Maha News: कैसे सुधरेगा मुंबई का स्वास्थ्य , सिर्फ 20 प्रतिशत निधी हुआ खर्च

मुंबई मनपा(Municiple Corporation of Greater Mumbai) का सालाना बजट 30 हजार करोड़ रुपए( 30 Thausand Crore Rupees) है। वर्ष 2018 -19 के बजट में लगभग 3601 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान स्वास्थ्य विभाग(BMC HEALTH DEPARTMENT) के लिए किया गया था। नया बजट(BMC BUDGET) आने वाला है। जबकि पिछले बजट का 20 प्रतिशत अर्थात लगभग 700 करोड़ रूपये ही खर्च हुआ है।

मुंबई. मुंबई के लोगों को स्वास्थ्य सेवा देना का अपना कर्तव्य मुंबई मनपा की ओर से सही तरीके से नहीं किया जा रहा है। इस वर्ष 2019-20 के लिए स्वास्थ्य विभाग के प्रस्ताव में यह खुलासा हुआ है। मनपा ने स्वास्थ्य सेवा के लिए निर्धारित बजट में से मात्रा 20 प्रतिशत निधी ही खर्च किया है। यह खुलासा होते ही विपक्ष आक्रामक हो गया ,मनपा में विपक्ष नेता रवि राजा ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत अधिकारियों की उदासीनता दिखाई दे रही है। इसलिए उनके खिलाफ कार्रवाई और स्वास्थ्य विभाग से संबंधित श्वेतपत्रिका निकाली जाए।
गौरतलब है कि मुंबई मनपा का सालाना बजट 30 हजार करोड़ रुपए है। वर्ष 2018 -19 के बजट में लगभग 3601 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान स्वास्थ्य विभाग के लिए किया गया था।नया बजट आने वाला है। जबकि पिछले बजट का 20 प्रतिशत अर्थात लगभग 700 करोड़ रूपये ही खर्च हुआ है।

मनपा के स्वास्थ्य विभागा की ओर से चलाये जा रहे अस्पताल और दवाखाने में इलाज के लिए लाखों की संख्या में मरीज आते हैं। इन सभी मरीजों को लगने वाली दवाईयां और अन्य सेवा देने के लिए मनपा की ओर से खर्च का प्रावधान है।

Maha News: कैसे सुधरेगा मुंबई का स्वास्थ्य , सिर्फ 20 प्रतिशत निधी हुआ खर्च

हालही में मनपा सभागृह में रविराजा ने मरीजों को दवाईयां उपलब्ध न होने का मामला उठाया था। इस दौरान सभी दलों के नगरसेवकों ने स्वास्थ्य विभाग को जमकर फटकार लगाई। दवाईयों का स्टॉक खत्म हो जाने पर प्रशासन की नींद टूटती है। उसके कारण दवाईयों की नकली कमी निर्माण होती है। मरीजों के रिश्तेदारों को निजी दूकान से महंगी दर की दवाईयां खरीदनी पड़ती है। रवि राजा ने कहा कि सायन अस्पताल के पुनर्विकास के लिए जनवरी 2019 को निविदा निकाली गई। अब एक वर्ष बीत जाने के बाद इसे रद्द कर नया टेंडर निकाला जा रहा है। अगर ऐसा हुआ तो सायन अस्पताल का पुनर्विकास कैसे होगा। स्वास्थ्य विभाग में मनमानी कार्यभार चालू है। इसलिए जिम्मेदार अधिकारियों पर कार्रवाई के रूप में उनका वेतन रोका जाना जरुरी है

Show More
Ramdinesh Yadav
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned