ब्रम्होस जासूसी केस –तीन दिन के ट्रांजिट रिमांड पर लखनऊ ले जाया गया युवा वैज्ञानिक निशांत

ब्रम्होस जासूसी केस –तीन दिन के ट्रांजिट रिमांड पर लखनऊ ले जाया गया युवा वैज्ञानिक निशांत
file photo nishant

Prateek Saini | Publish: Oct, 09 2018 08:43:06 PM (IST) Nagpur, Maharashtra, India

यूपी एटीएस उसे लेकर लखनऊ और उसके घर रुड़की भी जाएगी,उसके पास से कई दस्तावेज बरामद हुए हैं...

(नागपुर,मुंबई): जासूसी के मामले में नागपुर से गिरफ्तार ब्रम्होस ऐयरोस्पेस सेंटर में कार्यरत युवा वैज्ञानिक निशांत अग्रवाल को मंगलवार को नागपुर के सेशन कोर्ट में पेश किया गया, जहां अदालत ने उसे तीन दिन की ट्रांजिट रिमांड पर यूपी एटीएस को सौंप दिया। निशांत पर आरोप है कि उसने मिसाइल की डिजाईन, स्केच, प्रोजेक्ट रिपोर्ट, तकनीकी जानकारियां साझा की हैं। यह पूरा मामला हनी ट्रैप से जुड़ा है। नकली फेक आईडी के माध्यम से पाकिस्तान की आइएसआइ ने उससे संपर्क किया, जिसके बाद वह हनी ट्रैप में फंस गया। यूपी एटीएस उसे लेकर लखनऊ और उसके घर रुड़की भी जाएगी। उसके पास से कई दस्तावेज बरामद हुए हैं।


लैपटॉप से मिला क्लासीफाइड डाटा

निशांत के लैपटॉप से ब्रह्मोस मिशन से जुड़ा ऐसा डाटा बरामद हुआ है, जो गोपनीय है और उसे किसी भी हाल में यूनिट से बाहर नहीं आना चाहिए था। निशांत को दो लड़कियों के फर्जी फेसबुक अकाउंट नेहा शर्मा तथा पूजा रंजन के जरिए फांसा गया। दोनों ही खातों का आईपी एड्रेस पाकिस्तान का है और दोनों ही फर्जी हैं। इसके बारे में निशांत अग्रवाल जानकारी देने से बच रहा है। उसने किसी केशव सिंह नामक व्यक्ति के नाम पर हॉटस्पॉट एक्टिव किया।

 

लैपटॉप स्क्रीन की रिकॉर्डिंग की जांच जारी

निशांत अग्रवाल के लैपटॉप की स्क्रीन रिकॉर्डिंग की जांच जा रही है, जो पूरी तरह सुरक्षित है। उसके लैपटॉप में ब्रम्होस मिसाइल व ब्रम्होस संस्थान से जुडी जानकारी पीडीएफ फ़ाइल के रूप में सुरक्षित नजर आई, जिनके पन्नों पर लाल रंग से सीक्रेट अंकित है। एटीएस ये जानने की कोशिश कर रही है कि निशांत अब तक कितने दस्तावेज पाकिस्तान भेज चुका है। निशांत अग्रवाल रुड़की का रहने वाला है और उसने एनआईटी कुरुक्षेत्र से पढ़ाई की है। ब्रह्मोस मिशन से निशांत 2013 में जुड़ा था। इससे पहले वह इंडियन ऑयल में काम करता था। महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश एटीएस ने ब्रह्मोस के वर्धा रोड केंद्र से संयुक्त अभियान निशांत अग्रवाल को गिर‍फ्तार किया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned