Maharashtra: रेल मंत्री को उप-मुख्यमंत्री की चिट्ठी, प्रवासी मजदूरों के लिए मुंबई-पुणे से चलाएं स्पेशल ट्रेन

उप-मुख्यमंत्री Ajeet Pawar ने लिखा है कि लॉकडाउन के चलते प्रवासी मजदूर सबसे ज्यादा परेशान हैं। काम न होने के चलते वे अपनी जरूरतें पूरी नहीं कर पा रहे। चूंकि वे अपने गांव लौट नहीं पा रहे, लिहाजा मजदूरों के मन में आक्रोश है। वे बेसब्री से लॉकडाउन (lockdown) खत्म होने का इंतजार कर रहे हैं। तीन मई के बाद ट्रेन सेवा नहीं चलाई गई तो मजदूरों का आक्रोश सड़कों पर फूट पड़ सकता है।

By: Basant Mourya

Updated: 23 Apr 2020, 07:04 PM IST

मुंबई. तमाम उपायों के बावजूद महाराष्ट्र (Maharashtra) में कोरोना महामारी (Covid-19) पांव पसारती जा रही है। संक्रमितों के उपचार की व्यवस्था के साथ ही सरकार राज्य की अर्थव्यवस्था को गति देने का प्रयास कर रही है। लॉकडाउन के चलते राज्य में लाखों प्रवासी मजदूर फंसे हैं। राज्य सरकार चाहती है कि तीन मई को लॉकडाउन खत्म होने के बाद केंद्र सरकार मुंबई (Mumbai) और पुणे (Pune) से विशेष ट्रेन चलाए ताकि प्रवासी मजदूर अपने प्रदेश-गांव लौट सकें। उप-मुख्यमंत्री अजीत पवार ने इसके लिए रेल मंत्री पीयूष गोयल (Railway Minister) को चिट्ठी लिखी है।

पवार ने रेल मंत्री (Piyush Goyal) को बताया है कि लॉकडाउन के चलते मजदूरों के पास काम नहीं है। राज्य सरकार उनके रहने-खाने का इंतजाम कर रही है। लेकिन, यह मजदूर लॉकडाउन के बाद अपने वतन-प्रदेश लौटना चाहते हैं। काम के अभाव में मजदूरों के मन में भारी आक्रोश है। वे बेसब्री से लॉकडाउन खत्म होने का इंतजार कर रहे हैं। पवार ने यह भी लिखा है कि यदि लॉकडाउन के बाद गांव जाने की सहूलियत नहीं मिली तो मजदूरों का गुस्सा सड़कों पर फूट सकता है। इससे कानून-व्यवस्था बिगड़ सकती है। इसलिए प्रवासी मजदूरों के लिए विशेष ट्रेन चलाने पर गंभीरता से विचार करें।

उल्लेखनीय है कि हाल ही में मुंबई के बांद्रा (Bandra) इलाके में लॉकडाउन की धज्जियां उड़ाते हुए डेढ़ हजार से ज्यादा मजदूर जमा हो गए थे। ये सभी गांव जाने के लिए ट्रेन की मांग कर रहे थे। समझाने से नहीं माने तो मजदूरों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज तक करना पड़ा। इस पर राजनीति भी खूब हुई। विपक्षी दल भाजपा (BJP) ने मजदूरों के आक्रोश को राज्य सरकार की विफलता करार दिया। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thakeray) ने मजदूरों को भरोसा दिया कि सरकार उनके रहने-खाने का इंतजाम करेगी। मुख्यमंत्री भी प्रवासी मजदूरों को उनके गांव भेजने के लिए विशेष ट्रेन चलाने का अनुरोध प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से कर चुके हैं।

Show More
Basant Mourya
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned