कांग्रेस चाहती है सनातन संस्था पर लगे पाबंदी, शिवसेना बोली-रोक लगाने से नहीं होगा समाधान

  • हिंदुत्व के मुद्दे पर महा विकास आघाडी सरकार में खींचतान
  • कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हुसैन दलवाई ने मुख्यमंत्री को लिखी चिट्ठी

मुंबई. कट्टर हिंदुत्व के लिए चर्चित सनातन संस्था को लेकर सत्ताधारी कांग्रेस और शिवसेना आमने-सामने हो गई हैं। कांग्रेस ने सनातन संस्था पर रोक लगाने की मांग की है। दूसरी तरफ शिवसेना ने यह कहते हुए सनातन संस्था पर रोक लगाने से इंकार कर दिया है कि पाबंदी लगाने से समस्या का समाधान नहीं होगा। हिंदुत्व की समर्थक शिवसेना ने एक तरह से सनातन संस्था का बचाव किया है। दूसरी तरफ सरकार में शामिल राष्ट्रवादी कांग्रेस (एनसीपी) इस मामले में चुप्पी साधे हुए है। उल्लेखनीय है कि राज्य की सत्ताधारी महाराष्ट्र विकास आघाडी सरकार में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी शामिल हैं।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हुसैन दलवाई ने सनातन संस्था पर रोक लगाने की मांग मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से की है। दलवाई ने मुख्यमंत्री को लिखी चिट्ठी में बताया है कि यह संस्था कई हिंसक घटनाओं में शामिल रही है। राज्य में आपसी भाईचारा का माहौल बनाने के लिए इस संस्था पर रोक लगाई जानी चाहिए। हालांकि मुख्यमंत्री ने दलवाई की चिट्ठी पर कोई जवाब नहीं दिया है। शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि सनातन संस्था पर रोक लगाने से कोई फायदा नहीं होगा।

आरोपों की चल रही जांच
वामपंथी विचारक नरेंद्र दाभोलकर और गोविंद पानसरे की हत्या के मामले में सनातन संस्था से जुड़े लोग संदेह के दायरे में हैं। जांच-पड़ताल के दौरान पुलिस ने संस्था के कुछ लोगों को गिरफ्तार भी किया था। मामले की जांच अब भी चल रही है। कांग्रेस नेता ने चिट्ठी में इसका भी हवाला दिया है।

हिंदुत्व पर कायम
उल्लेखनीय है कि महा विकास आघाडी सरकार चलाने के लिए तीनों दलों ने न्यूनतम साझा कार्यक्रम तैयार किया है। तीनों दलों के बीच धर्मनिरपेक्ष तरीके से सरकार चलाने पर सहमति बनी है। विधानसभा अध्यक्ष और विपक्ष के नेता की नियुक्ति के बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दो टूक कहा कि शिवसेना हिंदुत्व के मुद्दे पर कायम है। मुख्यमंत्री की यह बात कांग्रेस और एनसीपी नेताओं को बेहद खली। हालांकि, सरकार में शामिल दोनों दलों के नेता हिंदुत्व के मुद्दे पर बयानबाजी से बचते रहे।

Basant Mourya
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned