आयुर्वेदिक औषधियों से होगा कोरोना मरीजों का उपचार

  • केंद्र की हरी झंडी, डॉक्टरों को राज्य सरकार की अनुमति का इंतजार

By: Arun lal Yadav

Published: 10 May 2020, 07:35 PM IST

अरुण लाल
मुंबई. महाराष्ट्र में आयुर्वेदिक पद्धति से कोरोना मरीजों के उपचार के लिए केंद्र सरकार की हरी झंडी मिल गई है। आयुर्वेद के डॉक्टरों को राज्य सरकार से अनुमति मिलने का इंतजार है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इस मामले में सकारात्मक संकेत दिया है। उद्धव ने कहा कि जिन मरीजों में कोरोना के हल्के-फुल्के लक्षण हैं, उनका उपचार आयुर्वेदिक औषधियों से किया जा सकता है। कैबिनेट मंत्री अनिल परब ने कहा कि सरकार जल्द ही इस बारे में फैसला करेगी।
आयुर्वेद के एमडी डॉ. महेश संघवी ने कहा कि शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा कर हम बीमारी से बच सकते हैं। उन्होंने बताया कि अश्वगंधा, गुड़ुचि, यस्टि मधि और आयुष-64 सहित अन्य तरीकों से हम कोरोना मरीजों का उपचार कर सकते हैं। अभी राज्य सरकार से हमें अनुमति नहीं मिली है। डॉ संघवी ने दावा किया कि आयुर्वेद में ऐसी कई दवाएं हैं, जिनसे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाई जा सकती है। उन्होंने बताया कि रविवार से हम ठाणे में 600 मरीजों को आयुर्वेदिक दवाएं देंगे।

यूनानी और होम्योपैथी भी तैयार
इंट्रीग्रेटेड मेडिसिन प्रैक्टिशनर एसोसिएशन (यूनानी, एलोपैथी) के डॉ. जुबेर शेख ने बताया कि हमारे डॉक्टर राज्य के कई क्वारेंटाइन सेंटर पर काम कर रहे हैं। महाराष्ट्र यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेस के होम्योपैथी फैकल्टी के डीन डॉ. धनाजी गोविंद बागल ने कहा कि हमें भी कोरोना पीडि़तों के उपचार की अनुमति मिलनी चाहिए।

Show More
Arun lal Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned