LL.B. का 71.59 तो LL.M. का 36.41 प्रतिशत रहा रिजल्ट

LL.B. का 71.59 तो LL.M. का 36.41 प्रतिशत रहा रिजल्ट

Rohit Kumar Tiwari | Updated: 22 Jul 2019, 10:33:29 AM (IST) Mumbai, Mumbai, Maharashtra, India

  • मुंबई यूनिवर्सिटी की वेबसाइट पर छात्र देख सकते हैं परिणाम
  • 2 हजार और 76 छात्र पास हुए

मुंबई. मुंबई यूनिवर्सिटी के एलएलबी डिग्री के तीन वर्षीय पाठ्यक्रम के सत्र 06 और एलएलएम 2 वर्ष के कार्यक्रम सत्र 01 जैसे दोनों पाठ्यक्रमों के परिणामों की घोषणा की गई है। छात्र अपने रिजल्ट को मुंबई यूनिवर्सिटी की आधिकारिक वेबसाइट www.mumresults.in देख सकते हैं। तीन वर्षीय एलएलबी पाठ्यक्रम सत्र- VI परीक्षा के लिए कुल 3 हजार 778 छात्रों ने परीक्षा में शिरकत की थी, जिनमें से 2 हजार और 76 छात्र पास हुए हैं। बाकि परिणाम 71.59 प्रतिशत रहा है। वहीं एलएलएम दो वर्षीय कोर्स सत्र -1 के लिए 401 छात्रों ने परीक्षा दी थी, जिसमें से सिर्फ 146 छात्र ही पास हुए हैं और इनका परिणाम प्रतिशत 36.41 प्रतिशत रहा है। वहीं मुंबई यूनिवर्सिटी की ओर से और एलएलबी पांच वर्षीय कोर्स सत्र के रिजल्ट की घोषणा जल्द ही कि जाएगी, जिसके लिए छात्रों को बेसब्री से इंतजार है।


सभी की सक्रिय भागीदारी
परिणाम प्रक्रिया को केवल 30 दिनों में परीक्षा से 45 दिनों के भीतर परिणाम घोषित करने की समय सीमा है, लेकिन नियोजन और प्रौद्योगिकी के प्रभावी उपयोग से केवल 30 दिनों के लिए परिणाम घोषित करने का लक्ष्य यूनिवर्सिटी से संबद्ध कॉलेजों के प्रिंसिपल और प्रोफेसरों की सक्रिय भागीदारी के साथ प्राप्त हो सका है ।


बायोमेट्रिक का नया प्रयोग
लॉ विषयों सभी उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन ऑनस्क्रीन मार्केटिंग (ओएसएम) के आधार पर मॉडरेशन किया जाता है। लेकिन इस तकनीक को बायोमेट्रिक एक्सेस के लिए प्रयोगात्मक नवीन तकनीकों का संयोजन दिया गया है। विधि संकाय के लिए प्रायोगिक आधार पर बायोमेट्रिक एक्सेस तकनीक का उपयोग करते समय सभी सावधानी बरती गईं। इस तकनीक के कारण, उत्तर-तालिका मूल्यांकन प्रक्रिया को समयबद्ध उद्देश्यों के कारण मोटे तौर पर विकेंद्रीकृत किया गया था।


बायोमेट्रिक एक्सेस गर्व का विषय
बायोमेट्रिक एक्सेस जैसी नवीन प्रयोगात्मक प्रौद्योगिकियों का उपयोग निश्चित रूप से गर्व का विषय है और सभी आवश्यक प्रौद्योगिकी का सही उपयोग करने के लिए मुंबई यूनिवर्सिटी परीक्षा विभाग की क्षमता को साबित करता है । - डॉ. सुहास पेडणेकर , कुलपति , मुंबई यूनिवर्सिटी


सभी के साथ से सफलता
संबद्ध कॉलेजों के प्राचार्य और प्रोफेसरों की सक्रिय भागीदारी के साथ-साथ उत्तर पुस्तिका के मूल्यांकन के लिए बायोमेट्रिक एक्सेस तकनीक का सफल उपयोग सफलता का विषय है ।

- डॉ. विनोद पाटील, निदेशक, परीक्षा और मूल्यांकन बोर्ड

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned