इंसान को इंसानियत से मिलाने की कोशिश में जुटीं डॉ. संगीता

इंसान को इंसानियत से मिलाने की कोशिश में जुटीं डॉ. संगीता
इंसान को इंसानियत से मिलाने की कोशिश में जुटीं डॉ. संगीता

Nitin Bhal | Updated: 27 May 2019, 06:22:49 PM (IST) Mumbai, Mumbai, Maharashtra, India

पंढरपुर की डॉ. संगीता पाटील नि:स्वार्थ भाव से कर रहीं समाज की सेवा

 

अरुण लाल

मुंबई. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का मशहूर वाक्य है ‘स्वयं को जानने का सर्वश्रेष्ठ तरीका अपने आप को औरों की सेवा में डुबो देना है।’ समाज में बेहद असमानताएं हैं और ऐसे भी लोग हैं जिन्हें मदद की खास जरूरत होती है। कहा जाता है कि जो हाथ दूसरों की मदद के लिए उठते हैं वे प्रार्थना करने वाले होठों से भी पवित्र हैं। समाज में ऐसे ही कुछ लोग हैं जो दूसरों की मदद को ही अपने जीवन का लक्ष्य बनाए हैं। यह ऐसे लोग हैं, जो दूसरों के चेहरे पर मुस्कान बिखरने के लिए दिन-रात काम करते हैं। इनमें हम महाराष्ट्र के पंढरपुर की रहने वाली डॉ. संगीता पाटील का उदाहरण ले सकते हैं। गरीब लड़कियों, अनाथ बच्चों और बेसहारा बुजुर्गों के जीवन को बेहतर बनाने का काम 36 साल की डॉ. पाटील कर रही हैं। आज वे 110 एचआईवी पीडि़त बच्चों की आशा हैं। दर्जनों बेसहारा बुजुर्ग उन्हें देख कर ही अच्छा महसूस करने लगते हैं। सैकड़ों बच्चियों की मांएं डॉ. पाटील को देख कर आत्म विश्वास से भर उठती हैं। यह महिला डॉक्टर हजारों जरूरतमंदों का मुफ्त उपचार करती है। संगीता इसे समाज के प्रति अपना कर्तव्य मानती हैं। वे अपने आसपास की गरीब लड़कियों-लडक़ों की पढ़ाई के लिए स्टडी सेंटर चलाती हैं। ग्रामीण इलाकों में स्वास्थ्य शिविर लगाती हैं। महिलाओं को यह समझाने का भी पूरा प्रयास करती हैं कि बेटियां किसी भी मामले में बेटों से कम नहीं हैं। वे जल संरक्षण का काम भी करती हैं। इंसानियत का धर्म निभाती हैं। जहां भी जरूरत होती है, पहुंच जाती हैं। कहीं वे बेटी हैं, कहीं दीदी तो कहीं सखी।

एक वाकये ने झकझोर दिया

मध्यमवर्गीय परिवार में पली-बढ़ीं संगीता कॉलेज के समय कुछ कैंपों में गईं, जहां उन्होंने लोगों के दुख को करीब से महसूस किया। वे बताती हैं, एक प्रीग्नेंट महिला अस्पताल आईं, जिनके पास पहले से तीन बेटियां थीं। चौथी बार भी उन्हें बेटी हुई, तो उसने बच्ची को साथ ले जाने से इंकार कर दिया। परिवार उस बच्ची को स्वीकारने को तैयार नहीं था। वह मां रोते-बिलखते बच्ची को अनाथ आश्रम छोड़ गई। इस घटना ने मेरे भीतर के इंसान को झकझोर दिया। क्या मां इतनी मजबूर हो सकती है? क्या इतना कठिन है बेटी को पालना? मैंने तय किया कि बेटी बचाने के लिए जो संभव होगा, करूंगी। उन्होंने आसपास के इलाके में बेटी बचाओ आंदोलन शुरू किया।

एचआईवी पॉजिटिव बच्चों की काउंसलिंग

डॉ. संगीता एचआईवी पॉजिटिव बच्चों की काउंसलिंग करती हैं। वे बतातीं हैं, जब मैंने यह कार्य शुरू किया तो लोगों ने काफी विरोध किया। शुरू में परिवार का भी साथ नहीं मिला। पर, मैं पीछे नहीं मुड़ी। धीरे-धीरे लोगों की धारणा बदली। मेरे पति शीतल पाटील अब मेरे साथ हैं। यह देख कर मुझे बड़ा अफसोस होता है जब पढ़े-लिखे लोग भी एचआईवी पॉजिटिव बच्चों के साथ दोहरा बर्ताव करते हैं।

गरीब बच्चों के लिए स्टडी सेंटर

गरीब परिवारों के बच्चों को पढ़ाने के लिए संगीता ने स्टडी सेंटर बनाए हैं। वे हर किसी की मदद करती हैं। उन्होंने बताया, मैंने देखा कि लोगों का जीवन बहुत कठिन है, जबकि ईश्वर ने हमें बहुत कुछ दिया है। जब मैंने अपनी जेब टटोली तो पाई कि मेरे पास जितना है, उसमें से थोड़ा देकर जरूरतमंदों का जीवन सरल बना सकती हैं। जरूरी नहीं कि सहायता पैसे देकर की ही जाए, मदद का हर रूप सुंदर होता है। मेरा मानना है कि हर किसी के पास कुछ न कुछ ऐसा होता है, जो देकर वह किसी का जीवन बेहतर कर सकता है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned