई है। मंत्रियों और विधायकों को मार्च में 60% कम वेतन मिलेगा। ए और बी ग्रेड के अधिकारियों-कर्मचारियों को आधी पगार (50%) मिलेगी। सी ग्रेड (C Grade) के कर्मचारियों को मार्च में 25 प्रतिशत कम वेतन मिलेगा। डी ग्रेड यानी चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के वेतन में कटौती नहीं होगी।
वित्त मंत्री (Finance Minister) की जिम्मेदारी संभाल रहे उप-मुख्यमंत्री (Dy. CM) अजीत पवार ने मंगलवार को फैसले की जानकारी दी। इससे पहले वित्त मंत्री ने अधिकारियों और कर्मचारी संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की। राज्य की अर्थव्यवस्था पर कोरोना की रोकथाम से जुड़े उपायों के प्रभाव पर बैठक में चर्चा हुई। पवार ने कहा कि हालात अच्छे नहीं हैं। लॉक डाउन (lock down) और कफ्र्यू (curfew) के चलते राजस्व वसूली प्रभावित हो रही है। उन्होंने कहा कि कोरोना से जुड़ी चुनौती का सभी को मिल कर का सामना करना होगा।

तबलीग के कार्यक्रम में शामिल लोगों का पता लगाएं
स्वास्थ्य मंत्री (Health Minister) राजेश टोपे (Rajesh Tope) ने अधिकारियों से यह पता लगाने को कहा है कि दिल्ली में तबलीग-ए-जमात के कार्यक्रम में महाराष्ट्र से कितने लोग शामिल हुए थे। स्वास्थ्य मंत्री के आदेश के बाद अधिकारियों ने छानबीन शुरू कर दी है। तबलीग के कार्यक्रम में शामिल हुए लोगों को क्वारेंटाइन किया जा सकता है। साथ ही उनकी कोरोना जांच भी कराई जा सकती है। सूत्रों के अनुसार मुंबई सहित राज्य भर से दर्जनों लोग तबलीग के कार्यक्रम में हिस्सा लेने गए थे।

राज्य में 230 कोरोना संक्रमित
सरकार के तमाम उपायों के बावजूद महाराष्ट्र (Maharashtra) में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। राज्य में कोरोना संक्रमित 230 मरीज हैं। सोमवार तक राज्य में 4,538 संदिग्ध मरीजों की जांच की गई। इनमें से 3,876 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। देश की आर्थिक राजधानी के उन इलाकों की बीएमसी (BMC) जीआईएस मैपिंग करा रही है, जहां कोरोना मरीज पाए गए हैं। कोरोना की रोकथाम के लिए बीएमसी ने वार रूम बनाया है।

COVID-19
Show More
Basant Mourya
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned