कर्नाटक इफेक्ट: बंद करे चुनाव, केंद्र से ही नियुक्त करे मुख्यमंत्री : उद्धव ठाकरे

कर्नाटक इफेक्ट: बंद करे चुनाव, केंद्र से ही नियुक्त करे मुख्यमंत्री : उद्धव ठाकरे

Prateek Saini | Publish: May, 18 2018 02:51:13 PM (IST) Mumbai, Maharashtra, India

कर्नाटक में बीजेपी की सरकार बनने के बाद से देशभर में केंद्र सरकार विरोधी स्वर उठने लगे

(मुंबई): कर्नाटक में बीएस येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद विपक्षी पार्टियां जमकर इस बात का विरोध करने पर उतर आई है। विपक्षी पार्टियों के खुलकर विरोध करने से राजनीतिक संकट पैदा हो गया है। इस राजनीतिक संकट के बीच बीजेपी की पुरानी सहयोगी पार्टी शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाने पर लिया और कहा कि चुनाव कराना बंद कर देना चाहिए, ताकि प्रधानमंत्री मोदी बिना किसी बाधा के विदेशी दौरे पर जा सकें।

किया जा रहा लोकतंत्र का अनादर

कर्नाटक में बीजेपी की सरकार बनने के बाद से देशभर में केंद्र सरकार विरोधी स्वर उठने लगे। इसी बीच शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे ने केंद्र सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि केंद्र को राज्यपालों की तरह ही मुख्यमंत्रियों की भी नियुक्ति कर देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इस तरह से तो लोकतंत्र का अनादर किया जा रहा है। ठाकरे ने गुरुवार को देर शाम आयोजित हुई एक रैली में कहा कि अगर लोकतंत्र का अनादर ही किया जाना है तो एक लोकतांत्रिक देश कहने का क्या फायदा है? चुनाव कराना बंद कर देना चाहिए, ताकि प्रधानमंत्री मोदी बिना किसी बाधा के विदेशी दौरे पर जा सकें। केंद्र और महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की सहयोगी शिवसेना के प्रमुख ने कहा कि चुनाव कराना बंद कर दीजिए, ताकि समय और धन की बचत हो सके। मुख्यमंत्रियों को राज्यपालों की तरह नियुक्त कर दें।

देश भर में उठ रहा सियासी तूफान

गौरतलब है कि कर्नाटक में कांग्रेस और जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) ने 117 विधायकों के समर्थन की चिट्ठी राज्यपाल को सौंपी थी, लेकिन चुनाव परिणाम में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी बीजेपी को राज्यपाल ने सरकार बनाने का न्योता दिया और येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद की गुरुवार को शपथ भी दिला दी। बीजेपी के पास 104 सीट है और सरकार बनाने के लिए फिलहाल 112 सीटों की जरूरत है। राज्यपाल के फैसले के बाद से पूरे देश में सियासी तूफान उठा हुआ है। अब मामला सुप्रीम कोर्ट में है। जिसपर आज सुनवाई होगी। विपक्ष इसे लोकतंत्र की हत्या बता रही है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned