scriptLast year more than 77 thousand scams in banks, misappropriation of 60 | बैंकों में पिछले साल 77 हजार से ज्यादा घोटाले, 60,530 करोड़ की हेराफेरी | Patrika News

बैंकों में पिछले साल 77 हजार से ज्यादा घोटाले, 60,530 करोड़ की हेराफेरी

आरटीआइ से खुलासा
फर्जीवाड़े में 2729 कर्मचारी शामिल

मुंबई

Published: June 07, 2022 07:21:34 pm

नागपुर. देश के विभिन्न बैंकों में पिछले साल (2021-22) 77,654 घोटाले हुए। इन घोटालों में 60,530 करोड़ रुपए की हेरीफेरी की गई। इनमें सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के बैंक भी शामिल हैं। यह खुलासा भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) ने सूचना का अधिकार कानून (आरटीआइ) RTI के तहत दाखिल अर्जी के जवाब में किया है। ये आरटीआइ अभय कोलारकर ने लगाई थी। आकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि गत वर्ष हर दिन 212 घोटाले हुए। रोजाना औसतन 165 करोड़ रुपए की अनियमितता हुई। इन घोटालों में बैंकों के 2,729 कर्मचारी संलिप्त पाए गए। संबंधित कर्मचारियों के खिलाफ की गई कार्रवाइ और रिकवरी हुई या नहीं, इस बारे में आरबीआइ ने कोई जानकारी नहीं दी। यह भी नहीं बताया गया है कि ऑनलाइन बैंकिंग, लोन आदि में बैंकों को कितना नुकसान हुआ। बैंकों के खिलाफ आरबीआइ को सबसे ज्यादा 750 शिकायतें हर दिन बैंकिंग अंबड्समन स्कीम, 2006 के तहत मिलीं। इसके अलावा उपभोक्ता जागरूकता व संरक्षण प्रकोष्ठ को अप्रेल 2021 से मार्च 2022 के बीच 23 हजार से ज्यादा शिकायतें मिलीं। केंद्रीय बैंक ने यह जरूर बताया कि बैंकों ने पिछले साल 69 शाखाएं बंद कीं जबकि ं2,600 शाखाएं विलय की गईं।

फर्जीवाड़े में 2729 कर्मचारी शामिल
फर्जीवाड़े में 2729 कर्मचारी शामिल

ऑनलाइन धोखाधड़ी बढ़ी
रिजर्व बैंक ने घोटाले की रकम का वर्गीकरण नहीं किया है। इससे पता नहीं चल पाया कि कितनी रकम लोन में डूबी या साइबर सेंधमारों ने कितनी चपत लगाई। जानकारों का कहना है कि ऑनलाइन online fraud बैंकिंग सेवाओं की मांग दिन बद दिन बढ़ रही है। सुरक्षा उपायों के बावजूद डिजिटल भुगतान में जोखिम बढ़ा है। साइबर चोर सेंधमारी के नए-नए तरीके आजमा रहे हैं। किसी भी तरह के लेन-देन में आम लोगों को सावधानी बरतनी चाहिए। सोशल मीडिया पर लुभावने ऑफर से सावधान रहना चाहिए।

फास्ट सर्विस में गलती
हाई कोर्ट High Court की वकील सिद्ध विद्या ने कहा कि आजकल फास्ट वित्त सेवा पर जोर है। कम से कम समय में फंड ट्रांसफर या भुगतान करने की होड़ है। अनजाने में गलतियां हो जाती हैं। एक व्यक्ति का पैसा दूसरे के खाते में जमा हो जाता है। दिक्कत यहीं शुरू होती है। लाभार्थी को रकम नहीं मिलती है तो वह बैंक से शिकायत करता है। गलत खाते में क्रेडिट credit to account (जमा) रकम वापस लाने में समय लगता है। इसके लिए कर्मचारियों को पापड़ बेलने पड़ते हैं। कभी-कभार उक्त रकम नहीं भी मिलती है। कर्मचारी को अपनी जेब से भरना पड़ता है।

कम हुई धोखाधड़ी
आरबीआइ RBI के मुताबिक 2019-20 के दौरान 84,545 घोटालों में कमर्शियल बैंकों commercial banks के 1.85 लाख करोड़ रुपए की चपत लगी थी। 1783.22 करोड़ रुपए के घोटालों में बैंकों के 2,668 कर्मचारी संलिप्त पाए गए थे। अंबड्समन को ग्राहकों की 2.14 लाख शिकायतें मिली थीं। पिछले साल सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में 40,295 करोड़ रुपए के घपले हुए जबकि 2020-21 में यह रकम 81,921 करोड़ रुपए थी। पिछले दो साल के मुकाबले 2021-22 में घोटाले की रकम 51 प्रतिशत कम हुई।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: अयोग्यता नोटिस के खिलाफ शिंदे गुट पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, सोमवार को होगी सुनवाईMaharashtra Political Crisis: एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने पर दिया बड़ा बयान, कहीं यह बातBypoll Result 2022: उपचुनाव में मिली जीत पर सामने आई PM मोदी की प्रतिक्रिया, आजमगढ़ व रामपुर की जीत को बताया ऐतिहासिकRanji Trophy Final: मध्य प्रदेश ने रचा इतिहास, 41 बार की चैम्पियन मुंबई को 6 विकेट से हरा जीता पहला खिताबKarnataka: नाले में वाहन गिरने से 9 मजदूरों की दर्दनाक मौत, सीएम ने की 5 लाख मुआवजे की घोषणाअगरतला उपचुनाव में जीत के बाद कांग्रेस नेताओं पर हमला, राहुल गांधी बोले- BJP के गुड़ों को न्याय के कठघरे में खड़ा करना चाहिए'होता है, चलता है, ऐसे ही चलेगा' की मानसिकता से निकलकर 'करना है, करना ही है और समय पर करना है' का संकल्प रखता है भारतः PM मोदीSangrur By Election Result 2022: मजह 3 महीने में ही ढह गया भगवंत मान का किला, किन वजहों से मिली हार?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.