scriptCorona spread from China itself? WHO ready for investigation | चीन से ही फैला कोरोना? जांच के लिए डब्ल्यूएचओ तैयार | Patrika News

चीन से ही फैला कोरोना? जांच के लिए डब्ल्यूएचओ तैयार

पुणे के वैज्ञानिक दंपती का दावा-2012 में मिला था संदेहास्पद वायरस
चमगादड़ों के बसेरे की सफाई के दौरान संक्रमित तीन मजदूरों की मौत
कोविड से दुनिया भर में ६३ लाख से ज्यादा लोगों की मौत

मुंबई

Published: June 14, 2022 07:42:08 pm

ओमसिंह राजपुरोहित/पुणे. दुनिया भर में 63 लाख से ज्यादा लोगों की जान ले चुके कोरोना corona की उत्पत्ति की गुत्थी सुलझ सकती है। नए सिरे से जांच कराने के भारत सहित कई देशों के विशेषज्ञों के समूह के सुझाव को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) WHO ने मान लिया है। अंतरराष्ट्रीय समूह का हिस्सा व महामारी पर शोध कर चुके वैज्ञानिक दंपती मोनाली रहाल्कर और राहुल बहुलीकर कई बार डब्ल्यूएचओ को पत्र लिख चुके हैं। बहुलीकर ने बताया कि रिसर्च के दौरान हमने पाया कि 2012 में चीन China के मोजियांग स्थित एक माइनशॉफ्ट चमगादड़ों का बसेरा थी। इसकी सफाई के लिए लगाए गए 6 से 7 मजदूर न्यूमोनिया pneumonia जैसी बीमारी की चपेट में आए थे। इनमें तीन मजदूरों की मौत हो गई थी। इन सबमें वही लक्षण थे, जो आमतौर पर कोविड मरीजों में दिखते हैं। डब्ल्यूएचओ के वैज्ञानिक सलाहकार ग्रुप (सागो) ने 9 जून को जारी रिपोर्ट में लैब लीक से जुड़ी थ्योरी की जांच कराने को कहा है। अमरीका सहित कई देश कोरोना वायरस फैलाने के लिए चीन को जिम्मेदार बताते रहे हैं, जिसे डब्ल्यूएचओ का विशेषज्ञ समूह पहले खारिज चुका है। अभी तक ऐसा कोई सबूत नहीं मिला, जिससे साबित हो सके कि चीन ने ही विश्व को महामारी का दंश दिया है।

चीन से ही फैला कोरोना? जांच के लिए डब्ल्यूएचओ तैयार
चीन से ही फैला कोरोना? जांच के लिए डब्ल्यूएचओ तैयार

जीनोम में बदलाव
रहाल्कर ने पत्रिका को बताया कि अप्रेल, 2020 में हमने रिसर्च शुरू किया। हमारे शोध में कुछ तथ्य सामने आए हैं। वुहान wuhan इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी ने खदान से सैंपल कलेक्ट किया था। मजदूरों की मौत की वजह जानने के लिए वूहान लैब में जांच हुई थी। 2013 में रैटजी13 वायरस मिला था। सार्स कोव-2 वायरस उससे काफी मिलता-जुलता है। जांच के दौरान वैज्ञानिकों ने उक्त वायरस के जीनोम में बदलाव किया था। इसी प्रक्रिया में कोरोना वायरस की उत्पत्ति हुई होगी। असलियत जानने के लिए वूहान लैब के फॉरेंसिक डिटेल्स की गहन छानबीन होनी चाहिए। इससे कोरोना वायरस की उत्पत्ति का पता चल सकता है।

सोशल मीडिया का सहारा
बहुलीकर ने बताया कि कोरोना वायरस कहां से आया, इसे लेकर पिछले साल मार्च में दुनिया के कई वैज्ञानिकों व शोधकर्ताओं ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एक टीम बनाई। सुरक्षा वजहों से कुछ लोगों ने अपनी पहचान छिपाए रखी। हमारे अलावा भारत से एक रिसर्चर भी टीम का हिस्सा थे। हमने चीन ही नहीं दुनिया के अन्य देशों के डेटा का अध्ययन और रिसर्च किया।

सामने आएगा सच
बहुलीकर ने कहा कि हम खुश हैं कि डब्ल्यूएचओ ने हमारे शोध को स्वीकार किया। अन्य देशों के वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं ने भी इस दिशा में काम किया है। सबके शोध और नतीजे एक मंच पर आएंगे तो महामारी की उत्पत्ति का सच सामने आ सकता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

BJP के नए संसदीय बोर्ड और चुनाव समिति का गठन, गडकरी व शिवराज की छुट्टी, देखिए कौन-कौन नेता शामिलकिडनैंपिग के आरोपी हैं बिहार के कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह, सरेंडर वाले दिन ही ली शपथ, नीतीश बोले-मुझे जानकारी नहींदिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने लॉन्च किया ‘मेक इंडिया नंबर-1’ कैंपेन, पूछा - आजादी के 75 वर्ष बाद भी हम बाकी देशों से पीछे क्यों?सुप्रीम कोर्ट ने 'रेवड़ी कल्चर' के खिलाफ सभी पक्षों से मांगे सुझाव, 22 अगस्त तक दिया वक्तशिवमोगा तनाव पर कर्नाटक BJP नेता केएस ईश्वरप्पा का विवादित बयान- मुस्लिम यहां शांति से रहे या पाकिस्तान चले जाएंMumbai News: मुंबई में डेंगू, मलेरिया और Swine Flu का तांडव जारी, 7 महीने के भीतर स्वाइन फ्लू से 43 लोगों की मौतICC ने जारी किया '2023-27 FTP' का पूरा कार्यक्रम, देखिए टीम इंडिया का पूरा शेड्यूलकेरल कोर्टः यौन उत्पीड़न की शिकायत पहली नजर में नहीं टिकेगी, जब महिला ने 'यौन उत्तेजक' पोशाक पहनी हो
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.