scriptFather-son did not reach Trombay police station to record statement | पिता-पुत्र बयान दर्ज कराने नहीं पहुचे ट्रांबे पुलिस थाने | Patrika News

पिता-पुत्र बयान दर्ज कराने नहीं पहुचे ट्रांबे पुलिस थाने


किरीट सोमैया व उनके बेटे ने लगाई अग्रिम जमानत याचिका, शिवसेना नेता ने कसा तंज
पूर्व सैनिक की शिकायत पर एफआइआर

मुंबई

Published: April 09, 2022 06:41:09 pm

मुंबई. देश के पहले विमान वाहक पोत आइएनएस विक्रांत को संग्रहालय में तब्दील करने के लिए जुटाए चंदे में कथित धोखाधड़ी मामले में गिरफ्तारी से बचने के लिए किरीट सोमैया व उनके बेटे नील ने सेशन कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका लगाई है। पूर्व सैनिक बबन भोसले की शिकायत पर ट्रांबे पुलिस थाने में सोमैया के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई है। दोनों को पूछताछ के लिए शनिवार को ट्रांबे पुलिस थाने बुलाया था गया था, मगर सोमैया नहीं पहुंचे। भाजपा नेता के वकील ने पुलिस को बताया कि जरूरी काम से सोमैया दिल्ली में हैं। इसलिए बयान दर्ज कराने वे आज नहीं आ सकते। वकील ने यह भी बताया कि सेशन कोर्ट में किरीट व नील की अग्रिम जमानत अर्जी पर सोमवार को सुनवाई होगी। शिवसेना के राज्यसभा सदस्य संजय राउत ने इस पर तंज कसा। उन्होंने कहा कि अग्रिम जमानत अर्जी तो चोर-डकैत लगाते हैं। अब देश द्रोही भी जमानत चाहते हैं। उन्हें बताना चाहिए कि आखिरी विक्रांत के नाम पर जुटाया पैसा कहां है? राउत ने हाल ही आरोप लगाया था कि सेव विक्रांत मुहिम के तहत 57 करोड़ रुपए का चंदा जमा किया गया था। सोमैया ने इसे महाराष्ट्र के राज्यपाल के पास जमा नहीं किया। राउत का आरोप है कि भाजपा नेता ने चंदे की अपने बेटे की कंपनी में लगा दी।

आइएनएस विक्रांत धोखाधड़ी केस
आइएनएस विक्रांत धोखाधड़ी केस

आरोप निराधार, जांच में सहयोग करेंगे
भाजपा के पूर्व सांसद सोमैया ने आरोपों को निराधार बताया है। उनका कहना है कि कहीं कोई गड़बड़ी नहीं हुई है। मैंने कुछ भी गलत नहीं किया है। जांच में पुलिस का सहयोग करूंगा। उनके वकील ने कहा कि सोमैया पहले से दिल्ली में हैं। पूछताछ के लिए पुलिस का नोटिस शुक्रवार तीन बजे मिला था। एफआइआर की कॉपी आज सुबह नौ बजे मिली। 11 बजे उन्हें थाने बुलाया गया था। इतने कम वक्त में कोई कैसे पहुंच सकता है। वकील ने पुलिस से अनुरोध किया है कि सोमैया को 13 अप्रेल के बाद कभी भी बुलाएं। वे जांच में सहयोग करेंगे।

1997 में रिटायर
भारत-पाकिस्तान के बीच 1971 की लड़ाई में अहम भूमिका निभाने वाला विमान वाहक पोत आइएनएस विराट 1997 में रिटायर हुआ। म्यूजियम के रूप में 2012 तक इसे रखा गया। इसके बाद 2014 में इसे स्क्रैप के रूप में बेच दिया गया। म्यूजियम के रूप में इसे संजोने के लिए 2013-14 में सेव विक्रांत मुहिम चलाई गई थी। चंदा जमा करने के लिए स्टेशनों पर दान-पात्र लगाए गए थे। भोसले का कहना है कि उन्होंने खुद 2000 रुपए चंदा दिया था।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करारInflation Around World : महंगाई की मार, भारत से ज्यादा ब्रिटेन और अमरीका हैं लाचारपंजाब में दिल्ली का विकास मॉडल, CM भगवंत मान का ऐलान- 15 अगस्त को राज्य को मिलेंगे 75 नए मोहल्ला क्लीनिकराहुल गांधी ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा - 'पैंगोंग झील के पास दूसरा पुल बना रहा चीन, सरकार सिर्फ निगरानी ही कर रही है'दो साल बाद अपनों के बीच पहुंचते ही आजम खान ने बयां किया दर्द, बोले- मेरे साथ जो-जो हुआ वो भूल नहीं सकतापहली बार Yogi आदित्यनाथ की तारीफ में बोले अखिलेश यादव 'यूपी में Technology'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.