महाराष्ट्र में कोरोना मरीजों की संख्या 122 तक पहुंची, कफ्र्यू के चलते सड़कों से भीड़ गायब

सरकार के सख्त उपायों के बावजूद महाराष्ट्र (Maharashtra) में कोरोना (Covid-19) मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। मंगलवार शाम से बुधवार दोपहर के बीच कोरोना के 19 नए मरीज पाए गए हैं। इससे राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या 122 तक पहुंच गई है। कोरोना का फैलाव रोकने के लिए राज्य में कफ्र्यू ( curfew) लागू है। बुधवार को सड़कों पर भीड़ नहीं दिखी। दूध, दवाई, सब्जी जैसी दुकानों पर जरूरी सामान की खरीद के लिए गए लोग एक दूसरे से सुरक्षित दूरी बनाए लाइन में खड़े रहे।

मुंबई. कोरोना वायरस का फैलाव रोकने के लिए महाराष्ट्र में कफ्र्यू (curfew) लागू है। सख्त कार्रवाई बाबत सरकार की चेतावनी का असर दिखा। बुधवार को सड़कों-मंडियों में लोगों की भीड़ नजर नहीं आई। दूध, सब्जी और दवाई की दुकान खुली रहीं। एक दूसरे से सुरक्षित दूरी बना कर लाइन में खड़े लोग सामान खरीदने के लिए अपनी बारी का इंतजार करते दिखे। महाराष्ट्र में लॉकडाउन (lockdown) के बावजूद कोरोना मरीजो की संख्या बढ़ रही है। राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या 122 तक पहुंच गई है। सांगली (Sangli) जिले में एक ही परिवार के पांच लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। महामुंबई क्षेत्र (MMR) में भी 6 नए मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने यह जानकारी आज दोपहर दी।
टोपे (Rajesh Tope) ने बताया कि मुंबई (Mumbai) और पुणे (Pune) के अस्पतालों (Hospitals) में भर्ती 17 मरीज ठीक हो चुके हैं। लगातार दूसरे दिन इन मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कोरोना वायरस को मात देने वाले लोगों को आज शाम तक अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा सकता है। वैसे घर जाने के बाद इन सभी को 14 दिन के क्वारेंटाइन का पालन करना होगा। टोपे ने कहा कि इन मरीजों के ठीक होने से सरकार का हौसला बढ़ा है। स्वास्थ्य विभाग में भरोसा जगा है कि हम कोरोना वायरस पर जीत हासिल कर सकते हैं। उन्होंने राज्य के सभी लोगों से अपील की कि घर में ही रहें ताकि कोरोना के संक्रमण को रोका जा सके।

सभी लोग करें नियमों का पालन
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा लॉकडाउन के बाद राज्य में कफ्र्यू सभी की भलाई के लिए लागू किया गया है। सभी को कफ्र्यू से जुड़े नियमों का पालन करना चाहिए। घर में रहते हुए सभी को कोरोना नियंत्रण में सरकार की मदद करनी चाहिए। सोशल डिस्टेंसिंग भी बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि मंगलवार के मुकाबले बुधवार को भीड़ की शिकायतें कम मिली हैं। लेकिन, हम उम्मीद कर रहे हैं कि लोग खुद नियमों का पालन करें ताकि पुलिस को सख्ती बरतने का मौका नहीं मिले।

जरूरी सामान का भरपूर स्टॉक
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि राज्य में जरूरी सामान का भरपूर स्टॉक (Stock) है। सभी को उनकी जरूरत का सामान मिलेगा। लेकिन, सामान खरीदने के लिए लोगों को दुकानों पर भीड़ नहीं जमा करनी चाहिए। इससे लोग आसानी से कोरोना का शिकार बन सकते हैं। मंगलवार को सख्त नजर आए मुख्यमंत्री के तेवर बुधवार को थोड़ा नरम दिखे। उन्होंने पुलिस से कहा कि लोगों के खिलाफ लाठी नहीं भाजें। यदि कहीं भीड़ है तो लोगों को प्यार से समझाएं कि आप अपनी और अपनों का कुशल-क्षेम चाहते हैं तो सीधे घर जाएं।

Basant Mourya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned